शुक्रवार, 3 अक्तूबर 2014

एहसासों की खिड़कियाँ ...

बड़ी तीक्ष्‍ण होती है
स्‍मृतियों की
स्‍मरण शक्ति
समेटकर चलती हैं
पूरा लाव-लश्‍कर अपना
कहीं‍ हिचकियों से
हिला देती हैं अन्‍तर्मन को
तो कहीं खोल देती हैं
दबे पाँव एहसासों की खिड़कियाँ
जहाँ से आकर
ठंडी हवा का झौंका
कभी भिगो जाता है मन को
तो कभी पलकों को
नम कर जाता है 
...
कुछ रिश्‍तों को
कसौटियों पर
परखा नहीं जाता
इन्‍हें निभाया जाता है
बस दिल से
स्‍मृतियों को कभी
जगह नहीं देनी पड़ती
ये खुद-ब-खुद
अपनी जगह बना लेती हैं
एक बार जगह बन जाये तो
फिर रहती है अमिट
सदा के लिए

....

14 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल शनिवार (04-10-2014) को "अधम रावण जलाया जायेगा" (चर्चा मंच-१७५६) पर भी होगी।
    --
    चर्चा मंच के सभी पाठकों को
    विजयादशमी (दशहरा) की
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  2. स्मृति में जो बस गया वो बार बार वहीँ से झांकता है!

    उत्तर देंहटाएं
  3. यादों के कदमों के निशाँ होते ही हैं इतने प्रखर और स्पष्ट कि मन पर अपने चिन्ह सदा के लिये छोड़ जाते हैं ! बहुत ही प्यारी रचना !

    उत्तर देंहटाएं
  4. कुछ रिश्‍तों को
    कसौटियों पर
    परखा नहीं जाता
    इन्‍हें निभाया जाता है
    बस दिल से..........
    सदा आपकी कवितायें हमेशा अपना स्मृति चिन्ह छोड जाती हैं दिल पे....:)

    उत्तर देंहटाएं
  5. सच ....हर रिश्ता परखा नहीं जाता . हर स्मृति जानबूझकर सहेजने का जतन नहीं करना पड़ता .....

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत ही संवेदनशील रचना। धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  7. वाह , और यह सच है।, मंगलकामनाएं आपको !!

    उत्तर देंहटाएं
  8. कुछ रिश्‍तों को
    कसौटियों पर
    परखा नहीं जाता
    इन्‍हें निभाया जाता है
    बस दिल से------ रिश्तों का सच तो यही है वाकई कुछ रिश्ते सहेजकर ही रखे जाते हैं --
    भावपूर्ण और सुंदर रचना --
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  9. अपनों की स्मृतियाँ कैसे जा सकती हैं , मंगलकामनाएं !!

    उत्तर देंहटाएं
  10. रिश्तों को बस जिया जाता है... स्मृतियाँ तो खुद बा खुद बनती ही है, बस खूबसूरत हो रिश्ते. बहुत सुन्दर रचना.

    उत्तर देंहटाएं
  11. रिश्ते तो होते ही हैं निभाने के लिए ... अपने से अलग कहाँ हो पाते हैं ...

    उत्तर देंहटाएं
  12. स्मृतियों की स्मरण शक्ति बहुत तीव्र होती हैं । रिश्ते निभाने पड़ते। हैं । यथार्थ को कहती सुन्दर रचना ।

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
मन को छू लें वो शब्‍द अच्‍छे लगते हैं, उन शब्‍दों के भाव जोड़ देते हैं अंजान होने के बाद भी एक दूसरे को सदा के लिए .....