सोमवार, 17 अक्तूबर 2011

संभावनाओं के द्वार ....!!!
















संभावनाओं के द्वार
तुम खटखटाओ
तो सही
मुश्किलें बहुत हैं
दूर है मंजिल ....मगर कितनी ?
तुम पाने को उन्हें
हांथ अपना ब़ढ़ाओ तो सही
हार क्यूं मानना
जो विजयी हुए हैं
उनकी पराजय को तुमने कभी
नंगी आंखों से देखा नहीं
जब भी देखा बस यही सोच रखकर
वह कितना वैभवशाली है
कितना सम्पन् है
कितना सुख !! ... आह यह ईर्ष्या क्यूं ??
पूछते जो जानते कितनी रातों का जगा है वो
कितने दिनों की भूख ने उसे आज
इस जीत का सम्मान दिया है...
सच तो यही है ...
जिसे हर कोई नहीं जानता
सच का सामना करना पड़ता है
अदम् साहस से
उसी तरह तुम
पराजय का सामना करो
विजय तुम्हारी होगी
बस शंखनाद करना होगा
अपने मन के उन विचारों को
रौंदना होगा अपने कदमों के तले
मन की इन्द्रियों को थामना होगा
अपनी उन्हीं हथेलियो से
जिसकी तर्जनी से
पोछते आए हो आंसू अपने तुम
ये अबोध मुस्कान कैसी
तुम्हारे लबों पर
मेरी बातें तुम्हें दुश्कर लग रही हैं शायद
नादान हो तुम ...
दुश्कर क्या होता है ?
मन के हारे हार है मन के जीते जीत
सुना होगा तुमने भी
आओ उठो .. आगे बढ़ो ... वक् बढ़ रहा है
अपनी द्रुत गति से
तुम्हें इसके हर पल को पकड़ना है
पहचान करनी है इन पलों से
तभी तुम लिख पाओगे
एक नई इबारत
जिसे पढ़ने के लिए
तुम्हारे अपने भी होंगे कतार में
बस हौसला रखना
दुनिया तुम्हारे कदमों में होगी
विजय की पताका
तुम्हारे हांथों में ....!!!

33 टिप्‍पणियां:

  1. बस हौसला रखना
    दुनिया तुम्‍हारे कदमों में होगी
    विजय की पताका
    तुम्‍हारे हांथों में ....!!!
    Mushkil hai bahut aasaan nahee,phir bhee doosara paryaay nahee!

    उत्तर देंहटाएं
  2. पराजय का सामना करो.. विजय तुम्हारी होगी ... सच ही संभावनाओं के द्वार खोलती अच्छी रचना

    उत्तर देंहटाएं
  3. ऐसे ही जज्‍बे से इतिहास बना करता है।

    शुभकामनाएं...
    बेहतरीन शब्‍द संयोजन।

    उत्तर देंहटाएं
  4. मन के हारे हार है मन के जीते जीत
    सुना होगा तुमने भी
    आओ उठो .. आगे बढ़ो ... वक्‍त बढ़ रहा है
    अपनी द्रुत गति से
    तुम्‍हें इसके हर पल को पकड़ना है
    ...सीधे ह्रदय की बात कह दी आपने कविता के भाव मन को छूते हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  5. विजय की पताका
    तुम्‍हारे हांथों में ....!!!
    गहरी बात लिए पंक्तियाँ..... बहुत सुंदर

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत सुन्दर आह्वान करती संदेशपरक कविता जीवन जीना सिखाती है।

    उत्तर देंहटाएं
  7. तुम्हारी कोई कोई अभिव्यक्ति मन के अंध तमस में जुगनू सी चमक जाती है

    उत्तर देंहटाएं
  8. सुन्दर प्रस्तुति |
    बधाई स्वीकारें ||

    उत्तर देंहटाएं
  9. प्रेरक भावों ने संभावनाओं के द्वार खोल दिए!

    उत्तर देंहटाएं
  10. संभावनों के द्वार खोलती अति प्रेरक रचना ...शुभकामनायें !!

    उत्तर देंहटाएं
  11. सच तो यही है
    पराजय का सामना करो
    विजय तुम्‍हारी होगी
    बस शंखनाद करना होगा

    बहुत ही अच्छी पंक्तियाँ हैं।

    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  12. प्रेरक रचना ... !
    हार्दिक शुभकामनाएं !

    उत्तर देंहटाएं
  13. वाह...बेजोड़ रचना...बधाई स्वीकारें

    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  14. प्रेरक रचना . सुन्दर प्रस्तुति |हार्दिक शुभकामनाएं !

    उत्तर देंहटाएं
  15. सशक्त व प्रभावी .. आपको बधाई सुन्दर रचना के लिए..

    उत्तर देंहटाएं
  16. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टी की चर्चा कल मंगलवार के चर्चा मंच की जी रही है!
    यदि किसी रचनाधर्मी की पोस्ट या उसके लिंक की चर्चा कहीं पर की जा रही होती है, तो उस पत्रिका के व्यवस्थापक का यह कर्तव्य होता है कि वो उसको इस बारे में सूचित कर दे। आपको यह सूचना केवल इसी उद्देश्य से दी जा रही है! अधिक से अधिक लोग आपके ब्लॉग पर पहुँचेंगे तो चर्चा मंच का भी प्रयास सफल होगा।

    उत्तर देंहटाएं
  17. प्रेरक सुन्दर रचना ..
    आशा जगाती हुई

    उत्तर देंहटाएं
  18. तभी तुम लिख पाओगे
    एक नई इबारत
    जिसे पढ़ने के लिए
    तुम्‍हारे अपने भी होंगे कतार में
    आशा जगाती हुई सुन्दर रचना ..

    उत्तर देंहटाएं
  19. संभावनाओं के द्वार खटखटाते रहना होगा।

    उत्तर देंहटाएं
  20. प्रेरणादायक रचना...............

    उत्तर देंहटाएं
  21. पराजय का सामना करो
    विजय तुम्‍हारी होगी
    बस शंखनाद करना होगा
    अपने मन के उन विचारों को
    रौंदना होगा अपने कदमों के तले
    मन की इन्द्रियों को थामना होगा
    अपनी उन्‍हीं हथेलियो से
    जिसकी तर्जनी से
    पोछते आए हो आंसू अपने तुम

    बहुत ही शानदार रचना...........एक उम्मीद और और एक उत्साह जगती पोस्ट..........हैट्स ऑफ |

    उत्तर देंहटाएं
  22. मन की इन्द्रियों को थामना होगा
    अपनी उन्‍हीं हथेलियों से
    जिसकी तर्जनी से
    पोछते आए हो आंसू अपने तुम

    मन में उत्साह का संचरण करती बहुत ही खूबसूरत अभिव्यक्ति है.

    उत्तर देंहटाएं
  23. अदम्‍य साहस से
    उसी तरह तुम
    पराजय का सामना करो
    विजय तुम्‍हारी होगी ...

    प्रेरणा देते हैं ऐसे शब्द ... जिसने हारना सीख लिया जीत उसी की होई है ...

    उत्तर देंहटाएं
  24. बहुत अच्छा संदेश देती संदेशात्मक पोस्ट ....बहुत सुंदर प्रस्तुति सदा जी,....

    उत्तर देंहटाएं
  25. पराजय की कोख से ही जन्मती है विजय

    बहुत सही, सटीक और तार्किक

    उत्तर देंहटाएं
  26. sach safal logon ki hame bas uplabdhiyan dikhti hain unke sangharsh nahi...sundar bhav vyakt karti rachna jo hamme ek utsah jagati hai...

    उत्तर देंहटाएं
  27. उत्‍साह का संचार करती ...बेहतरीन अभिव्‍यक्ति ।

    उत्तर देंहटाएं
  28. बस हौसला रखना दुनिया तुम्हारे कदमो में होगी,
    बढ़िया पोस्ट,मुझे अच्छी.बधाई ,,,,

    उत्तर देंहटाएं
  29. बेहद सुंदर भावपूर्ण रचना ...बेहतरीन अभिव्‍यक्ति ।

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
मन को छू लें वो शब्‍द अच्‍छे लगते हैं, उन शब्‍दों के भाव जोड़ देते हैं अंजान होने के बाद भी एक दूसरे को सदा के लिए .....