शुक्रवार, 16 मार्च 2012

कोई कुछ कहे न कहे ....
















मायूसियों को क्‍यूँ
इस तरह तुम अपने कांधों पे
ढोये फिरते हो
कोई कुछ कहे न कहे
कोई तुमसे बात करे या न करे
कोई तुम्‍हारे साथ हंसे न हंसे
कोई तुम्‍हें अनदेखा करके गुज़र जाए
तुम क्‍यूँ इस बात को दिल पे लेते हो
सम्‍बंध तुम्‍हारे अकेले का 
तो  नहीं था
ताली कभी एक हाथ से 
बजती है क्‍या .. ?
सम्‍बंधों का कुछ अंश तो 
उसका भी था
जिसके लिए तुम खुद से खफ़ा हो
जब उसे परवाह नहीं तो फिर ...
तुम ही अकेले क्‍यूँ
उस परवाह का लबादा ओढ़कर
उदास लेटे हो
कभी आंसू तो कभी तनहाई
कभी यादें तो कभी वफ़ा की दुहाई
ये सब बस एक टीस ही देते हैं
दिल को ...
बात में दम हो तो
उसे साबित करने की जरूरत नहीं पड़ती
बात बस इतनी ही सही ह‍ै कि
सच्‍ची बात हमेशा कड़वी लगती है
मायूसी ... बुज़दिली सब
मन के हारने की कहानी कहते हैं
एक आवाज़ हमेशा
हौसले की दिल को देना
कोई दे न दे वो पलटकर
जवाब जरूर देगा ...!!!!

33 टिप्‍पणियां:

  1. हर रात का अंधियारा अपने पीछे नयी सुबह लिया आता है.......

    सुन्दर रचना...

    सस्नेह.

    उत्तर देंहटाएं
  2. maayoos ho kar
    kyoon bdhaate ho
    maayoosiyon apnee
    jo sukoon paanaa
    to bhool jaao
    kaun kyaa kahtaa hai
    kyaa silaa detaa hai
    jo tumne kiyaa unke
    khaatir

    उत्तर देंहटाएं
  3. एक आवाज़ हमेशा
    हौसले की दिल को देना
    कोई दे न दे वो पलटकर
    जवाब जरूर देगा ...!!!!sahi kaha......khoobsurti ke sath kaha.....

    उत्तर देंहटाएं
  4. दिल को ...
    बात में दम हो तो
    उसे साबित करने की जरूरत नहीं पड़ती
    बात बस इतनी ही सही ह‍ै कि
    सच्‍ची बात हमेशा कड़वी लगती है
    बहुत सुंदर प्रस्तुति,अच्छी रचना.....

    MY RESENT POST...काव्यान्जलि ...: तब मधुशाला हम जाते है,...

    उत्तर देंहटाएं
  5. एक आवाज़ हमेशा
    हौसले की दिल को देना
    कोई दे न दे वो पलटकर
    जवाब जरूर देगा ...!!!!

    बिल्कुल सही बात कोई साथ दे ना दे कोई जवाब दे ना दे बस हौसला हो तो कोई मुश्किल मुश्किल नही रहती।

    उत्तर देंहटाएं
  6. दिल की मायूसी भगाने का सही रास्ता सुझाया है ...सुंदर प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  7. दुखी रहने से अच्छा है ,हौसला रखो और .....खुश रहने के बहाने ढूंढो....
    सुंदर रचना सदा जी ...!

    उत्तर देंहटाएं
  8. और कोई जवाब दे न दे , सारे उत्तर तुम्हें मिल जायेंगे - अनुत्तरित पूछे गए सवाल होते हैं , अन्दर में घुमड़ते सवालों का सीधा हिसाब किताब होता है....

    उत्तर देंहटाएं
  9. antim panktiyaan bahut hi prabhav shali hai...bahut hi sundar evam saarthak rachna....

    उत्तर देंहटाएं
  10. मायूसी ... बुज़दिली सब
    मन के हारने की कहानी कहते हैं
    .एकदम सही बात है .....

    एक आवाज़ हमेशा
    हौसले की दिल को देना
    कोई दे न दे वो पलटकर
    जवाब जरूर देगा ...!!!!
    ......मौन की भी एक सीमा होती है और समय पर जवाब देना नितांत जरुरी बन जाता है ..
    बहुत बढ़िया रचना

    उत्तर देंहटाएं
  11. हौसला हर मायुसी को तोड़ देता है..सुन्दर भाव..

    उत्तर देंहटाएं
  12. आत्मविश्वास बना रहे बस .... गहरे विचार

    उत्तर देंहटाएं
  13. एक आवाज़ हमेशा
    हौसले की दिल को देना
    कोई दे न दे वो पलटकर
    जवाब जरूर देगा ...!!!!

    क्या बात है...इस जज्बे को सलाम...

    उत्तर देंहटाएं
  14. ये दिल है कि मानता नही ...लगी चोट से उदास
    हो ही जाता है |
    सदा आप, खुश और स्वस्थ रहें!

    उत्तर देंहटाएं
  15. एक आवाज़ हमेशा
    हौसले की दिल को देना
    कोई दे न दे वो पलटकर
    जवाब जरूर देगा ...!!!!

    सकारात्मक सोच को प्रेरित करती सुन्दर रचना!
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  16. एक आवाज़ हमेशा
    हौसले की दिल को देना
    कोई दे न दे वो पलटकर
    जवाब जरूर देगा ...!!!!

    बहुत बढिया !!

    उत्तर देंहटाएं
  17. सम्‍बंध तुम्‍हारे अकेले का
    तो नहीं था ......सुन्दर

    उत्तर देंहटाएं
  18. सच है होंसला होना जरूरी है ... कोई साथ दे न दे ... और किसी के लिए जीवन क्यों बर्बाद करो ...

    उत्तर देंहटाएं
  19. बेहतरीन और शानदार........आशा और उम्मीद की रौशनी लिए.........हैट्स ऑफ इसके लिए।

    उत्तर देंहटाएं
  20. बहुत सुन्दर बात ...खुद को हौसला देने के लिए प्रेरित करती सुन्दर रचना ...आभार

    उत्तर देंहटाएं
  21. बेहद खूबसूरत ख़यालों से सुसज्जित कृती..

    उत्तर देंहटाएं
  22. एक आवाज़ हमेशा
    हौसले की दिल को देना
    कोई दे न दे वो पलटकर
    जवाब जरूर देगा ...!!!!

    बहुत सुंदर...

    उत्तर देंहटाएं
  23. कोई दर्द दे तो क्या गम हे
    उसने इस काबिल तो समझा ......

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
मन को छू लें वो शब्‍द अच्‍छे लगते हैं, उन शब्‍दों के भाव जोड़ देते हैं अंजान होने के बाद भी एक दूसरे को सदा के लिए .....