सोमवार, 6 मई 2013

मीठा राग है जिंदगी भी !!!



















हर बार मेरे हिस्‍से
तुम्‍हारी दूरियाँ आईं
नजदीकियों ने हँसकर जब भी
विदा किया
एक कोना उदासी का लिपट कर
तुम्‍हारे काँधे से सिसका पल भर को
फिर एक थपकी हौसले की
मेरी पीठ पर तुम्‍हारी हथेलियों ने
रख दी चलते-चलते !
.....
मेरे कदम ठिठक गए पल भर
कितने कीमती लम्‍हे थे
उस थपकी में
जिनका भार मेरी पीठ पर
तुम्‍हारी हथेली ने रखा था
भूलकर जिंदगी कितना कुछ
हर बार मुस्‍कराती रही
उम्‍मीद को हँसने की वजह
नम आँखों से भी बताती रही
गले लगती जो कभी
सुबककर रात तो
उसे भोर में चिडि़यों का चहचहाना
सूरज की किरणें दिखलाती रही !!
....
कूकती कोयल ... अपनी मधुरता से
आकर्षित करती सबको
भूल जाते सब उसके काले रंग को
मीठा राग है जिंदगी भी
बस तुम्‍हें हर बार इसे
भूलकर मुश्किलों को
गुनगुनाना होगा पलकों पे
इक नया ख्‍वाब बुनकर
उसे लम्‍हा-लम्‍हा सजाना होगा !!!

27 टिप्‍पणियां:

  1. कितनी भी उदासी हो, मुस्कुराने की वजह लम्हा-लम्हा को जिलाता रहता है ..

    उत्तर देंहटाएं
  2. कूकती कोयल ... अपनी मधुरता से
    आकर्षित करती सबको
    भूल जाते सब उसके काले रंग को
    गुण सर्वोपरी होता है ना
    जीना सीखाती है आपकी रचना
    हार्दिक शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  3. हमेशा की तरह अलग एवं ह्रदय स्पर्शी भावपूर्ण प्रस्तुति दीदी बधाई स्वीकारें.

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत ही सुन्दर और भावपूर्ण प्रस्तुति,आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  5. इसी का नाम है ज़िन्दगी सब भूल कर,
    नयी सुबह का स्वागत करना.

    उत्तर देंहटाएं
  6. वाह ..बहुत खुबसूरत सच ही है दूरिया होने पर भी हौसलों से जिंदगी का राग यूँ ही गुनगुनाया जा सकता है आपकी कविता पढ़ कर मन गुनगुनाने का हो गया।शुभकामनाये स्वीकारे ...

    उत्तर देंहटाएं
  7. सुन्दर कृति...........
    कूकती कोयल ... अपनी मधुरता से
    आकर्षित करती सबको
    भूल जाते सब उसके काले रंग को
    मीठा राग है जिंदगी भी
    भा गई ये पंक्तियाँ.....
    सादर....

    उत्तर देंहटाएं
  8. बस तुम्‍हें हर बार इसे
    भूलकर मुश्किलों को
    गुनगुनाना होगा पलकों पे
    इक नया ख्‍वाब बुनकर
    उसे लम्‍हा-लम्‍हा सजाना होगा !
    बहुत बेहतरीन अभिव्यक्ति,,,सुंदर पंक्तियाँ,,,

    RECENT POST: दीदार होता है,

    उत्तर देंहटाएं
  9. भूलकर मुश्किलों को मुस्कुराते हुए जीवन जीना सचमुच यही तो है मीठा राग ज़िन्दगी का... बहुत सुन्दर भाव... शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  10. उदासी में मीठा सा एहसास लिए ... थपकी उम्र भर संबल बन जाती है ...

    उत्तर देंहटाएं
  11. उस थपकी में
    जिनका भार मेरी पीठ पर
    तुम्‍हारी हथेली ने रखा था
    भूलकर जिंदगी कितना कुछ
    हर बार मुस्‍कराती रही
    उम्‍मीद को हँसने की वजह
    नम आँखों से भी बताती रही -बहुत खुबसूरत अभिव्यक्ति

    latest post'वनफूल'

    उत्तर देंहटाएं
  12. मीठे अहसास ही तो जीवन है

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहुत सुंदर कोमल भाव की रचना .प्रेम तो एक उत्सव है जो एक नहीं अनेक बार आता है .

    उत्तर देंहटाएं
  14. आपकी द्रुत टिपण्णी का शुक्रिया ......

    सोमवार, 6 मई 2013
    मीठा राग है जिंदगी भी !!!
    ये सकारात्मकता ही जीवन का राग है उजास है विकास है सौपान है आखिरी .ॐ शान्ति .

    उत्तर देंहटाएं
  15. सही बात है
    बहुत सुंदर रचना
    बहुत सुंदर

    उत्तर देंहटाएं
  16. मीठा राग है जिंदगी भी

    ज़िन्दगी प्यार का गीत है इसे हर दिल को गाना पडेगा

    उत्तर देंहटाएं
  17. ह्रदय स्पर्शी भावपूर्ण प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  18. मीठा राग है जिंदगी भी
    बहुत बढ़िया....

    उत्तर देंहटाएं
  19. काँधे से लगी सिसकियाँ हथेलियों की थपकी के सिवा चाहती भी क्या ...
    हौसला लौट ही आना था !

    उत्तर देंहटाएं
  20. हल्की सी थपकी भी कितना हौसला दे जाती है ..... बहुत सुंदर भाव ....

    उत्तर देंहटाएं
  21. सार्थक रचना. सच में पुराने दर्द भूल फिर से नयी शुरुआत जीवन में मीठापन का एहसास देती है.

    उत्तर देंहटाएं
  22. मीठा राग है जिन्दगी
    यकीनन

    उत्तर देंहटाएं
  23. भूलकर जिंदगी कितना कुछ
    हर बार मुस्‍कराती रही
    उम्‍मीद को हँसने की वजह
    नम आँखों से भी बताती रही
    गले लगती जो कभी
    सुबककर रात तो
    उसे भोर में चिडि़यों का चहचहाना
    सूरज की किरणें दिखलाती रही !!

    बहुत सुंदर..इसी का नाम तो जिंदगी है..

    उत्तर देंहटाएं
  24. कूकती कोयल ... अपनी मधुरता से
    आकर्षित करती सबको
    भूल जाते सब उसके काले रंग को
    मीठा राग है जिंदगी भी
    बस तुम्‍हें हर बार इसे
    भूलकर मुश्किलों को
    गुनगुनाना होगा पलकों पे
    इक नया ख्‍वाब बुनकर
    उसे लम्‍हा-लम्‍हा सजाना होगा !!!

    पल पल ज़िदगी के मायने समझाती दिल के करीब जाती नहीं समाती रचना लाजवाब

    उत्तर देंहटाएं
  25. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति....

    उत्तर देंहटाएं
  26. Dhup-chhaon,Khushi-Mayusi...
    Zindagi Jine Ke Lie Wajah Ki Kami Nhi Hai,Mayne Rakhta Hai Ki Hum Kya Chahte Hain...

    उत्तर देंहटाएं
  27. मेरे कदम ठिठक गए पल भर
    कितने कीमती लम्‍हे थे
    उस थपकी में
    जिनका भार मेरी पीठ पर
    तुम्‍हारी हथेली ने रखा था
    भूलकर जिंदगी कितना कुछ
    हर बार मुस्‍कराती रही
    उम्‍मीद को हँसने की वजह
    नम आँखों से भी बताती रही-------

    दूरियां कभी नहीं खलती,बस प्रेम की सुंदर,सार्थक उम्मीद जगी रहे
    आपकी रचनाओं में उम्मीद हरदम जिन्दा रहती है
    यही उम्मीद सुबह का स्वागत करती है
    अदभुत
    ---बधाई

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
मन को छू लें वो शब्‍द अच्‍छे लगते हैं, उन शब्‍दों के भाव जोड़ देते हैं अंजान होने के बाद भी एक दूसरे को सदा के लिए .....