शुक्रवार, 22 मई 2009

लौट आती देह में . . .

जल ही जीवन है,

नहीं इसके बिना कोई जीवन है,

एक बूंद से,

निश्‍वास होती सांस

लौट आती देह में,

जल ही जीवन है . . . ।

समझो तो सार इसका,

मीन से, जब तक,

जल में रही

सब कुछ इसका था जल,

सांस, आस, विश्‍वास,

न होती एक पल स्थिर,

न आती एक पल उदासी,

चंचलता हर पल रहती,

इसके साथ,

जल ही जीवन है . . . ।

हर ओर था जीवन,

सब ओर था उल्‍लास,

लेकिन जल में रहकर भी,

नहीं बुझी थी प्‍यास,

जीवन था उसका जल,

जल ही जीवन है . . . ।

नहीं रह पाता

कोई भी निर्जल

जल ही जीवन है . . . ।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

ब्लॉग आर्काइव

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
मन को छू लें वो शब्‍द अच्‍छे लगते हैं, उन शब्‍दों के भाव जोड़ देते हैं अंजान होने के बाद भी एक दूसरे को सदा के लिए .....