गुरुवार, 18 जून 2009

कानों को छू लिया कर . . .

ना बातें मुकद्दर की किया कर,

जो भी है तू हंस के जिया कर ।

जीने के हैं चार दिन इसी बात

पर ही अमल कर लिया कर ।

तेरे-मेरे की रूसवाईयों को छोड़,

सच्‍चाई से रूबरू हो लिया कर ।

झुका के सजदे में सर रब के,

आगे कानों को छू लिया कर ।

करनी कर के पछतावे जो कोई

तू ऐसे जुर्म से बच लिया कर ।

ये बातें गजल तो ना हुईं सदा तू

सीधी सच्‍ची बात समझ लिया कर ।

7 टिप्‍पणियां:

  1. सीधे सच्चे अंदाज़ में लाजवाब लिखा है............ सत्य को पहचानने की की कोशिच कराती उम्दा ग़ज़ल

    उत्तर देंहटाएं
  2. "ये बातें गजल तो ना हुईं सदा तू
    सीधी सच्‍ची बात समझ लिया कर ।"
    सदा।
    तुमने सादेपन से बहुत ऊँची बात कह दी है।
    बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  3. जो भी है तू हंस कर जिया कर
    सकारात्मक अभिव्यक्ति पर बधाई
    हिन्द युग्म पर मेरी गज़ल देखने का शुक्रिया

    उत्तर देंहटाएं
  4. "ये बातें गजल तो ना हुईं सदा तू
    सीधी सच्‍ची बात समझ लिया कर ।
    बहुत सुन्दर संदेश देती बडिया गज़ल

    उत्तर देंहटाएं
  5. ek alag se niraale andaaz me apni baatein rakhi aapne...ant to kaafi akarshak lagaa


    www.pyasasajal.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  6. सदा नहीं यदा-कदा ही आया करो
    रातरानी सी यूं ही महक जाया करो
    हंसने रोने की बात तो सब करते
    तुम यूं ही चुपके से छू जाया करो

    उत्तर देंहटाएं
  7. आप सभी का बहुत-बहुत आभार प्रोत्‍साहन के लिये ।

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
मन को छू लें वो शब्‍द अच्‍छे लगते हैं, उन शब्‍दों के भाव जोड़ देते हैं अंजान होने के बाद भी एक दूसरे को सदा के लिए .....