गुरुवार, 22 मार्च 2012

मुझे पता है ..!!!

तुम्‍हारे और मेरे बीच
दूरियॉं कोई मायने नहीं रखतीं
हम कितना भी दूर हो जाएं
सोचते हैं बस
एक दूसरे को
मन की नज़दीकियां हैं न हमारे पास
....
ये आहटें कैसी
तुम्‍हारे और मेरे बीच
मीलों की दूरी है
फिर भी
मुझे हर बात का एहसास
कैसे हो जाता है
हर बार ही तो ऐसा होता है
इत्‍तेफ़ाक कभी-कभी होता होगा
पर हर बार जब हो तो ...
शब्‍द-शब्‍द में जिया है तुम्‍हें
यकीं तो होगा न
मेरी बात पर
...
हंसती हो जब तुम
शब्‍द भी मुस्‍कराते हैं संग
तुम्‍हारी उदासी से
कैसे बिखर जाते हैं शब्‍द
तुम्‍हारी सिसकियों से
शब्‍दों की नमी से दर्द रिसता है जब
कागज भी भीग जाता है
इस कदर ....
मेरी रूह की सिहरन से
मन कांप जाता है ..
तुम जब भी
हंसी का प्रतीक :)  बनाती हो
मुझे पता है ...
तुम्‍हारी पलकें भीगी होती हैं
तुम्‍ही कहती हो उदासी की चीखें
खामोशी ही सुनती है
खामोशी ही कहती है आंसुओं से
बस तब वो बह कर
अपना मन हलका कर लेती है
और सुकून के कुछ पल
म़यस्‍सर होते हैं बोझिल मन को ... !!!

36 टिप्‍पणियां:

  1. विरह -प्रेम के भावों की सुन्दर बानगी..

    उत्तर देंहटाएं
  2. तुम जब भी
    हंसी का प्रतीक :) बनाती हो
    मुझे पता है ...
    तुम्‍हारी पलकें भीगी होती हैं
    तुम्‍ही कहती हो उदासी की चीखें
    खामोशी ही सुनती है

    दूरी होने पर भी न जाने क्यों हर बात पता होती है ...मन जो मिले होते हैं ... सुंदर प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  3. तुम जब भी
    हंसी का प्रतीक :) बनाती हो

    Smiley ko nayaab bhaw de diye aapne, virah-prem ki meethi kavita mein!
    Saadar

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुन्दर.....कोमल भाव संजोये हैं..
    सस्नेह.

    उत्तर देंहटाएं
  5. समझ ही जोड़ती है
    समझ ही दूरियां पैदा करती हैं
    .... बहुत ही अच्छी रचना

    उत्तर देंहटाएं
  6. गज़ब ...अभी जब मै आपकी पोस्ट पढ़ रही थी तो मुझे ऐसा लगा रहा था की एक एक शब्द मेरी ही लिखी हुई है ..... इन सारी अहसासों के साथ, मै भी जीती हूँ .... !!!

    उत्तर देंहटाएं
  7. आपको नव संवत्सर 2069 की सपरिवार हार्दिक शुभकामनाएँ।

    ----------------------------
    कल 23/03/2012 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  8. हंसती हो जब तुम
    शब्‍द भी मुस्‍कराते हैं संग
    तुम्‍हारी उदासी से
    कैसे बिखर जाते हैं शब्‍द
    तुम्‍हारी सिसकियों से
    शब्‍दों की नमी से दर्द रिसता है जब
    कागज भी भीग जाता है

    इसे कहते हैं भावों की अभिव्यक्ति. वाह!

    उत्तर देंहटाएं
  9. सुन्दर कलात्मक बुनावट... खुबसूरत रचना...
    सादर.

    उत्तर देंहटाएं
  10. हंसती हो जब तुम
    शब्‍द भी मुस्‍कराते हैं संग
    तुम्‍हारी उदासी से
    कैसे बिखर जाते हैं शब्‍द ..achchhi panktiyan..

    उत्तर देंहटाएं
  11. तुम्‍हारी पलकें भीगी होती हैं
    तुम्‍ही कहती हो उदासी की चीखें
    खामोशी ही सुनती है
    खामोशी ही कहती है आंसुओं से
    बस तब वो बह कर
    अपना मन हलका कर लेती है
    और सुकून के कुछ पल
    म़यस्‍सर होते हैं बोझिल मन को ...
    kya kahun in sunder bhavon me bhige shabdon ke liye bahut sunder
    rachana

    उत्तर देंहटाएं
  12. बहुत खूब लिखा है आपने
    प्रेम में दूरिया कोई माईने नहीं रखती

    उत्तर देंहटाएं
  13. बड़ा ही करुण अभिव्यक्ति है।

    उत्तर देंहटाएं
  14. सुन्दर अभिव्यक्ति,भावपूर्ण.
    आभार....
    मुझे हर बात का एहसास
    कैसे हो जाता है
    हर बार ही तो ऐसा होता है
    इत्‍तेफ़ाक कभी-कभी होता होगा
    पर हर बार जब हो तो ..

    उत्तर देंहटाएं
  15. सुकोमल भाव
    बेहतरीन रचना:-)

    उत्तर देंहटाएं
  16. बहुत सुन्दर प्रस्तुति| नवसंवत्सर २०६९ की हार्दिक शुभकामनाएँ|

    उत्तर देंहटाएं
  17. मन के गहन भाव को बहुत ही खुबसूरती से व्यक्त किया ..

    उत्तर देंहटाएं
  18. मुझे तो इस विरह ने बिटिया की याद दिला दी ...चाहे सात समुन्दर पार हो , उसकी हर आह एक टीस बनकर चुभती है ...उसके आँसू हमारी आँखों से बहते हैं.. माँ का दिल जो ठहरा .....!!!!!!

    उत्तर देंहटाएं
  19. हंसती हो जब तुम
    शब्‍द भी मुस्‍कराते हैं संग
    तुम्‍हारी उदासी से
    कैसे बिखर जाते हैं शब्‍द
    sundar pyar bhar bhaw...:)

    उत्तर देंहटाएं
  20. मन के गहरे भाव लिए बेहद उम्दा पोस्ट....

    उत्तर देंहटाएं
  21. उदासी के क्षणों में सुकून ढूँढ लेना इसी मन की आदत है. बहुत ही सुंदर रचना.

    उत्तर देंहटाएं
  22. ख़ामोशी को शब्दों में बयाँ कर डाला. बहुत सुंदर प्रस्तुति.

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
मन को छू लें वो शब्‍द अच्‍छे लगते हैं, उन शब्‍दों के भाव जोड़ देते हैं अंजान होने के बाद भी एक दूसरे को सदा के लिए .....