बुधवार, 9 सितंबर 2009

गुमनाम ख्‍यालों के पैगाम . . .

ये सफर आखिरी है मेरा उसे सलाम दे देना,

लौट के फिर न आऊंगा ये पैगाम उसे दे देना ।

म‍हफिलें सजती रहेंगी पर हम न उसमें होंगे,

कुछ गुमनाम ख्‍यालों के पैगाम उसे दे देना ।

पढ़ लिख कर वो इतना बड़ा हो गया ज्ञानी,

मेरी छोटी-छोटी बातों के पैगाम उसे दे देना ।

ख्‍यालों में रहकर वो ख्‍वाबों में घर कर गया,

मैं सदा पास रहूंगा तेरे ये पैगाम उसे दे देना ।

रस्‍सी जल जाए तो भी उसके बल नहीं जाते,

कह गए ज्ञानी-ध्‍यानी ये पैगाम उसे दे देना ।

यादों के जंगल में भटक जाओगे तो भूलोगे,

एक दिन खुद का पता ये पैगाम उसे दे देना ।

11 टिप्‍पणियां:

  1. ख्‍यालों में रहकर वो ख्‍वाबों में घर कर गया,

    मैं सदा पास रहूंगा तेरे ये पैगाम उसे दे देना ।

    bahut hi sundar bhaw dil ko chhoo gayi .....ek bhaawpurn ......

    उत्तर देंहटाएं
  2. Khubsurat paigham liye hue kavita dil chuti hai..
    behtareen abhivyakti..dher sari badhayi..

    उत्तर देंहटाएं
  3. यादों के जंगल में भटक जाओगे तो भूलोगे,

    एक दिन खुद का पता ये पैगाम उसे दे देना.....bahut khoob likha hai...

    उत्तर देंहटाएं
  4. ये सफर आखिरी है मेरा उसे सलाम दे देना,
    लौट के फिर न आऊंगा ये पैगाम उसे दे देना ।
    बेहतरीन रचना
    अच्छी लगी

    उत्तर देंहटाएं
  5. पढ़ लिख कर वो इतना बड़ा हो गया ज्ञानी,
    मेरी छोटी-छोटी बातों के पैगाम उसे दे देना ........

    bahoot khoobsoorat likha hai ...... ye sher to khaas pasand aaya ... dil ke kareeb

    उत्तर देंहटाएं
  6. "ये सफर आखिरी है मेरा उसे सलाम दे देना,
    लौट के फिर न आऊंगा ये पैगाम उसे दे देना ।
    यादों के जंगल में भटक जाओगे तो भूलोगे,
    एक दिन खुद का पता ये पैगाम उसे दे देना ।"
    हर शेर लाजवाब...उम्दा ग़ज़ल....बहुत बहुत बधाई....

    उत्तर देंहटाएं
  7. खूबसूरत रचना। पर और भी गम हैं जमाने में मोहब्बत के सिवा। हमारे आपके आसपास काफी कुछ घटित हो रहा है, उन पर भी कुछ लिखिए।
    मेरे ब्लॉग पर भी पधारें।

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत ही ख़ूबसूरत और भावपूर्ण रचना लिखा है आपने! इतना अच्छा लगा कि तारीफ के लिए अल्फाज़ कम पर गए! इस बेहतरीन रचना के लिए बधाइयाँ!

    उत्तर देंहटाएं
  9. म‍हफिलें सजती रहेंगी पर हम न उसमें होंगे,
    कुछ गुमनाम ख्‍यालों के पैगाम उसे दे देना ।

    bahut khoob ....!!

    ख्‍यालों में रहकर वो ख्‍वाबों में घर कर गया,
    मैं सदा पास रहूंगा तेरे ये पैगाम उसे दे देना ।

    sanjida kar gai ....!!

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
मन को छू लें वो शब्‍द अच्‍छे लगते हैं, उन शब्‍दों के भाव जोड़ देते हैं अंजान होने के बाद भी एक दूसरे को सदा के लिए .....