सोमवार, 28 मई 2012

जीने का मज़ा दोगुना हो जाएगा ... !!!


















मैं अभ्‍यस्‍त नहीं हूँ तुम्‍हारी तरह
हर छोटी से छोटी चीज़ को
अपनी आंखों में उतारने की
मैने तो नज़रअंदाज़ करना सीखा है
हर बात को
तुमने ही कहा था हर वक्‍़त
आईना बनकर मत रहो
तुम्‍हारे बाल बिखर गए हैं
तुम्‍हारे चेहरे पर चिंता की लकीरें
उभर आई हैं
तुम अभी मुस्‍करा रहे थे
अब ये क्रोध क्‍यूँ
बेपरवाह होकर देखो कभी जिंदगी को
झटक दो उन चिंताओं को
सिर को हिलाकर कभी
मुस्‍करा दो कभी यूँ ही बेतकल्‍लुफ़ हो
किसी अंजान शख्‍़स को देखकर
किसी अज़नबी को
बता दो पता उसकी मंजिल का
देखना जिन्‍दगी को
जीने का मज़ा दोगुना हो जाएगा ... !!!

33 टिप्‍पणियां:

  1. मुस्‍करा दो कभी यूँ ही बेतकल्‍लुफ़ हो
    किसी अंजान शख्‍़स को देखकर
    किसी अज़नबी को
    बता दो पता उसकी मंजिल का
    देखना जिन्‍दगी को
    जीने का मज़ा दोगुना हो जाएगा .sahi kaha aapne bahut khub .

    उत्तर देंहटाएं
  2. "किसी अज़नबी को
    बता दो पता उसकी मंजिल का
    देखना जिन्‍दगी को
    जीने का मज़ा दोगुना हो जाएगा.."

    Bahut sunder aayaam.. Abhaar!!

    उत्तर देंहटाएं
  3. बढ़िया.......................

    प्यार बांटते चलो....
    जीने का मज़ा दुगुना होगा ही..
    :-)

    सस्नेह.

    उत्तर देंहटाएं
  4. सच है छोटी कहती बातों कों नज़रंदाज़ करने की आदत होनी चाहिए ... जीवन का मज़ा तभी आता है ... सुन्दर भाव ...

    उत्तर देंहटाएं
  5. सच कहा ………नज़र अन्दाज़ करके जीवन का लुत्फ़ लिया जा सकता है।

    उत्तर देंहटाएं
  6. आईना बन कर बैठे रहने से किसी अजनबी को उसके घर का पता बताने में कहीं अधिक सार्थकता है जीवन की. सच ही तो है!

    उत्तर देंहटाएं
  7. आपकी इस उत्कृष्ठ प्रविष्टि की चर्चा कल मंगल वार 29/5/12 को राजेश कुमारी द्वारा चर्चा मंच पर की जायेगी |

    उत्तर देंहटाएं
  8. छोटी छोटी चिन्तायें बड़ी जिन्दगी को डुबो देती हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत खूब
    वाकई यूं तो जिंदगी जीने का मज़ा दोगुना हो जाएगा

    उत्तर देंहटाएं
  10. भार लिये मत चलो ...
    थकान जल्दी होगी ....!!
    सुंदेर अभिव्यक्ति सदा जी

    उत्तर देंहटाएं
  11. वैसे भी किसी का सी टी स्केन लेते रहना ,किसी को प्रेक्षण पर रखना ,आब्जर्व करना किसी भी मायने में मानवीय सम्बन्ध के लिए बहतर नहीं है . बहुत बढ़िया रचना है -
    और यहाँ भी दखल देंवें -

    सोमवार, 28 मई 2012
    क्रोनिक फटीग सिंड्रोम का नतीजा है ये ब्रेन फोगीनेस

    उत्तर देंहटाएं
  12. वैसे भी किसी का सी टी स्केन लेते रहना ,किसी को प्रेक्षण पर रखना ,आब्जर्व करना किसी भी मायने में मानवीय सम्बन्ध के लिए बहतर नहीं है . बहुत बढ़िया रचना है -
    और यहाँ भी दखल देंवें -

    सोमवार, 28 मई 2012
    क्रोनिक फटीग सिंड्रोम का नतीजा है ये ब्रेन फोगीनेस

    उत्तर देंहटाएं
  13. बस ज़रा सा दृष्टिकोण बदलना...जीने का मज़ा दोगुना..

    उत्तर देंहटाएं
  14. छोटी छोटी बातो को दिल पर न लेकर..
    मुस्कुराकर इन्हें भुलाना है..
    जिंदगी का यही फ़साना है..
    बहुत ही सुन्दर और उत्कृष्ट रचना...:-)

    उत्तर देंहटाएं
  15. मुस्‍करा दो कभी यूँ ही बेतकल्‍लुफ़ हो
    किसी अंजान शख्‍़स को देखकर
    किसी अज़नबी को
    बता दो पता उसकी मंजिल का
    देखना जिन्‍दगी को
    जीने का मज़ा दोगुना हो जाएगा

    खुबसूरत लाइन भावों संग अभिव्यक्ति का अनूठा संगम

    उत्तर देंहटाएं
  16. बहुत सुन्दर पैगाम छुपा है आपकी इस रचना में .... जिंदगी को जीने का एक तरीका ....उम्दा

    उत्तर देंहटाएं
  17. बेपरवाह होकर देखो कभी जिंदगी को
    झटक दो उन चिंताओं को
    सिर को हिलाकर कभी
    मुस्‍करा दो कभी यूँ ही बेतकल्‍लुफ़ हो
    किसी अंजान शख्‍़स को देखकर

    वाह खुश रहने का कितना आसान तरीका बता दिया है आपने...इतने आसान से तरीके को भी हम नहीं अपना पाते और दुखी होते रहते हैं...बेजोड़ रचना...बधाई

    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  18. बस एक यही यही चोटी सी बात अगर हर इंसान के समझ में आजाये तो हर किसी कि ज़िंदगी का मज़ा दुगना हो जाएगा ....बहुत ही बढ़िया सार्थक प्रस्तुति....

    उत्तर देंहटाएं
  19. मुस्‍करा दो कभी यूँ ही बेतकल्‍लुफ़ हो
    किसी अंजान शख्‍़स को देखकर
    किसी अज़नबी को
    बता दो पता उसकी मंजिल का
    देखना जिन्‍दगी को
    जीने का मज़ा दोगुना हो जाएगा !!
    इस लिहाज़ से जीवन को आनंददायक बनाना कितना सरल है ना , जाने क्यों लोंग यह समझ नहीं पाते !
    प्रेरक !

    उत्तर देंहटाएं
  20. बेपरवाह होकर देखो कभी जिंदगी को
    झटक दो उन चिंताओं को
    सिर को हिलाकर कभी
    मुस्‍करा दो कभी यूँ ही बेतकल्‍लुफ़ हो
    किसी अंजान शख्‍़स को देखकर
    किसी अज़नबी को
    बता दो पता उसकी मंजिल का
    देखना जिन्‍दगी को
    जीने का मज़ा दोगुना हो जाएगा ... !!!

    बहुत खूब.... जिंदगी का मज़ा दुगना करना है तो यूँ ही प्यार बाँटते चलो

    उत्तर देंहटाएं
  21. कल 31/05/2012 को आपकी यह पोस्ट http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  22. सच! देखा जाए, तो कितना आसान है जीना...मगर काश! झटक पाते हम सब...माथे से वो सारे बल जो बनाते अक्सर...हमको निर्बल...-- बहुत सुंदर रचना ! Thanks for sharing !!!

    उत्तर देंहटाएं
  23. बिलकुल सही और सच्ची बात कही है।

    उत्तर देंहटाएं
  24. यही रास्ता है....
    सुंदर रचना...
    सादर।

    उत्तर देंहटाएं
  25. ज़िन्दादिली का सुन्दर पैगाम देती हुई एक प्यारी सी रचना
    बहुत सुन्दर
    आभार

    उत्तर देंहटाएं
  26. झटक दो उन चिंताओं को
    सिर को हिलाकर कभी
    मुस्‍करा दो कभी यूँ ही बेतकल्‍लुफ़ हो
    किसी अंजान शख्‍़स को देखकर
    किसी अज़नबी को
    बता दो पता उसकी मंजिल का
    देखना जिन्‍दगी को
    जीने का मज़ा दोगुना हो जाएगा ... !!!

    कितना खूबसूरत ख्याल है । वाह !

    उत्तर देंहटाएं
  27. छोटी छोटी बातें हैं...लेकिन जीने का मज़ा दुगुना कर देती हैं...सच कहा सदाजी ...!!!

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
मन को छू लें वो शब्‍द अच्‍छे लगते हैं, उन शब्‍दों के भाव जोड़ देते हैं अंजान होने के बाद भी एक दूसरे को सदा के लिए .....