मंगलवार, 29 दिसंबर 2009

आगमन नये साल का ....


पल-पल वक्‍त के साथ कदम मिला के चल,

ठहरता नहीं यहां किसी के लिये कोई भी पल ।

बीते वक्‍त की बातों से सीख लेना सदा ही,

जाने वाला लम्‍हा लौटेगा नहीं, वो होगा कल ।

नया पल, नया दिन लेकर आ रहा है ये साल,

नया, मुस्‍करा के जरा इसका स्‍वागत करें चल ।

भूल के गिला-शिकवा दोस्‍तों से मिल के बांटो,

खुशी, मुबारक हो साल नया दो दुआ इस पल ।

आएंगी बहारें खुद चमन में मुस्‍कराते हुये मिलोगे,

महकेगा आंगन फूलों की खुश्‍बू से तेरा हर पल ।

वादा करें तो तोड़े नहीं, अपनों को साथ लें हम,

उम्‍मीद का दामन कभी छूटे न किसी भी पल ।

आगमन नये साल का, विदा करना हर साल एक,

नये साल को, फिर सजाना आने वाला नया कल !

13 टिप्‍पणियां:

  1. Jiwan ke anubhav aage bhavishy me bahut hi kam aate hai..badhiya rachan..sundar sandesh parak rachana..bahut badhiya laga..naye saal ki agrim shubhakamnaye...dhanywaad is sundar rachan ke liye!!

    उत्तर देंहटाएं
  2. नये साल के स्वागत में लिखा बेहतरीन गीत ........ आपको नव वर्ष की बहुत बहुत शुभकामनाएँ ..........

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत खूब, आपको भी नव-वर्ष की हार्दिक शुभकामनाये !

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत अच्छा लगा यह गीत....

    आपको नव वर्ष कि शुभकामनाएं....

    Hope u will be fine....

    Regards...

    उत्तर देंहटाएं
  5. बेहतरीन रचना प्रस्तुति . नववर्ष की हार्दिक शुभकामना .

    उत्तर देंहटाएं
  6. नए साल का सुन्दर स्वागत .....नव वर्ष की शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत सुंदर अहसास है नव वर्ष का.


    नववर्ष पर हार्दिक बधाई आप व आपके परिवार की सुख और समृद्धि की कमाना के साथ
    सादर रचना दिक्षित

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत सुंदर और उत्तम भाव लिए हुए.... खूबसूरत रचना......

    संजय कुमार
    हरियाणा
    http://sanjaybhaskar.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत खूब, आपको भी नव-वर्ष की हार्दिक शुभकामनाये !

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
मन को छू लें वो शब्‍द अच्‍छे लगते हैं, उन शब्‍दों के भाव जोड़ देते हैं अंजान होने के बाद भी एक दूसरे को सदा के लिए .....