गुरुवार, 8 सितंबर 2011

मन के मुताबिक चलने से .....!!!












आराम
से
थकने के बारे में
सोचा है कभी
इससे भी थक जाता है मन
हर चीज से थकान का अनुभव होता है
नहीं थकते हैं हम सिर्फ
मन के मुताबिक चलने से .....!!!

कभी खुश रहने की
अभिलाषा पूरी नहीं होती
खुशी हमेशा जाने क्‍यूं
दूर ही रहती है
कभी पा लेना
इच्छित वस्‍तु
खुशी को पाना क्षणभंगुर सा
अगले ही पल
बढ़ जाती है खुशी
दूसरे पड़ाव पर
वह नित नये
ठिकाने बदलती रहती ह‍ै
और हम
उसकी तलाश में हो लेते हैं ...!!!

32 टिप्‍पणियां:

  1. अगले ही पल
    बढ़ जाती है खुशी
    दूसरे पड़ाव पर
    वह नित नये
    ठिकाने बदलती रहती ह‍ै
    और हम
    उसकी तलाश में हो लेते हैं ...!!!


    सुन्दर अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  2. नहीं थकते हैं हम सिर्फ
    मन के मुताबिक चलने से .....!!!

    बहुत सुन्दर पंक्तियाँ....अभिलाषाएं भी कभी पूरी नहीं होतीं...ज़िन्दगी हो जाती है.

    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  3. आराम से
    थकने के बारे में
    सोचा है कभी
    इससे भी थक जाता है मन
    बहुत सच लिखा आपने मन के मुताबिक चलने तो ही अच्छा है।

    उत्तर देंहटाएं
  4. मन के मुताबिक कही गई बात ने कविता को उच्च स्तर प्रदान किया है।

    उत्तर देंहटाएं
  5. कभी खुश रहने की
    अभिलाषा पूरी नहीं होती
    खुशी हमेशा जाने क्‍यूं
    दूर ही रहती है...

    It's true ! Quite often I have experienced that.

    .

    उत्तर देंहटाएं
  6. आराम से
    थकने के बारे में
    सोचा है कभी
    इससे भी थक जाता है मन
    हर चीज से थकान का अनुभव होता है
    नहीं थकते हैं हम सिर्फ
    मन के मुताबिक चलने से .....!!!

    सार्थक पंक्तियां!!

    उत्तर देंहटाएं
  7. गहरा यतार्थ समेटे ये पोस्ट लाजवाब है.......मन को इसीलिए चंचल कहा गया|

    उत्तर देंहटाएं
  8. वह नित नये
    ठिकाने बदलती रहती ह‍ै
    और हम
    उसकी तलाश में हो लेते हैं ...!!!

    बढ़िया रचना.....:)

    उत्तर देंहटाएं
  9. सहजी है मन की मुताबिक़ ही काम करना चाहिए ... पर कई बार ये संभव भी नहीं होता ....

    उत्तर देंहटाएं
  10. उसकी तलाश में हो लेते हैं ...!!!बेहतरीन पंक्तिया....

    उत्तर देंहटाएं
  11. खुश रहने के लिये मन नये ठिकाने ढूढ़ता है, सार्थक अभिव्यक्ति।

    उत्तर देंहटाएं
  12. खुशियाँ सच ही क्षण भंगुर ही लगती हैं ... मन की सही स्थिति को कहती अच्छी प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  13. कुछ तो अपने मन का भी करना पड़ता है. वरना मन नाराज़ हो जाता है.

    उत्तर देंहटाएं
  14. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  15. गहरी अभिव्यक्ति . सुन्दर रचना

    उत्तर देंहटाएं
  16. ख़ुशी की तलाश में मन के भटकाव के गहन चिंतन को आपकी कविता ने बखूबी जीया है !
    आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  17. खुशी तो भीतर होती है और हम बाहर खोजते हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  18. आराम से
    थकने के बारे में
    सोचा है कभी
    इससे भी थक जाता है मन
    हर चीज से थकान का अनुभव होता है
    नहीं थकते हैं हम सिर्फ
    मन के मुताबिक चलने से .....!!!
    अपने मन का दिन भर में कोई काम हो जाए ,मन विश्राम हो जाए .और पसंदीदा काम आदमी दिन भर भी करे तो थकान पास न फटके .
    अच्छी रचना .बधाई !

    उत्तर देंहटाएं
  19. गहरी अभिव्यक्ति . सुन्दर रचना

    उत्तर देंहटाएं
  20. शब्द-शब्द संवेदनाओं से भरी रचना ....

    उत्तर देंहटाएं
  21. खुशी को पाना क्षणभंगुर सा
    अगले ही पल
    बढ़ जाती है खुशी
    दूसरे पड़ाव पर
    वह नित नये
    ठिकाने बदलती रहती

    गहरी अभिव्यक्ति . सुन्दर रचना

    उत्तर देंहटाएं
  22. बहुत गहरी अभिव्यक्ति| धन्यवाद|

    उत्तर देंहटाएं
  23. तलाश जारी रहे!
    आशीष
    --
    मैंगो शेक!!!

    उत्तर देंहटाएं
  24. गहन चिंतन... सार्थक कविता...
    सादर साधुवाद...

    उत्तर देंहटाएं
  25. बहुत सुन्दर लिखा है आपने ! गहरे भाव और अभिव्यक्ति के साथ ज़बरदस्त प्रस्तुती!

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
मन को छू लें वो शब्‍द अच्‍छे लगते हैं, उन शब्‍दों के भाव जोड़ देते हैं अंजान होने के बाद भी एक दूसरे को सदा के लिए .....