शनिवार, 6 अप्रैल 2013

फिर से पल्लिवत होने को!!!!

मन के आँगन में
स्‍नेह का बीज बचपन से ही
बो दिया गया था जो वक्‍त के साथ
पल्लिवत होता रहा जिस पर
सम्‍मान का जल सिचित करते-करते
स्‍वाभिमान की डालियों ने
अपना लचीलापन नहीं खोया
जब भी आवश्‍यकता हुई
वो झुकती रह‍ीं
फिर चाहे उन्‍हें झुकाने वाला
कोई बड़ा होता या बच्‍चा
वो सहर्ष तैयार रहतीं
तपती दोपहर में वो छाया बन
शीतलता देती
....
जोर की आँधियों में
टूटकर गिरते वक्‍त भी
कोई आहत न हो
किसी को चोट न पहुँचे
खुद के जख्‍मों से बेपरवाह
रहते हुए भी वो जिंदगी को जीते-जीते
सूखकर लकड़ी हो जाती
तो जलाई जाती
सुलगती, जलती फिर कोयला होती
यूँ ही फिर वो राख हो,
इक दिन फिर मिल जाती माटी में
किसी बीज के अंकुरित होने का
करती इंतजार
फिर से पल्लिवत होने को!!!!

36 टिप्‍पणियां:

  1. जीवन में शांतिपूर्ण ढंग से लक्ष्य के प्रति ....कर्तव्य के प्रति सहज और सजग रहना ...
    वाह बहुत सुन्दर रचना सदा जी ...

    उत्तर देंहटाएं
  2. दीदी
    सदैव जागृत रहने की प्रेरणा
    मिलती है आप को पढ़कर
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  3. वाह!!!बहुत बेहतरीन सुंदर रचना,,सदा जी,,,

    RECENT POST: जुल्म

    उत्तर देंहटाएं
  4. जागृत रहने की प्रेरणा का संदेश देती बेहतरीन प्रस्तुति,आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  5. जहां स्नेह के बीज हों वो हर हाल में पल्लवित होने की ख़्वाहिश रखते हैं .... बहुत खूबसूरत भावों को लिए सुंदर रचना

    उत्तर देंहटाएं
  6. स्‍वाभिमान की डालियों ने
    अपना लचीलापन नहीं खोया.....
    बहुत सुंदर !
    शुभकामनायें!

    उत्तर देंहटाएं
  7. यही तो आस है जीवन की...
    सुन्दर भावाव्यक्ति...

    सस्नेह
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  8. कुछ जीवन केवल सेवा करने हेतु ही होते हैं...जैसे यह प्राणदायी पेड़ ...फिर भी इंसान इनका मूल्य नहीं समझ पाता .....

    उत्तर देंहटाएं
  9. वृक्ष जैसा जीवन जीते लोग भी ऐसे ही होते हैं !

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत ही सुन्दर !!
    शुभकामनायें !!

    उत्तर देंहटाएं
  11. जीवन का यथार्थ बयाँ कर दिया

    उत्तर देंहटाएं
  12. बेहतरीन और लाजवाब.........हैट्स ऑफ इन सुन्दर पंक्तियों के लिए ।

    वक़्त मिले तो हमारे ब्लॉग पर भी आएं ।

    उत्तर देंहटाएं
  13. भावभीनी रचना...बोध कराती !

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत सुन्दर लिखा है आपने. बचपन में इस तरह के बीज बो दिए जाएँ तो उस पेड़ की छाया ताउम्र मिलती रहती है.

    उत्तर देंहटाएं
  15. स्नेह के बीज हों वो वक्‍त के साथ
    पल्लिवत होते ही हैं !बहुत ही सुन्दर !!
    शुभकामनायें !!

    उत्तर देंहटाएं
  16. जीवन्तता है आपकी रचना में ..........बहुत सुन्दर

    उत्तर देंहटाएं
  17. बहुत ही अच्छी रचना सदा जी

    उत्तर देंहटाएं
  18. यह चक्र इसी तरह चलता रहता है.

    सुंदर कविता.

    उत्तर देंहटाएं
  19. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा आज रविवार (07-04-2013) के चर्चा मंच 1207 पर लिंक की गई है कृपया पधारें. सूचनार्थ

    उत्तर देंहटाएं
  20. एक आशा है तो जीवन भी बना रहता है ...बहुत सुन्दर

    उत्तर देंहटाएं
  21. सुन्दर भाव लिए ... नेह का अगार लुटाना ही जावन लक्ष्य बनाती रचना ...

    उत्तर देंहटाएं
  22. अति सुन्दर प्रवाहमयी रचना..

    उत्तर देंहटाएं
  23. उम्मीद लिए खूबसूरत रचना ।।

    उत्तर देंहटाएं
  24. उम्मीद लिए खूबसूरत रचना ।।

    उत्तर देंहटाएं
  25. जोर की आँधियों में
    टूटकर गिरते वक्‍त भी
    कोई आहत न हो
    किसी को चोट न पहुँचे
    खुद के जख्‍मों से बेपरवाह
    रहते हुए भी वो जिंदगी को जीते-जीते
    सूखकर लकड़ी हो जाती
    तो जलाई जाती-------
    अदभुत निःशब्द
    बहुत सुंदर
    बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  26. जोर की आँधियों में
    टूटकर गिरते वक्‍त भी
    कोई आहत न हो
    किसी को चोट न पहुँचे
    खुद के जख्‍मों से बेपरवाह
    रहते हुए भी वो जिंदगी को जीते-जीते
    सूखकर लकड़ी हो जाती
    तो जलाई जाती
    सुलगती, जलती फिर कोयला होती
    यूँ ही फिर वो राख हो,
    इक दिन फिर मिल जाती माटी में
    किसी बीज के अंकुरित होने का
    करती इंतजार
    फिर से पल्लिवत होने को!!!!

    ज़िन्दगी के खुबसूरत पहलू को उजागर करती सुन्दर भाव भरी रचना ......

    उत्तर देंहटाएं
  27. जीवन की सरल अपेक्षाओं को बहुत सुन्दर चित्रित किया है।

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
मन को छू लें वो शब्‍द अच्‍छे लगते हैं, उन शब्‍दों के भाव जोड़ देते हैं अंजान होने के बाद भी एक दूसरे को सदा के लिए .....