मंगलवार, 2 अप्रैल 2013

कुछ टूटने से पहले ....

उसने मुझसे इक दिन
भीगी आँखों से कहा
ये मुहब्‍बत भी
बहुत बुरी शय होती है
किसी और की खबर
रखते-रखते
खुद से बेखबर हो जाती है
...

कुछ टूटने से पहले
आवाज हो
ये जरूरी तो नहीं
तुमने देखा तो होगा
फूलों का खिलना
और बिखर जाना चुपके से!!!
....

37 टिप्‍पणियां:

  1. मुहब्बत ने सच ही
    खुद से बेखबर कर दिया
    जब दिल टूटा तो
    उसकी कुछ खबर भी न हुई ॥

    बेहतरीन क्षणिकाएं

    उत्तर देंहटाएं
  2. उतर गयीं दिल के भीतर...
    आपकी ये पंक्तियाँ भी...

    चुपके से...

    ~सादर!!!

    उत्तर देंहटाएं
  3. फूलों का खिलना
    और बिखर जाना चुपके से...
    --------------------------
    मन की गहराइयों में उतरती पंक्तियाँ ...लाजवाब ...

    उत्तर देंहटाएं
  4. मुहब्बत की शय ही ऐसी है,बहुत ही भावपूर्ण प्रस्तुति.किसी ने कहा है...

    किसी को प्यार इतना देना की हद न रहे !
    पर ऐतबार भी इतना करना की शक न रहे !!
    वफ़ा इतना करना की बेवफाई न रहे !
    और दुवा इतना करना की जुदाई न रहे !!

    उत्तर देंहटाएं
  5. कुछ टूटने से पहले
    आवाज हो
    ये जरूरी तो नहीं
    तुमने देखा तो होगा
    फूलों का खिलना
    और बिखर जाना चुपके से!!!
    बहुत सुंदर ...शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  6. फूलों का खिलना
    और बिखर जाना चुपके से!!!

    बहुत बडी बात कह दी आपने……

    उत्तर देंहटाएं
  7. आज की ब्लॉग बुलेटिन दोस्तों आपकी मदद चाहिए - ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  8. मन की गहराइयों से निकली
    मन की गहराइयों तक पहुंचती
    बहुत ही सुन्दर रचना...

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    --
    इंजीनियर प्रदीप कुमार साहनी अभी कुछ दिनों के लिए व्यस्त है। इसलिए आज मेरी पसंद के लिंकों में आपका लिंक भी चर्चा मंच पर सम्मिलित किया जा रहा है और आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल बुधवार (03-04-2013) के “शून्य में संसार है” (चर्चा मंच-1203) पर भी होगी!
    सूचनार्थ...सादर..!

    उत्तर देंहटाएं
  10. टूटने के पहले अजब शान्ति होती है।

    उत्तर देंहटाएं
  11. कुछ टूटने से पहले
    आवाज हो
    ये जरूरी तो नहीं
    तुमने देखा तो होगा
    फूलों का खिलना
    और बिखर जाना चुपके से!!!भाव पूर्ण पंक्तियाँ,,,

    Recent post : होली की हुडदंग कमेंट्स के संग

    उत्तर देंहटाएं
  12. तुमने देखा तो होगा
    फूलों का खिलना
    और बिखर जाना चुपके से!!!

    खूब ..... बहुत ही गहरी बात

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहुत खूबसूरत और गहरे अहसास

    उत्तर देंहटाएं
  14. ज़िंदगी का शायद यही फलसफा है जिस तरह खुदा की लाठी में आवाज़ नहीं होती। उसी तरह दिल के टूटने पर भी कोई आवाज नहीं होती। यही कारण है शायद कि अक्सर खिले हुए चहरों के पीछे छिपी हुई गहरी खामोशियान होती हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  15. कुछ टूटने से पहले
    आवाज हो
    ये जरूरी तो नहीं
    तुमने देखा तो होगा
    फूलों का खिलना
    और बिखर जाना चुपके से!!!

    बहुत खूब ... निःशब्द हूं इस अभिव्यक्ति पर ...
    दिल के टूटने का गम याद आ गया ...

    उत्तर देंहटाएं
  16. बेआवाज टुटन के किरचे बहुत चुभते हैं...सुंदर अभिव्यक्ति !!

    उत्तर देंहटाएं
  17. कुछ टूटने से पहले
    आवाज हो
    ये जरूरी तो नहीं
    तुमने देखा तो होगा
    फूलों का खिलना
    और बिखर जाना चुपके से!!!
    ....शायद इसलिए फूलों की तुलना दिल से होती है ...उनके भी टूटने की आवाज़ जो नहीं होती ...बहुत खूब सदाजी .....!!!

    उत्तर देंहटाएं
  18. कुछ टूटने से पहले
    आवाज हो
    ये जरूरी तो नहीं
    तुमने देखा तो होगा
    फूलों का खिलना
    और बिखर जाना चुपके से!

    प्यार में टूटने से आवाज कहाँ होती है और दिल बिखरता भी इस कदर है की समेटे नहीं सिमटता

    उत्तर देंहटाएं
  19. फूलों की तरह दिल भी बेआवाज़ टूटती है. भावपूर्ण रचना, बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  20. Kuch panktiyon me hi mohabbat ke har rang ko prastut kiya hai aapne..
    bahut khub...

    उत्तर देंहटाएं
  21. Hum khud se door shi par tmhe zndgi k hr rang mein pte h ,mohabat ka yhi dastoor is bahane hr lmha tmhe jee jte h....

    उत्तर देंहटाएं
  22. दिल के टूटने की भी आवाज़ कहाँ आती है .
    कृपया शह/शै कर लें एक शह शतरंज वाली शै है .बढ़िया प्रस्तुति .

    उत्तर देंहटाएं
  23. वाह...
    बहुत सुन्दर.....
    सिसकते फूल देखें हैं कभी???

    सस्नेह
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  24. बहुत सुन्दर और गहन भी ...सीधे ह्रदय तक पहुंचती बात सदा जी ....!!

    उत्तर देंहटाएं
  25. उसने मुझसे इक दिन
    भीगी आँखों से कहा
    ये मुहब्‍बत भी
    बहुत बुरी शय होती है
    किसी और की खबर
    रखते-रखते
    खुद से बेखबर हो जाती है------

    प्रेम का महीन अहसास
    गजब

    उत्तर देंहटाएं
  26. बहुत सुन्दर लेखन | पढ़कर आनंद आया | आशा है आप अपने लेखन से ऐसे ही हमे कृतार्थ करते रहेंगे | आभार


    कभी यहाँ भी पधारें और लेखन भाने पर अनुसरण अथवा टिपण्णी के रूप में स्नेह प्रकट करने की कृपा करें |
    Tamasha-E-Zindagi
    Tamashaezindagi FB Page

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
मन को छू लें वो शब्‍द अच्‍छे लगते हैं, उन शब्‍दों के भाव जोड़ देते हैं अंजान होने के बाद भी एक दूसरे को सदा के लिए .....