सोमवार, 12 मार्च 2012

मेरे कांधे पर तुम्‍हारे हांथ की तरह ...


















उत्‍साह का होना बहुत जरूरी है
इससे रक्‍त का संचार
जितने वेग से बहता है
हमारी वाणी में
जोश भी उतनी ही तेजी से आता है
उत्‍साह यदि अच्‍छे-बुरे का ज्ञान भी
साथ लेकर चले तो
कदम सार्थक हो सकते हैं ...
दिशाओं के भ्रमित होने का
पथ से डिगने का
परिस्थितियों के अनुकूल व प्रतिकूल
होने का अर्थ जब तक
समझ में आए
उन्‍नति की राह पर बाधक
हम स्‍वयं अपने बनें
उनसे सीखने का समझने का
मार्ग हम चुन लें जब भी
मंजिल पे पहुंचने से
हमें कोई रोक नहीं सकता  ...
हथेली को जब भी बन्‍द करता
सोचता मुट्ठी खाली है
फिर भी ये ताकतवाली है
किसी को क्‍या पता
यह खाली है या इसके अन्‍दर बंद हैं मेरी
किस्‍मत की लकीरें
या फिर विश्‍वास का वो रूप
जो मेरे कांधे पर
तुम्‍हारे हांथ की तरह ठहरा है .......

31 टिप्‍पणियां:

  1. बंद मुट्ठी में लकीरें और विश्वास ...बहुत सुंदर रचना ...

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर....
    आत्विश्वास से भरी रचना .......

    सस्नेह.

    उत्तर देंहटाएं
  3. यह खाली है या इसके अन्‍दर बंद हैं मेरी
    किस्‍मत की लकीरें
    या फिर विश्‍वास का वो रूप
    जो मेरे कांधे पर
    तुम्‍हारे हांथ की तरह ठहरा है .......

    बहुत बढ़िया प्रस्तुति,भावपूर्ण सुंदर रचना,...

    RESENT POST...काव्यान्जलि ...: बसंती रंग छा गया,...

    उत्तर देंहटाएं
  4. आप हैं किधर मैडम ....?
    हम तो आपका विमोचन में इन्तजार ही करते रहे .....

    उत्तर देंहटाएं
  5. क्या बात है ....
    आज तो मुठी तनी तनी है .....:))

    बहुत सुंदर लिखा ....:))

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत खूब.. उत्साह, बंद मुट्ठी, किस्मत की लकीरें.. सब कुछ एक साँस में बयान कर दिया!!

    उत्तर देंहटाएं
  7. सच कह है ... उत्साह और वो भी सही दिशा में हो तो सफलता जरूर मिलती है ... अच्छी रचना है ...

    उत्तर देंहटाएं
  8. मेरे हाथों में लकीरों के सिवा कुछ भी नहीं....

    उत्तर देंहटाएं
  9. भावपूर्ण सुंदर रचना,...
    सदा जी,...आप ने पोस्ट पर आना ही बंद कर दिया,जब कि मै आपका नियमित पाठक हूँ..


    RESENT POST...काव्यान्जलि ...: बसंती रंग छा गया,...

    उत्तर देंहटाएं
  10. सोचता मुट्ठी खाली है
    फिर भी ये ताकतवाली है
    किसी को क्‍या पता
    यह खाली है या इसके अन्‍दर बंद हैं मेरी
    किस्‍मत की लकीरें
    अपने भावो को बहुत सुंदरता से तराश कर अमूल्य रचना का रूप दिया है.

    उत्तर देंहटाएं
  11. उत्तम रचना।
    पाठक को सोचने के लिये
    विवश करने वाली अभिव्यक्ति।
    साधुवाद।

    आनन्द विश्वास

    उत्तर देंहटाएं
  12. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा आज के चर्चा मंच पर की गई है।
    चर्चा में शामिल होकर इसमें शामिल पोस्ट पर नजर डालें और इस मंच को समृद्ध बनाएं....
    आपकी एक टिप्‍पणी मंच में शामिल पोस्ट्स को आकर्षण प्रदान करेगी......

    उत्तर देंहटाएं
  13. कांधे पर रखा हाथ विश्वास है या किस्मत की लकीरें ...
    जो भी है उस ईश्वर के करीब !
    बहुत सुन्दर !

    उत्तर देंहटाएं
  14. विश्वास से लकीरें स्वतः नया आकार गढ़ लेती हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  15. मेरे कांधे पर तुम्‍हारे हांथ
    mile jo tumhaaraa saath
    badhegaa vishvaas

    उत्तर देंहटाएं
  16. किसी को क्‍या पता
    यह खाली है या इसके अन्‍दर बंद हैं मेरी
    किस्‍मत की लकीरें
    या फिर विश्‍वास का वो रूप
    जो मेरे कांधे पर
    तुम्‍हारे हांथ की तरह ठहरा है ......waah! bahut umda

    उत्तर देंहटाएं
  17. विश्वास का नाम ही लकीर है जब वह खिंच जाती है. सुंदर रचना है.

    उत्तर देंहटाएं
  18. वैचारिक ताजगी लिए हुए रचना अच्छी लगी।

    उत्तर देंहटाएं
  19. जोश और होश का अदभुत संगम...

    उत्तर देंहटाएं
  20. हथेली को जब भी बन्‍द करता
    सोचता मुट्ठी खाली है
    फिर भी ये ताकतवाली है
    किसी को क्‍या पता
    यह खाली है या इसके अन्‍दर बंद हैं मेरी
    किस्‍मत की लकीरें
    या फिर विश्‍वास का वो रूप
    जो मेरे कांधे पर
    तुम्‍हारे हांथ की तरह ठहरा है

    ....लाज़वाब सार्थक सोच...बहुत उत्कृष्ट प्रस्तुति..

    उत्तर देंहटाएं
  21. मार्ग हम चुन लें जब भी
    मंजिल पे पहुंचने से
    हमें कोई रोक नहीं सकता ...
    एक प्रेरक रचना। नसों में नया खून दौड़ने लगा हो जैसे।

    उत्तर देंहटाएं
  22. उत्‍साह यदि अच्‍छे-बुरे का ज्ञान भी
    साथ लेकर चले तो
    कदम सार्थक हो सकते हैं ..

    बहुत खूब!

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
मन को छू लें वो शब्‍द अच्‍छे लगते हैं, उन शब्‍दों के भाव जोड़ देते हैं अंजान होने के बाद भी एक दूसरे को सदा के लिए .....