गुरुवार, 20 अक्तूबर 2011

कोई अवशेष रह न जाए ...











मैं
दूर जाना चाहती हूं,
तुम्‍हारी हर याद से
हर याद को मैने
बहते जल में
प्रवाहित किया
आते समय अपने पैरों को धोया
अपने उन्‍हीं हांथो से छूकर
कोई अवशेष रह न जाए बाकी
आंसुओ से भीगे चेहरे को
पोछा आंचल से अपने
कम्पित अधरो ने जो कहा
उसे अनसुना कर
मैं थके कदमों से लौट पड़ी
पता है तुम्‍हें
यह हिचकियां
मेरा पीछा नहीं छोड़ रहीं
अब भी लगता है इन्‍हें
तुमसे दूर नहीं जा सकूंगी
पर बताना होगा मुझे
घर की उस दहलीज़ को
जिसे लांघती आई हूं
हरदम साथ तुम्‍हारे
उन दीवारों को
जो राज़दार थीं हर बात की
उन्‍हें भी आदत डालनी होगी
तुम्‍हारे बिना रहने की ....
मैं दूर जाना चाहती हूं .......!!!

43 टिप्‍पणियां:

  1. यह हिचकियां
    मेरा पीछा नहीं छोड़ रहीं
    अब भी लगता है इन्‍हें
    तुमसे दूर नहीं जा सकूंगी
    पर बताना होगा मुझे
    घर की उस दहलीज़ को
    जिसे लांघती आई हूं
    हरदम साथ तुम्‍हारे
    उन दीवारों को
    जो राज़दार थीं हर बात की
    उन्‍हें भी आदत डालनी होगी
    तुम्‍हारे बिना रहने की ....
    मैं दूर जाना चाहती हूं .......!!!antar se nikle gahre bhaw

    उत्तर देंहटाएं
  2. गहरी भावाभिव्‍यक्ति।
    सुंदर प्रस्‍तुतिकरण.....

    उत्तर देंहटाएं
  3. दिल की गहराईयों से बनी कविता .....छू गई इस मन को ....आभार

    उत्तर देंहटाएं
  4. उन दीवारों को
    जो राज़दार थीं हर बात की
    उन्‍हें भी आदत डालनी होगी
    तुम्‍हारे बिना रहने की ....

    बहुत सुन्दर लगी पोस्ट..........शानदार|

    उत्तर देंहटाएं
  5. बेहद मार्मिक चित्रण किया है आन्तरिक वेदना का।

    उत्तर देंहटाएं
  6. सुना है,समय हर घाव को भर देता है।

    उत्तर देंहटाएं
  7. आते समय अपने पैरों को धोया
    अपने उन्‍हीं हांथो से छूकर
    कोई अवशेष रह न जाए बाकी

    मन की गहन वेदना परिलक्षित हो रही है ...

    उत्तर देंहटाएं
  8. गहरी और मार्मिक अभिव्यक्ति ..

    उत्तर देंहटाएं
  9. उन दीवारों को भी
    आदत डालनी होगी
    तुम्हारे बिना रहने की....

    सुन्दर/गहन चिंतन....
    सादर बधाई...

    उत्तर देंहटाएं
  10. उन दीवारों को
    जो राज़दार थीं हर बात की
    उन्‍हें भी आदत डालनी होगी
    तुम्‍हारे बिना रहने की ....
    आदत बदलना मुश्किल होता है न ..

    उत्तर देंहटाएं
  11. पर बताना होगा मुझे
    घर की उस दहलीज़ को
    जिसे लांघती आई हूं
    हरदम साथ तुम्‍हारे
    उन दीवारों को
    जो राज़दार थीं हर बात की
    उन्‍हें भी आदत डालनी होगी
    तुम्‍हारे बिना रहने की ....
    मैं दूर जाना चाहती हूं .......!!!
    pravi panktiyan sahi mlikha hai aapne
    rachana

    उत्तर देंहटाएं
  12. गहरी पीड़ा की गहन अभिव्यक्ति.

    उत्तर देंहटाएं
  13. ek bar ko ghar ki dehlezon ko laanghna aasan ho jaye magar dil ki dehleezon ko laanghna utna hi mushkil.

    dard ka ehsas karati abhivyakti.

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    --
    यहाँ पर ब्रॉडबैंड की कोई केबिल खराब हो गई है इसलिए नेट की स्पीड बहत स्लो है।
    सुना है बैंगलौर से केबिल लेकर तकनीनिशियन आयेंगे तभी नेट सही चलेगा।
    तब तक जितने ब्लॉग खुलेंगे उन पर तो धीरे-धीरे जाऊँगा ही!

    उत्तर देंहटाएं
  15. उन दीवारों को
    जो राज़दार थीं हर बात की
    उन्‍हें भी आदत डालनी होगी
    तुम्‍हारे बिना रहने की ....
    मैं दूर जाना चाहती हूं .......!!!बहुत ही गहरे भावो से रची रचना....

    उत्तर देंहटाएं
  16. बेहतरीन कविता।
    -----
    कल 22/10/2011 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  17. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल शनिवार के चर्चा मंच पर भी की गई है!
    यदि किसी रचनाधर्मी की पोस्ट या उसके लिंक की चर्चा कहीं पर की जा रही होती है, तो उस पत्रिका के व्यवस्थापक का यह कर्तव्य होता है कि वो उसको इस बारे में सूचित कर दे। आपको यह सूचना केवल इसी उद्देश्य से दी जा रही है! अधिक से अधिक लोग आपके ब्लॉग पर पहुँचेंगे तो चर्चा मंच का भी प्रयास सफल होगा।

    उत्तर देंहटाएं
  18. प्रभावशाली रचना को सम्मान , पवों की सुभकामना ,
    बधाईयाँ जी /

    उत्तर देंहटाएं
  19. पर बताना होगा मुझे
    घर की उस दहलीज़ को
    जिसे लांघती आई हूं
    हरदम साथ तुम्‍हारे
    उन दीवारों को
    जो राज़दार थीं हर बात की
    उन्‍हें भी आदत डालनी होगी
    तुम्‍हारे बिना रहने की ....
    मैं दूर जाना चाहती हूं .......!!!

    सदा जी, आपके अंतर से निकले गहन भाव
    अत्यंत मार्मिक और हृदयस्पर्शी हैं.

    सुन्दर प्रस्तुति के लिए आभार.

    मेरी नई पोस्ट पर आपका हार्दिक स्वागत है.
    नाम जप के बारे में अपने विचार व अनुभव
    से अवगत कराके अनुग्रहित कीजियेगा.

    उत्तर देंहटाएं
  20. यह हिचकियां
    मेरा पीछा नहीं छोड़ रहीं
    अब भी लगता है इन्‍हें
    तुमसे दूर नहीं जा सकूंगी
    पर बताना होगा मुझे
    घर की उस दहलीज़ को
    जिसे लांघती आई हूं
    हरदम साथ तुम्‍हारे
    उन दीवारों को
    जो राज़दार थीं हर बात की
    उन्‍हें भी आदत डालनी होगी
    तुम्‍हारे बिना रहने की ....
    मैं दूर जाना चाहती हूं
    sada ji bahut hi marmik likha hai...duriyan banane ke lie mn ko manana padta hai....

    उत्तर देंहटाएं
  21. दिल की गहराईयों से बनी कविता|

    उत्तर देंहटाएं
  22. बहुत कठिन फैसला है
    बिलकुल इस नज़्म की तरह ...
    दर्द से भरा हुआ .....
    पैर धोना जरुरी था ....
    इन अवशेषों के लिए ......

    उत्तर देंहटाएं
  23. बहुत हि भावनात्मक....
    सुन्दर !

    उत्तर देंहटाएं
  24. गहन भाव अत्यंत हृदयस्पर्शी प्रस्तुति

    परिवार सहित ..दीपावली की अग्रिम शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  25. पता है तुम्‍हें
    यह हिचकियां
    मेरा पीछा नहीं छोड़ रहीं
    अब भी लगता है इन्‍हें
    तुमसे दूर नहीं जा सकूंगी

    ....बहुत मार्मिक ...गहन मर्मस्पर्शी भाव...बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति..

    उत्तर देंहटाएं
  26. प्रभावशाली भावुक रचना, बहुत दिनों के बाद ऐसी रचना पढने को मिली.

    दीपावली की शुभकामनायें.

    उत्तर देंहटाएं
  27. यादें याद आती हैं....बातें भूल जाती है....
    यादें किसी दिलो-जनम के चले जाने के बाद आती हैं....
    यादें.................

    उत्तर देंहटाएं
  28. सदा जी,सुनीता जी की नई पुरानी हलचल से एक बार फिर यहाँ पर.

    नई पुरानी हलचल का सदस्य बनने के लिए आपको बहुत बहुत बधाई.

    मेरे ब्लॉग को न भूलिएगा जी.
    आशा है आप मेरी 'सदा' जरूर सुनेगीं.

    उत्तर देंहटाएं
  29. पैर धोकर या हाथ -मुंह धोकर पिछली यादो से दूर हो सकते हैं क्या ?

    उत्तर देंहटाएं
  30. सचमुच संडे का पूरा आनंद ले रही हैं आप जो न देख पायीं हैं आज की यह खुशनुमा हलचल :) आज कीनई पुरानी हलचल

    उत्तर देंहटाएं
  31. तुमसे दूर नहीं जा सकूंगी
    पर बताना होगा मुझे
    घर की उस दहलीज़ को
    जिसे लांघती आई हूं
    हरदम साथ तुम्‍हारे
    उन दीवारों को
    जो राज़दार थीं हर बात की
    उन्‍हें भी आदत डालनी होगी
    तुम्‍हारे बिना रहने की ....
    मैं दूर जाना चाहती हूं .......!!!
    वाह सदा जी वाह hates of to you मज़ा आगया आपकी यह रचना पढ़कर बहुत सुंदर सच को ब्यान करती भावपूर्ण रचना....

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
मन को छू लें वो शब्‍द अच्‍छे लगते हैं, उन शब्‍दों के भाव जोड़ देते हैं अंजान होने के बाद भी एक दूसरे को सदा के लिए .....