बुधवार, 20 मई 2009

बन्‍द कर के मुठ्ठी . . .

उम्र भर का रिस्‍ता वो तोड़ आया पल में,
जाने क्‍या देखा उसने आने वाले कल में ।

पलकों पे उसकी आंसू लबों पे तबस्सुम,
सारी यादों को जो छोड़ आया पल में ।

बन्‍द कर के मुठ्ठी खुद को ही दोष देता,
कैसे मैं आ गया उस बेवफा के छल में ।

बुराई का बदला बुराई मिला है नहीं समझा,
कोई, कैसे समझ पाता वो नादां इक पल में ।

कैसे मिटाऊं इन फासलों को ‘सदा’ के लिये,
बता दे मुझे तू आने वाले हर एक पल में ।

5 टिप्‍पणियां:

  1. बन्‍द कर के मुठ्ठी खुद को ही दोष देता,
    कैसे मैं आ गया उस बेवफा के छल में ।

    -बेहतरीन!!

    उत्तर देंहटाएं
  2. वाह ! वाह ! वाह ! लाजवाब ग़ज़ल !

    कोमल भावों को बहुत ही सुन्दर ढंग से अभिव्यक्ति दी है आपने.....

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
मन को छू लें वो शब्‍द अच्‍छे लगते हैं, उन शब्‍दों के भाव जोड़ देते हैं अंजान होने के बाद भी एक दूसरे को सदा के लिए .....