बुधवार, 27 मई 2009

फिर से जी लूंगी . . .

मन ही मन मैं,

तेरा नाप लेकर,

बनाती रही तेरे,

तन के कपड़े  

नहीं ये छोटा होगा,

नहीं ये होगा बड़ा,

करती खुद से जाने

कितने झगड़े

तन के कपड़े . . . ।

 

तू गोरी होगी,

या सांवरी

मैं भी बावरी बन

सजाती रही गुडि़या पे

तेरे वो कपड़े

तन के कपड़े . . . ।

 

झलक तेरी आंखों में

लेकर सोती तो,

ख्‍वाबों में फिरती

तुझको पकड़े-पकड़े

तन के कपड़े . . . ।

 

मैं अपना बचपन

फिर से जी लूंगी

तू आ जाएगी तो

मिट जाएंगे सारे झगड़े

तन के कपड़े . . . ।

11 टिप्‍पणियां:

  1. सुन्दर कल्पना। वाह। कहते हैं कि-

    तमाम घर की फिजा को बदलता रहता है।
    वो एक खिलौना जो आँगन में चलता रहता है।।

    सादर
    श्यामल सुमन
    09955373288
    www.manoramsuman.blogspot.com
    shyamalsuman@gmail.com

    उत्तर देंहटाएं
  2. wah bahut hee sundar rachnaa, saral shabdon mein aapne bahut sundar bhaav utpann kar liye....

    उत्तर देंहटाएं
  3. वाह ये गुडियाँ के कपडे का बयां इतना निराला है........ तो वो आई तो उसका बयां कैसा होगा.....
    बहुत सुन्दर........

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत ही प्यारी कविता है। भावनाओं को उड़ेलती हुई। सचमुच बहुत सुंदर रचना। (कृपया वर्ड वेरीफिकेशन हटाएं-धन्यवाद)

    उत्तर देंहटाएं
  5. मैं अपना बचपन
    फिर से जी लूंगी
    तू आ जाएगी तो
    मिट जाएंगे सारे झगड़े
    तन के कपड़े . . .

    वाह...............गहरी भावनाओं की अभिव्यक्ति है इस रचना में..........छोटे छोटे सपनो में बुनती हुयी तन के कपडे वास्तव में कपडे नहीं पूरी जिंदगी का फलसफा है.......... लाजवाब

    उत्तर देंहटाएं
  6. sach me co aa jaree hai to maa sab kuchh bhool jati hai hai bhavmay kavita badhai

    उत्तर देंहटाएं
  7. कमाल के कोमल भाव हैं आपके.
    आपकी इस सर्वाधिक लोकप्रिय
    प्रस्तुति को पढकर मन मग्न हो गया है सदा जी.

    आभार.

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
मन को छू लें वो शब्‍द अच्‍छे लगते हैं, उन शब्‍दों के भाव जोड़ देते हैं अंजान होने के बाद भी एक दूसरे को सदा के लिए .....