सोमवार, 5 मार्च 2012

मेरे सारे नये रंग भी ...













मां तुम रंग नया लाती तो हो,
पर उसे छिपा लेती हो मुझसे
हर बार  ...
मेरे इंतजार न करने की आदत
से तुम खूब परिचित हो
अपनी मीठी मुस्‍कान से
मन ही मन खुश हो रही हो
जानती हो ...
मेरे सारे नये रंग भी
तुम्‍हारे उस छिपे हुए रंग के
आगे फीके लगते
तुम्‍हारी हथेलियों का स्‍नेह
जब तक मेरी
हथेलियों से नहीं मिलता
रंग निखरते ही नहीं  ...
गुलाल का टीका
सिर पे आशीषों वाला हांथ
हर रंग पे निखा़र ले आता है
आओ न मां ... 

36 टिप्‍पणियां:

  1. हर रंग फीका माँ की रंग से .. सुन्दर और भावपूर्ण..

    उत्तर देंहटाएं
  2. रंगों की अदभुत छटा है चहुँ ओर--- एक चुटकी अबीर मेरी तरफ से

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत ही सुन्दर भावमय प्रस्तुति.

    होली की आपको और सभी जन को हार्दिक शुभकामनाएँ.

    उत्तर देंहटाएं
  4. सुन्दर......बहुत सुन्दर भाव...

    बड़ा अच्छा लगा पढकर...
    so sweet........

    उत्तर देंहटाएं
  5. खुबसूरत पोस्ट।
    होली मुबारक,गुलाल,मुबारक,अबीर और गुझिया खाओ रंग लगाओ ..
    मैं क्या करूं मुझे आदत है मुस्कुराने की ,

    उत्तर देंहटाएं
  6. ्बहुत खूबसूरत प्रस्तुति। होली की हार्दिक शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं
  7. होली के रंगों के बीच माँ के स्नेह का रंग अलग ही खिलता है ...
    भावुक कर देने वाली रचना ...

    उत्तर देंहटाएं
  8. माँ के रंग में रंगी रचना ... खूबसूरत भाव ... होली की शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  9. सुन्दर..
    होली की अनेकानेक बधाई..

    उत्तर देंहटाएं
  10. उम्दा रचना है होली के उपलक्ष्य में,आप को होली की शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  11. माँ के स्नेह का रंग सबसे गाढ़ा है..

    उत्तर देंहटाएं
  12. बहुत खुबसूरत लगी ये पोस्ट । आपको होली की शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं
  13. वाह!
    बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    होली की शुभकामनाएँ!

    उत्तर देंहटाएं
  14. सुन्दर प्रस्तुति

    दिनेश की टिप्पणी : आपका लिंक

    dineshkidillagi.blogspot.com

    होली है होलो हुलस, हुल्लड़ हुन हुल्लास।
    कामयाब काया किलक, होय पूर्ण सब आस ।।

    उत्तर देंहटाएं
  15. प्यार के रंगों से भरी लगी आपकी रचना....

    उत्तर देंहटाएं
  16. बहुत बढ़िया भाव अभिव्यक्ति,रचना अच्छी लगी.
    सदा जी,..होली की बहुत२ बधाई....


    NEW POST फुहार...डिस्को रंग...

    उत्तर देंहटाएं
  17. माँ का आशीष मिल जाये...तो रंग और भी चोखा हो जाये...

    उत्तर देंहटाएं
  18. वाकई उनसे अच्छा कोई नहीं ...
    आभार सुंदर रचना के लिए !

    उत्तर देंहटाएं
  19. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा आज के चर्चा मंच पर की गई है। चर्चा में शामिल होकर इसमें शामिल पोस्ट पर नजर डालें और इस मंच को समृद्ध बनाएं.... आपकी एक टिप्पणी मंच में शामिल पोस्ट्स को आकर्षण प्रदान करेगी......

    उत्तर देंहटाएं
  20. आपने रंगों के उत्सव में इस कविता द्वारा एक नया रंग भरा है।

    उत्तर देंहटाएं
  21. बहुत सुन्दर ... !
    होली की ढेर सारी शुभकामनायें !
    आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  22. बहुत खूब!होली की हार्दिक शुभकामनायें!

    उत्तर देंहटाएं
  23. बहुत सुन्दर ....होली की ढेरों शुभकामनायें..

    उत्तर देंहटाएं
  24. होली पर बहुत बहुत शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  25. ममता के रंग से बढ़ कर कौन सा रंग अधिक सुंदर हो सकता है और खिल सकता है. सुंदर रचना. होली की हार्दिक शुभकामनाएँ.

    उत्तर देंहटाएं
  26. सुंदर भावपूर्ण रचना । होली की हार्दिक शुभकामनाएँ !

    उत्तर देंहटाएं
  27. प्यारा रंग बिखेरती भावपूर्ण रचना...
    होली की शुभकामनाएँ!

    उत्तर देंहटाएं
  28. गुलाल का टीका
    सिर पे आशीषों वाला हांथ
    हर रंग पे निखा़र ले आता है
    आओ न मां ... bahut pyari rachna ,holi ki badhai .

    उत्तर देंहटाएं
  29. बहुत सुन्दर प्रस्तुति. खूबसूरत तस्वीर....

    आपको सपरिवार रंगों के पर्व होलिकोत्सव की हार्दिक शुभकामनाएँ......!!!!

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
मन को छू लें वो शब्‍द अच्‍छे लगते हैं, उन शब्‍दों के भाव जोड़ देते हैं अंजान होने के बाद भी एक दूसरे को सदा के लिए .....