बुधवार, 23 सितंबर 2009

मां के सपने .....

सपने बुनते-बुनते,

आंखे थक सी गईं थीं

मां की कभी

वह कहती मेरा लाल

जल्‍दी से बड़ा हो जाए

फिर कहती

खूब पढ़-लिख जाए

लाल बड़ा भी हुआ

पढ़ लिख भी गया

मां की आंखो ने

फिर एक सपना बुना

अब यह कमाने लगे तो

मैं एक चांद सी

दुल्‍हन ले आऊं

इसके लिए

मैं डरने लगा था

सपनो से

कहीं

मैं

एक दिन

अलग न हो जाऊं

मां से

इन सपनों की वजह से

मां की दुल्‍हन भी

सपने लेकर आएगी

अपने साजन के

मैं किसकी

आंख में बसूंगा

किसके

सपने पूरे करूंगा ।

4 टिप्‍पणियां:

  1. जी चाहता है सिर्फ वाह वाह वाह वाह कहूँ.........

    उत्तर देंहटाएं
  2. bahut hi oomda kavita........... pesopesh mein to admi aa hi ajyega.........

    bahut shandar.........



    thanx for sharing........

    उत्तर देंहटाएं
  3. बेटे के साथ ये उलझन तो हमेशा ही रहती है।

    उत्तर देंहटाएं
  4. acchee रचना cहै बेटा अक्सर ही इस उहापोह मे कई जीने के पल खो बैठता है वहीक्यों तीनो ही । क्या माँ जरा स समझौता नहीं कर सकती उसे इस स्थिती से उबारने के लिये। ताकि वो दोनो खुश रह सकें।

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
मन को छू लें वो शब्‍द अच्‍छे लगते हैं, उन शब्‍दों के भाव जोड़ देते हैं अंजान होने के बाद भी एक दूसरे को सदा के लिए .....