गुरुवार, 17 मई 2012

संस्‍कारों की हथेली पर ....!!!













मैं सोचती रही
शब्‍दों की विरासत
मिली थी तुम्‍हें
या आत्‍ममंथन ने की थी रचना
शब्‍दों की
जब भी तुम भावनाओं के
दीप प्रज्‍जवलित करती तो
उनकी रोशनी से
जगमगा उठती मंदिर की मूर्तियाँ
ईश वंदना में झुके हुए शीष
घंटे की ध्‍वनि से
खुद को तरंगित महसूस करते
जैसे आशीष बरस रहा हो
एक अधीर मन की छटपटाहट
जिसे कहना कठिन था
बस समझा जा सकता था
पारखी नज़रों से
यही वरदान मिला था तुम्‍हें भी
परखने का ..
..............
मैने देखा है
तुम्‍हारी आंखों में अपनापन
बोली में सहजता
संस्‍कारों की हथेली पर
अखंड ज्‍योत जलती रहती है संयम की
तेज हवाओं में भी
उस लौ की स्थिरता 
तुम्‍हारे बुलंद इरादों का दर्श दिखलाती है
....
तम घबराता है
सत्‍य अडिग रहता है
भय हार जाता है जब तुम्‍हें डराकर
ईश्‍वर को भी जब तुम कहती हो
मैं तैयार हूँ हर चुनौती के लिए
सोचो परिस्थितियाँ विचारमग्‍न होकर
जस की तस
उचित समय का इन्‍तजार करने लगें जब
उन लम्‍हों का साक्षी
कौन होगा सिवाय ईश्‍वर के
जो देखकर सब
अपनी मंद मुस्‍कान कायम रखता है
विजय तो होनी ही थी
विश्‍वास का बीज़ मंत्र विरासत में जो मिला था ...

38 टिप्‍पणियां:

  1. विजय तो होनी ही थी
    विश्‍वास का बीज़ मत्र विरासत में जो मिला था ...
    बहुत सुंदर
    सस्नेह.

    उत्तर देंहटाएं
  2. आमंत्रित सादर करे, मित्रों चर्चा मंच |

    करे निवेदन आपसे, समय दीजिये रंच ||

    --

    शुक्रवारीय चर्चा मंच |

    उत्तर देंहटाएं
  3. आत्मविश्वास से बड़ा कौन गुरू है।
    प्रभावपूर्ण रचना, आभार!!

    उत्तर देंहटाएं
  4. विश्वास के बीज मंत्र से बढकर और क्या चाहिये ………सकारात्मक सोच लिये सार्थक अभिव्यक्ति।

    उत्तर देंहटाएं
  5. Bahut sakaratmak! Lekin kaash mere saath bhee aisa hota!

    उत्तर देंहटाएं
  6. विजय तो होनी ही थी
    विश्‍वास का बीज़ मत्र विरासत में जो मिला था ...

    बहुत सुंदर भाव पुर्ण रचना,..अच्छी प्रस्तुति

    MY RECENT POSTफुहार....: बदनसीबी,.....

    उत्तर देंहटाएं
  7. मैने देखा है
    तुम्‍हारी आंखों में अपनापन
    बोली में सहजता
    संस्‍कारों की हथेली पर
    अखंड ज्‍योत जलती रहती है संयम की

    बहुत खूबसूरत भाव ...

    उत्तर देंहटाएं
  8. विश्वास की ज्योति सदा ही हमें राह दिखाती रहती है।

    उत्तर देंहटाएं
  9. सकारात्मकता लिये सुंदर रचना...
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  10. मैं सोचती रही
    शब्‍दों की विरासत
    मिली थी तुम्‍हें
    या आत्‍ममंथन ने की थी रचना
    ....बहुत सुन्दर सदा दी ....मन खुश हो गया पढ़ कर....आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  11. विजय तो होनी ही थी
    विश्‍वास का बीज़ मत्र विरासत में जो मिला था ...

    विश्वास का शंख बजा ...
    विजय के द्वार खुले ...
    लो हो गया स्वप्न का अभिषेक ....!!

    बहुत सुंदर रचना ....सदा जी ...
    बधाई एवं शुभकामनायें ......!!!

    उत्तर देंहटाएं
  12. विजय तो होनी ही थी
    विश्‍वास का बीज़ मत्र विरासत में जो मिला था ...बहुत सुन्दर, सकारात्मक भावों से ओत=प्रोत सुन्दर प्रस्तुति..सदा जी बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहुत सुंदर,
    सकारात्मक संदेश देती रचना

    तम घबराता है
    सत्‍य अडिग रहता है
    भय हार जाता है जब तुम्‍हें डराकर
    ईश्‍वर को भी जब तुम कहती हो
    मैं तैयार हूँ हर चुनौती के लिए
    सोचो परिस्थितियाँ विचारमग्‍न होकर

    क्या कहने

    उत्तर देंहटाएं
  14. उन लम्‍हों का साक्षी
    कौन होगा सिवाय ईश्‍वर के
    जो देखकर सब
    अपनी मंद मुस्‍कान कायम रखता है
    विजय तो होनी ही थी
    विश्‍वास का बीज़ मत्र विरासत में जो मिला था ..

    खुबसूरत एहसास के पवित्र भावना लिए सुन्दर रचना की बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  15. इतनी शक्ति हमें देना दाता मन का विश्वास कमजोर हो न
    हम चलें नेक रास्ते पे हम से भूलकर भी कोई भूल हो न...बहुत ही सुंदर भावपूर्ण रचना...

    उत्तर देंहटाएं
  16. विश्‍वास का बीज़ मत्र विरासत में जो मिला था ...
    विश्वास का बीज जिसे विरासत में मिले उसे सकारात्मकता भी विरासत में मिलती है

    उत्तर देंहटाएं
  17. मैने देखा है
    तुम्‍हारी आंखों में अपनापन
    बोली में सहजता
    संस्‍कारों की हथेली पर
    अखंड ज्‍योत जलती रहती है संयम की
    तेज हवाओं में भी
    उस लौ की स्थिरता
    तुम्‍हारे बुलंद इरादों का दर्श दिखलाती है
    उर्जा और आत्मविश्वास जगाती बेहतरीन रचना.....

    उत्तर देंहटाएं
  18. आत्मविश्वास से लबरेज.. प्रशंसनीय रचना...

    उत्तर देंहटाएं
  19. वाह बहुत खूब ....शब्द रचना बेहद खूबसूरत

    उत्तर देंहटाएं
  20. संस्कार में बहुत ताकत होती है। इसके कारण एकजुटता, सौहार्द और कई मानवीय गुणों का समावेश होता है जो हर बाधाओं पर विजय पाने का विश्वास जगाता है।

    उत्तर देंहटाएं
  21. संस्‍कारों की हथेली पर
    अखंड ज्‍योत जलती रहती है संयम की
    तेज हवाओं में भी
    उस लौ की स्थिरता
    तुम्‍हारे बुलंद इरादों का दर्श दिखलाती है
    Waah..... Adbhut Panktiyan

    उत्तर देंहटाएं
  22. तम घबराता है
    सत्‍य अडिग रहता है
    भय हार जाता है जब तुम्‍हें डराकर
    ईश्‍वर को भी जब तुम कहती हो
    मैं तैयार हूँ हर चुनौती के लिए

    बहुत प्रेरक पंक्तियाँ हैं ! सार्थक संदेश प्रसारित करती अनुपम रचना !

    उत्तर देंहटाएं
  23. सुन्दर शब्द चयन और गहरे भाव लिए रचना
    आशा

    उत्तर देंहटाएं
  24. प्रभाव शाली रचना ....
    आभार आपका !

    उत्तर देंहटाएं
  25. विश्‍वास का बीज़ मत्र विरासत में जो मिला था ...
    bahut sundar rachna !

    उत्तर देंहटाएं
  26. विजय तो होनी ही थी
    विश्‍वास का बीज़ मत्र विरासत में जो मिला था ...

    ....बहुत सुन्दर और प्रेरक रचना...आभार

    उत्तर देंहटाएं
  27. एक सत्व एक ओज सात्विक भाव खडा करती है यह रचना संयम का इरादों का दृढ़ता और संकल्प का .बेहतरीन पोस्ट .

    उत्तर देंहटाएं
  28. आत्म विश्वास से भरपूर पंक्तियाँ

    उत्तर देंहटाएं
  29. विचार प्रवण भावाभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  30. विजय तो होनी ही है , जब अंगुली ईश्वर की हथेली में सौंपी हो !
    दृढ विश्वास और साहसी व्यक्तित्व को समर्पित अनुपम रचना !

    उत्तर देंहटाएं
  31. खुद में विश्वास ही जीवन का मूल है...बहुत खूब...

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
मन को छू लें वो शब्‍द अच्‍छे लगते हैं, उन शब्‍दों के भाव जोड़ देते हैं अंजान होने के बाद भी एक दूसरे को सदा के लिए .....