गुरुवार, 2 जून 2011

शब्‍द हथियार मेरे हैं ...













मैं
चल दिया करता जब भी अमन की राह पे,
हर कदम पे अपने दुश्‍मन तैयार करता था ।

पूछा करता था उनसे ही फिर भी मैं हंसकर,
यारो बताओ तुम्‍हारा क्‍या लिया करता था ।

फासले दिलों के मिटा कर नजदीकियां लाया,
बस इक यही गुनाह मैं सरेआम करता था ।

मेरी कलम के शब्‍द हथियार मेरे हैं जिनसे मैं,
खामोश रह कर भी वार कर लिया करता था ।

सत्‍य की लड़ाई लड़ता हूं तो क्‍या गुनाह भला,
अपने सर बांध के कफ़न ही निकला करता था ।

32 टिप्‍पणियां:

  1. sabdo ka tanabana ...bahut khubsurat buna aapne...:)
    pyari rachna...

    उत्तर देंहटाएं
  2. सच की राह बहुत कठिन है ...बहुत उम्दा लेखनी

    उत्तर देंहटाएं
  3. सत्‍य की लड़ाई लड़ता हूं तो क्‍या गुनाह भला,
    अपने सर बांध के कफ़न ही निकला करता था
    satya kee rah pe to kafan bandh kar hi nikalna padta hai.bahut sarthak abhivyakti.

    उत्तर देंहटाएं
  4. सुन्दर रचना ! सत्य का डगर कठिन होता है ...

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत कठिन है ड्गर पनघट की ……………सत्य की राह यूँ ही पार नही होती।

    उत्तर देंहटाएं
  6. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  7. सुन्दर अभिव्यक्ति ..सत्य की लड़ाई लडनी ही कठिन होती है

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत कमाल के शेर हैं सब ... सच है अमन की राह आसान नही होती ...

    उत्तर देंहटाएं
  9. shabd hain hathiyaar ...sach ki ladai ...bahut achchhe vichar hain aapki is rachna me.. bahut sundar

    उत्तर देंहटाएं
  10. सच की लड़ाई शब्द के शस्त्र से. सुदंर कविता.

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत बढ़िया लिखा है आपने.

    उत्तर देंहटाएं
  12. जब सत्य का वरण कर लिया तब असत्य से क्या घबराना।

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहुत ही सुंदर ....प्रभावित करती पंक्तियाँ रची हैं...

    उत्तर देंहटाएं
  14. भावनाओं का बहुत सुंदर चित्रण . ...बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  15. मेरी कलम के शब्द हथियार मेरे हैं, जिनसे मैं
    खामोश रहकर भी वार कर लिया करता था.
    ....वाह!... क्या बात है.... बहुत खूब!
    ---देवेंद्र गौतम

    उत्तर देंहटाएं
  16. भावों की अभिव्यक्ति!! सुंदर

    उत्तर देंहटाएं
  17. सुंदर भाव पूर्ण रचना |बधाई |
    आशा

    उत्तर देंहटाएं
  18. कमाल का लिखा है..सुन्दर रचना

    उत्तर देंहटाएं
  19. सत्य कि राह आसान नहीं. सुंदर अभिव्यक्ति. भावपूर्ण रचना. कमाल लेखन.

    उत्तर देंहटाएं
  20. सच रह कठिन है मगर सचाई और शांति देती है ...
    बहुत सुन्दर रचना
    आभार
    कोरल

    उत्तर देंहटाएं
  21. सत्य की राह पर विरले ही चलते हैं। और जो निकल पड़ते हैं वे पीछे मुड़कर नहीं देखते।

    उत्तर देंहटाएं
  22. bahut sundar saty ka marg kayhhin jarur hai magr himmat sath ho to aasan hai

    उत्तर देंहटाएं
  23. sada ji
    bahut hi beintaha v lajwab rachna likhi hai aapne jo yatharth ke bahut hi nikat mahsus hoti hai .
    bilkul saty ----kalam ek aisa jabardast hathiyar hai jiske samne talwar ki dhar bhi kam pad jaati hai .
    bahut hi sundar prastuti ----
    hardik badhai
    poonam

    उत्तर देंहटाएं
  24. सुन्दर अभिव्यक्ति बहुत सुन्दर रचना

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
मन को छू लें वो शब्‍द अच्‍छे लगते हैं, उन शब्‍दों के भाव जोड़ देते हैं अंजान होने के बाद भी एक दूसरे को सदा के लिए .....