सोमवार, 18 फ़रवरी 2013

छला गया व्‍यक्तित्‍व !!!!

मेरी चुप्‍पी से यदि कोई आहत है
तो वो है मेरा अन्‍तर्मन
जो कहना चाहता है गलत को गलत
बुरे को बुरा पर यहाँ
सच का साथ देने पर कहा जाता है
आक्रोशित मत हो, वक्‍त आने दो
वक्‍़त तो ये आया और वो गया
और छला गया व्‍यक्तित्‍व !!!!
...
धैर्य की परिभाषा यदि
खामोशी अख्तियार करना है तो
इस परिभाषा को बदला जाना चाहिये
अन्‍याय के खिलाफ आवाज उठाना
यदि किसी वर्ग विशेष अथवा किसी की
व्‍यक्तिगत भावनाओं को ठेस पहुँचाना है तो
इसकी शुरूआत कहाँ से हुई
किससे हुई एक नज़र वहाँ भी
उठनी चाहिये न कि शांति का पाठ पढ़ाकर
उन भावनाओं को एक नई गल्‍ती की प्रतीक्षा में
मौन हो कतारबद्ध कर देना चाहिये  !!!!
....

31 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी यह बेहतरीन रचना बुधवार 20/02/2013 को http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जाएगी. कृपया अवलोकन करे एवं आपके सुझावों को अंकित करें, लिंक में आपका स्वागत है . धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  2. हाँ सदा ...घुटन होती है इस हेल्प्लेस्नेस से ......सच को सच और झूठ को झूठ अब कहना ही होगा ...!

    उत्तर देंहटाएं

  3. सार्थक बात कहती सुंदर रचना .... पर एक जवाब ये भी हो सकता है ...


    आहत हुयी भावना निज की
    तब आवाज़ उठाई
    गलत सही पहचान न पाकर
    व्यंग्य वाण ने सेंध लगाई
    सुन सुन कर
    क्षुब्ध हुआ बहुत मन
    सोचा क्या श्रेयष्कर है
    निज पर उछले कीचड़ तो
    लगा मौन बेहतर है .... :):)



    उत्तर देंहटाएं
  4. धैर्य की परिभाषा यदि
    खामोशी अख्तियार करना है तो..
    -----------------------------------
    आहत अंतर्मन की मुखर व्यथा...दूर तक असर करती ....

    उत्तर देंहटाएं
  5. सच बात है .....असमय मौन हानि कारक होता है ....!!मौन रह कर अपनी बात स्पष्ट भी तो नहीं की जा सकती ...
    गहन अभिव्यक्ति सदा जी ....

    उत्तर देंहटाएं
  6. bahut khoob..... Sada, sis... bahut umda Rachna.. Badhai
    meri nayi Rachna par apka swagat hai

    उत्तर देंहटाएं
  7. धैर्य की परिभाषा यदि
    खामोशी अख्तियार करना है तो
    इस परिभाषा को बदला जाना चाहिये

    बिल्कुल सही कहा

    उत्तर देंहटाएं
  8. आज मिजाज़ में कुछ गर्मी सी है.......मिजाज़ में कभी हलकी आँच भी ज़रूरी है.....ज्यादा ठन्डे होने पर सिर्फ राख ही बचती है जो किसी काम की नहीं रह जाती है ।

    उत्तर देंहटाएं
  9. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  10. धैर्य की परिभाषा ख़ामोशी नहीं है, वो है इंतज़ार और सही वक़्त आने पर एक लोहार वाला प्राहर करने की है |

    Tamasha-E-Zindagi
    Tamashaezindagi FB Page

    उत्तर देंहटाएं
  11. वक्त रहते यदि आवाज नहीं उठाई तो वक्त हाथ से निकल जाता है..आक्रोश को शब्द मिलने ही चाहिए

    उत्तर देंहटाएं
  12. धैर्य तो ज़रूरी है पर खामोशी नहीं, वक़्त पर आवाज़ उठाना ही हमारी धीरता है... गहरे भाव, बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  13. धैर्य की परिभाषा यदि
    खामोशी अख्तियार करना है तो
    इस परिभाषा को बदला जाना चाहिये

    वाह! क्या बात कही है आपने..

    उत्तर देंहटाएं
  14. मौन दर्द की मौन सुनवाई ही होती है - चीखे नहीं, सड़क पर खुद उतर नाम को नहीं जलाया तो उम्मीद किससे ? पहले तमाशा बनाओ,फिर देखो कितनों को चैन आता है

    उत्तर देंहटाएं
  15. धैर्य की परिभाषा यदि
    खामोशी अख्तियार करना है तो
    इस परिभाषा को बदला जाना चाहिये
    अन्‍याय के खिलाफ आवाज उठाना
    यदि किसी वर्ग विशेष अथवा किसी की
    व्‍यक्तिगत भावनाओं को ठेस पहुँचाना है तो
    इसकी शुरूआत कहाँ से हुई
    किससे हुई एक नज़र वहाँ भी
    उठनी चाहिये न कि शांति का पाठ पढ़ाकर
    उन भावनाओं को एक नई गल्‍ती की प्रतीक्षा में
    मौन हो कतारबद्ध कर देना चाहिये !!!!


    एक सत्य आपकी बातों से पूर्णतः सहमत . सुन्दर और सशक्त कथन के लिए प्रणाम।

    उत्तर देंहटाएं
  16. धैर्य की परिभाषा यदि
    खामोशी अख्तियार करना है तो
    इस परिभाषा को बदला जाना चाहिये ..

    सच है धैर्य को कभी कभी कायरता मान लिया जाता है ... पर ऐसा नही होता .. इस बात का एहसास जरूर कराना चाहिए ...

    उत्तर देंहटाएं
  17. मन को धैर्य कहाँ सुहाता है, उसे तो सदा कुछ न कुछ करना होता है।

    उत्तर देंहटाएं
  18. अन्याय के विरुद्ध आवाज तो उठनी ही चाहिए ...
    बेहतरीन रचना
    सादर !

    उत्तर देंहटाएं
  19. धैर्य की परिभाषा यदि
    खामोशी अख्तियार करना है तो
    इस परिभाषा को बदला जाना चाहिये............

    मौन की आवाज़ कोई सुनता नहीं....चीखें ही अनसुनी कर दी जाती हैं....
    बेहतरीन अभिव्यक्ति...
    सस्नेह
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  20. सही कहा आपने सच बोलने का कोई समय और वक्त नहीं होता है

    सचाई को सचाई दिखाती रचना

    मेरी नई रचना

    प्रेमविरह

    एक स्वतंत्र स्त्री बनने मैं इतनी देर क्यूँ

    उत्तर देंहटाएं
  21. वाह,एक गहन भावाभिव्यक्ति
    आहत मौन मुखर होना ही चाहिए

    उत्तर देंहटाएं
  22. ख़ामोशी एक हद तक ही बर्दाश्त होती है !

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
मन को छू लें वो शब्‍द अच्‍छे लगते हैं, उन शब्‍दों के भाव जोड़ देते हैं अंजान होने के बाद भी एक दूसरे को सदा के लिए .....