शुक्रवार, 16 दिसंबर 2011

जिन्‍दगी कहां अंकगणित ....???

सम कुछ भी नहीं,
किसी के पास नहीं
सिवाय अंकों के खेल में
पर जिन्‍दगी
कहां अंकगणित होती है ....
बुद्धत्‍व का बोध कब होता है
जब हम अपने अंदर के
अशुद्ध विचारों को मार देते हैं
उसी पल हमारा नया जन्‍म होता है
खुद को मारने का अर्थ
उन स्थितियों को मारना
जो अहंकार को
बनाये रखती हैं
दृढ़ रहकर
उन हालातों को हटाना जो
हमें सत्‍य की राह से
विलग करते हैं ...
कभी सुख से सुख का सामना हो तो
ईर्ष्‍या हो उठती है
सामने वाले को आखिर वो
सुखी कैसे
मुझसे कम क्‍यूं नहीं
मेरी बराबरी पे
सच बहुत ही नागवार गुजरता है
सुख का सुख से मिलना
मानव मन में
समानता का भाव
कहीं ऊंच-नीच
कहीं वर्ण भेद
कहीं अमीरी-गरीबी तो है ही
लेकिन जब
दुख से दुख मिला तो
मन यहां भी
कसमसा उठता है
खुद को तसल्‍ली देने के लिए
ओह ... मैं अकेला नहीं
वो भी तो दुखी है
खुद को समझा लेता है
किसी तरह
ये मन है ही ऐसा
कुछ भी सम नहीं होने देता ...
किसी ने कहा है
इंसान मन से ही राजा मन से ही फ़कीर ...
भावनाएं ही आपको श्रेष्‍ठ बनाती हैं
फिर वह नज़र आपकी हो या
किसी और की ... !!!

37 टिप्‍पणियां:

  1. बुद्धत्‍व का बोध कब होता है ... जब हमारे अन्दर से हमारी सोच रुग्ण,वृद्ध और मृत होने लगती है ...

    उत्तर देंहटाएं
  2. किसी के पास नहीं
    सिवाय अंकों के खेल में
    भावों का अनूठा समन्वयन हर पंक्ति बहुत कुछ कहती हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  3. ऐसे विषयों पर कविता लिखना बहुत महत्वपूर्ण कार्य है ।

    उत्तर देंहटाएं
  4. इंसान मन से ही राजा मन से ही फ़कीर ...
    भावनाएं ही आपको श्रेष्‍ठ बनाती हैं
    फिर वह नज़र आपकी हो या
    किसी और की ... !!!
    Wah! Kya baat kah dee! Yahee to pooree rachana ka nichod hai!

    उत्तर देंहटाएं
  5. मन को साधना ही तो दुष्कर होता है और यदि मन को साध लिया तो समत्व स्वंय प्राप्त हो जाता है।

    उत्तर देंहटाएं
  6. खुद को मारने का अर्थ
    उन स्थितियों को मारना
    जो अहंकार को
    बनाये रखती हैं

    बहुत ही सुन्दर पोस्ट......हम स्वयं ही अपने लिए बाधा हैं बहुत खूब|

    उत्तर देंहटाएं
  7. यही क्या कम है कि हर विषम के बाद सम आ जाता है।

    उत्तर देंहटाएं
  8. खुद को मारने का अर्थ
    उन स्थितियों को मारना
    जो अहंकार को
    बनाये रखती हैं....

    बहुत सुन्दर रचना
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  9. भावनाएं ही आपको श्रेष्‍ठ बनाती हैं....
    सच...

    उत्तर देंहटाएं
  10. इंसान मन से ही राजा मन से ही फ़कीर ...
    भावनाएं ही आपको श्रेष्‍ठ बनाती हैं
    फिर वह नज़र आपकी हो या
    किसी और की ...

    Great philosophy ...

    .

    उत्तर देंहटाएं
  11. भावनाए ही इंसान को आगे बढाती,...सुंदर पोस्ट

    मेरी नई पोस्ट की चंद लाइनें पेश है....

    नेता,चोर,और तनखैया, सियासती भगवांन हो गए
    अमरशहीद मातृभूमि के, गुमनामी में आज खो गए,
    भूल हुई शासन दे डाला, सरे आम दु:शाशन को
    हर चौराहा चीर हरन है, व्याकुल जनता राशन को,

    पूरी रचना पढ़ने के लिए काव्यान्जलि मे click करे

    उत्तर देंहटाएं
  12. Sada ji...

    visham aur sam pahlu sikke ke...
    Rahte sang sada hi man ke...
    Paate kuchh to sam ho jaata..
    Visham jo chhote to ban jata..

    Khushiyan baante khushiyan badhtin..
    Gam baate hota hai kam..
    Ankganit jeevan ka saada..
    Sam ho ya ho fir ye visham...

    Sundar kavita...

    Deeapak Shukla..

    उत्तर देंहटाएं
  13. मन न सम रहने देता है न विषम ... बहुत अच्छी प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  14. sahi kaha, bhaavnaayen hamaari soch ka nirdharan karti hai aur jivan ko disha deti hai.

    उत्तर देंहटाएं
  15. कल १७-१२-२०११ को आपकी कोई पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  16. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा आज के चर्चा मंच पर भी की गई है। चर्चा में शामिल होकर इसमें शामिल पोस्ट पर नजर डालें और इस मंच को समृद्ध बनाएं.... आपकी एक टिप्पणी मंच में शामिल पोस्ट्स को आकर्षण प्रदान करेगी......

    उत्तर देंहटाएं
  17. पर जिन्‍दगी
    कहां अंकगणित होती है ....
    वाह ! बिलकुल सही ..

    आभार !!

    उत्तर देंहटाएं
  18. आपकी यह पोस्ट सीधे हृदय को संप्रेषित होती है और 'अ-सम' होने की प्रवृत्ति को सरल शब्दों में कहती है और समझा देती है. उत्कृष्ट पोस्ट.

    उत्तर देंहटाएं
  19. जब हम अपने अंदर के
    अशुद्ध विचारों को मार देते हैं
    उसी पल हमारा नया जन्‍म होता है...
    बहुत अच्छी प्रस्तुति .

    उत्तर देंहटाएं
  20. उन्नत भाषा शैली समेटे विचार ..

    उत्तर देंहटाएं
  21. इंसान मन से ही राजा मन से ही फ़कीर ...
    भावनाएं ही आपको श्रेष्‍ठ बनाती हैं
    फिर वह नज़र आपकी हो या
    किसी और की ... !!!

    जिसने कहा है वो आज की जिंदगी को नहीं जी रहे हैं... भावनाओं का कोई मोल नहीं है जी... वो पता नहीं किस जमाने का कथन है...

    उत्तर देंहटाएं
  22. बहुत सुंदर, क्या कहने

    ये मन है ही ऐसा
    कुछ भी सम नहीं होने देता ...
    किसी ने कहा है
    इंसान मन से ही राजा मन से ही फ़कीर ...

    बिल्कुल सच

    उत्तर देंहटाएं
  23. बुद्धत्‍व का बोध कब होता है
    जब हम अपने अंदर के
    अशुद्ध विचारों को मार देते हैं
    उसी पल हमारा नया जन्‍म होता है
    खुद को मारने का अर्थ
    उन स्थितियों को मारना
    जो अहंकार को
    बनाये रखती हैं

    ati uttam..

    उत्तर देंहटाएं
  24. मन के नियंत्रण में ही तो हो गया है सब कुछ...काश इसे भी नियंत्रित कर बुद्धत्व को प्राप्त कर सकते...बहुत सुंदर अभिव्यक्ति...

    उत्तर देंहटाएं
  25. भावनाएं ही आपको श्रेष्‍ठ बनाती हैं
    फिर वह नज़र आपकी हो या
    किसी और की ... !!!

    बहुत ही सुन्दर और अर्थपूर्ण पंक्तियाँ हैं

    उत्तर देंहटाएं
  26. बहुत खूब...
    वास्तव में मन के सटीक व्याख्या की है ....

    इंसान मन से ही राजा मन से ही फ़कीर ...
    बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  27. मन के भावों पर यदि नियंत्रण हो तो सब कुछ संभव है. सुंदर अर्थपूर्ण प्रस्तुति.

    उत्तर देंहटाएं
  28. मन शुद्ध और ईमानदार हो तभी हम श्रेष्ठता का दावा कर सकते हैं ! शुभकामनायें आपको !

    उत्तर देंहटाएं
  29. वाह बहुत ही बढ़िया प्रस्तुति ....

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
मन को छू लें वो शब्‍द अच्‍छे लगते हैं, उन शब्‍दों के भाव जोड़ देते हैं अंजान होने के बाद भी एक दूसरे को सदा के लिए .....