मंगलवार, 6 सितंबर 2011

अश्‍कों का खारापन ...













(1)
उसकी बातों में,
तल्‍खी है
यक़ीनन उसने
प्‍यार में शिकस्‍त
खाई होगी ....
(2)
दर्द को पिया था
जब उसने
अश्‍कों का खारापन
उसके लबों को
नमकीन कर गया था ....
(3)
बंजर जमीन
बीज का निष्‍प्राण होना
कुरेदती कैसे
अन्‍तर्मन अपना,
नमी खो चुकी थी वो अपनी ...

37 टिप्‍पणियां:

  1. अंतर्मन की ज़मीन नमी खो दे तो प्रत्येक खुशी ख़ाली हो जाती है. सुंदर कविता.

    उत्तर देंहटाएं
  2. सभी क्षणिकाएँ स्वयं को अभिव्यक्त करने में सक्षम ....

    उत्तर देंहटाएं
  3. उसके लबों को
    नमकीन कर गया था ....
    सुन्दर भाव बहुत ही गहरे जज्बात

    उत्तर देंहटाएं
  4. अश्‍कों का खारापन
    उसके लबों को
    नमकीन कर गया था ....

    खूबसूरत प्रस्तुति ||
    बधाई ||

    उत्तर देंहटाएं
  5. सभी क्षणिकाएँ बहुत सुन्दर लगीं धन्यवाद|

    उत्तर देंहटाएं
  6. तीनो ही बहुत खुबसूरत ...अपनी बात कहने में सक्षम

    उत्तर देंहटाएं
  7. बेजोड़ क्षणिकाएं...बधाई स्वीकारें

    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  8. सभी क्षणिकाएं बहुत सुंदर ...

    उत्तर देंहटाएं
  9. uff !!!
    pahli wwli rachna to dil men hi utar gyi.....
    gajab !!!!

    उत्तर देंहटाएं
  10. उसकी बातों में,
    तल्‍खी है
    यक़ीनन उसने
    प्‍यार में शिकस्‍त
    खाई होगी ....

    सही पहचाना और तीनो क्षणिकाओं से बहुत सुंदर भाव प्रकट हुए हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  11. सदा जी आपकी कविताओं में सोचने को बहुत कुछ होता है , विचारों की भरमार होती है पंक्तियों में . प्रवाह बनाये रहे बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  12. उसकी बातों में,
    तल्‍खी है
    यक़ीनन उसने
    प्‍यार में शिकस्‍त
    खाई होगी ....
    Ye bahut achhee lagee....waise sabhi kshanikayen behad sundar hain!

    उत्तर देंहटाएं
  13. दर्द को पिया था
    जब उसने
    अश्‍कों का खारापन
    उसके लबों को
    नमकीन कर गया था ....
    बहुत सुन्दर

    उत्तर देंहटाएं
  14. उसकी बातों में,
    तल्‍खी है
    यक़ीनन उसने
    प्‍यार में शिकस्‍त
    खाई होगी ....

    बहुत खूबसूरत........कितना सच है इसमें.......शानदार |

    वक़्त मिले तो हमारे ब्लॉग पर भी आयें|

    उत्तर देंहटाएं
  15. अंतर्मन पर ध्वनित होती क्षणिकाएं!! सार्थक॥

    उत्तर देंहटाएं
  16. बेहद प्रभावी है सभी क्षणिकाएं ... दूसरी वाली तो विशेष पसंद आई ...

    उत्तर देंहटाएं
  17. बंजर जमीन
    बीज का निष्‍प्राण होना
    कुरेदती कैसे
    अन्‍तर्मन अपना,
    नमी खो चुकी थी वो अपनी ..

    Very appealing lines Sada ji.

    .

    उत्तर देंहटाएं
  18. बहुत खूब .......बेहतरीन क्षणिकाएँ

    उत्तर देंहटाएं
  19. सभी क्षणिकाएं बहुत सुंदर ...

    उत्तर देंहटाएं
  20. बेहतरीन ....सीधे अंतस में उतरती रचना

    उत्तर देंहटाएं
  21. बहुत खुबसूरत बेहतरीन क्षणिकाएँ.....

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
मन को छू लें वो शब्‍द अच्‍छे लगते हैं, उन शब्‍दों के भाव जोड़ देते हैं अंजान होने के बाद भी एक दूसरे को सदा के लिए .....