शनिवार, 27 जून 2009

आंख-मिचौली नभ में . . .

धरा का सीना छलनी है इतना,

देख के आंखे नम हो जाती हैं ।

मेघ करते आंख-मिचौली नभ में,

देखें बरखा कब तक आ पाती है ।

व्‍याकुल हैं नयना रिमझिम बूंदें,

जाने कब माटी सोंधी कर पाती हैं ।

सहमी हैं हवायें, डर- डर के चलती,

लोगों की उम्‍मीदें जो बंध जाती‍ हैं ।

आने से तेरे हर ओर होंगी सदा बहारे,

झूमेंगी फिजायें पवन ये कहती जाती है ।

12 टिप्‍पणियां:

  1. मानसून कुछ और रुके तो अच्छी अच्छी मेघों वाली बहुत कविताएं रची जाएंगी इसी की तरह :)

    अच्छी कविता !

    उत्तर देंहटाएं
  2. sachmuch.............. barkhaa का intezaar तो सब को है........... meghon को dekh कर aas manbdhnaa तो swabhaavik है......... sundar rachnaa

    उत्तर देंहटाएं
  3. धरा का सीना छलनी है इतना,
    देख के आंखे नम हो जाती हैं ।
    मेघ करते आंख-मिचौली नभ में,
    देखें बरखा कब तक आ पाती है ।

    वाह...वाह....छंद बद्ध सुन्दर रचना ....!!

    उत्तर देंहटाएं
  4. bahut shaandaar kavita........ waaqai mein baarish ka intezaar hai....... yahan lucknow mein to garmi se haalat kharaab hai....... aur shayad poorey india ka yahi haal hai......

    उत्तर देंहटाएं
  5. achha likha hai aapne...innocent kavita hai...

    व्‍याकुल हैं नयना रिमझिम बूंदें,
    जाने कब माटी सोंधी कर पाती हैं ...yahaan par kuch kamee reh gayee hai,shayad punctuation ki hi chhoti si mistake ho,par flow zara ajeeb lag raha hai...


    www.pyasasajal.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  6. ek request hai..please remove this word verification..its not essential,and kai baar comment post hone me kuch technical errors bhi aaye hai is kaaran

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
मन को छू लें वो शब्‍द अच्‍छे लगते हैं, उन शब्‍दों के भाव जोड़ देते हैं अंजान होने के बाद भी एक दूसरे को सदा के लिए .....