सोमवार, 22 जून 2009

यादों का साया . . .

वफा की चाहत में ये,

दिल दीवाना हो गया ।

रहता है जिस तन में,

उससे बेगाना हो गया ।

नजरों में तस्‍वीर उसकी,

बसाये जमाना हो गया ।

न‍हीं छूटता यादों का साया,

ये तो इक खजाना हो गया ।

हम कदम हम निवाला था जो,

वो ख्‍वाब बन पुराना हो गया

4 टिप्‍पणियां:

  1. यादों को झकझोरती सुन्दर रचना............ अच्छा लिखा है

    उत्तर देंहटाएं
  2. यादो को खंगालती ..........एक बेहद हृदयस्पर्शी कविता

    उत्तर देंहटाएं
  3. वफा की चाहत में ये,

    दिल दीवाना हो गया ।
    sunder bhav yadon ke naam

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
मन को छू लें वो शब्‍द अच्‍छे लगते हैं, उन शब्‍दों के भाव जोड़ देते हैं अंजान होने के बाद भी एक दूसरे को सदा के लिए .....