गुरुवार, 3 दिसंबर 2009

खामोशियां ...


खामोशियां

गहरी होती गई जितनी

वह तन्‍हाई में

सिमटती गई उतनी

ख्‍यालों को बुनती कभी

पर वह उलझ जाते

यूं एक दूसरे में

वह सुलझाये बिना

फिर नये सिरे से

बुनना चालू कर देती

कभी बुनती वह तुझसे मिलना

फिर तेरा बिछड़ना

कभी जिनमें होता तेरा प्‍यार,

या होती बिन बात की तकरार

वादे जन्‍मों जनम साथ निभाने के

या फिर

दर्द जुदाई का देकर

बिन बताये चले जाना

उसे हैरानी होती

आपने आप पर

उसका हर सिरा तुझसे शुरू होकर

तुझपे ही खत्‍म होता

आज भी ।

25 टिप्‍पणियां:

  1. कभी जिनमें होता तेरा प्‍यार,

    या होती बिन बात की तकरार

    वादे जन्‍मों जनम साथ निभाने के

    या फिर

    दर्द जुदाई का देकर

    बिन बताये चले जाना


    बहुत सुंदर पंक्तियाँ..... मन को छू गयीं....

    बेहतरीन शब्दों के साथ बहुत सुंदर कविता.....

    ---------------------------------------------

    आपने बहुत दिनों के बाद कुछ लिखा..... आपकी तबियत तो ठीक है न....? आजकल मौसम भी काफी बदल रहा है....

    Take care....

    Regards.....

    उत्तर देंहटाएं
  2. मेरा नया संस्मरण ज़रूर देखिएगा....

    उत्तर देंहटाएं
  3. महफूज जी, अभी-अभी आपका संस्‍मरण पढ़ा, बहुत ही अच्‍छा लगा, वहां तक आने में अवश्‍य समय लगा, मौसम की चपेट में आ चुकी थी, अब ठीक हूं आप सभी के ब्‍लाग पर न पहुंच पाने का खेद है, वह कमी जल्‍द ही पूरी होगी ।

    उत्तर देंहटाएं
  4. शब्दों का चयन और भावनायें , अति सुन्दर

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत ख़ूबसूरत रचना लिखा है आपने ! हर एक पंक्तियाँ सच्चाई बयान करती है! इस उम्दा रचना के लिए बधाई!

    उत्तर देंहटाएं
  6. उसे हैरानी होती

    आपने आप पर

    उसका हर सिरा तुझसे शुरू होकर

    तुझपे ही खत्‍म होता

    आज भी ।

    बहुत सुन्दर भाव !

    उत्तर देंहटाएं
  7. उसे हैरानी होती

    आपने आप पर

    उसका हर सिरा तुझसे शुरू होकर

    तुझपे ही खत्‍म होता

    आज भी ।
    बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति है बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  8. मन को छूती हुई सुंदर रचना ..... सच में खामौशी बहुत गहरी होती है कितने तूफान समेटे .........

    उत्तर देंहटाएं
  9. तेरे जाने का गम ....

    यूँ बुन गया जाले ख़ामोशी के

    निकलना चाहती हूँ जितना

    और उलझ जाती हूँ......!!

    उत्तर देंहटाएं
  10. उसे हैरानी होती

    आपने आप पर

    उसका हर सिरा तुझसे शुरू होकर

    तुझपे ही खत्‍म होता

    आज भी ।


    सही नब्ज टटोली है जी!
    बधाई!

    उत्तर देंहटाएं
  11. दिल के कोने से कुछ ऐसी ही आवाज आती है.
    बहुत प्रभावित किया कविता की पंक्तियों ने.
    --
    ये मौसम भी न जब तब बिना बताये चपेट में लेता रहता है. उम्मीद है अब सब खैरियत होगा...

    उत्तर देंहटाएं
  12. उसे हैरानी होती

    आपने आप पर

    उसका हर सिरा तुझसे शुरू होकर

    तुझपे ही खत्‍म होता

    आज भी ।
    वाह जी क्या ख़ामोशी है खामोश हो कर भी वो सब कह गयीं जो जुबान नहीं कह सकी सुंदर प्रस्तुती के लिए बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  13. शब्दों का शब्दहीन खेल है खामोशी ।

    उत्तर देंहटाएं
  14. सुंदर रचना
    खामोशी को पढ़ना आसान नहीं है।

    उत्तर देंहटाएं
  15. बहुत सुंदर और उत्तम भाव लिए हुए.... खूबसूरत रचना......

    Sanjay kumar
    http://sanjaybhaskar.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  16. उत्तर
    1. आपका बहुत-बहुत शुक्रिया ...
      सादर

      हटाएं
  17. रिश्तों के उलझाव कुछ ऐसे ही होते हैं...
    बहुत सुंदर रचना!
    ~सादर!!!

    उत्तर देंहटाएं
  18. बहुत ही सुंदर अभिव्यक्ति .....आप भी पधारो आपका स्वागत है मेरा पता है ...http://pankajkrsah.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  19. बहुत सुन्दर. शब्दों की सम्पूर्ण बुनाई.

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
मन को छू लें वो शब्‍द अच्‍छे लगते हैं, उन शब्‍दों के भाव जोड़ देते हैं अंजान होने के बाद भी एक दूसरे को सदा के लिए .....