बुधवार, 15 अक्तूबर 2014

तो कभी चाहत में !!!!!


प्रेम को जब भी देखती हूँ मैं
अपेक्षाओं की आँखों में
रंग सारे बारी-बारी
बिखर जाते हैं
कभी प्रेम माँगता बदले में प्रेम
तो कभी चाहत में बलिदान माँगता
मैं हैरानी के सोपानों को 
पार करते हुए
इसकी हर ऊँचाई का
क़द मापती
पर कहाँ संभव था
प्रेम का आँकलन !!
...
जब याचना से परे
प्रेम दाता बना,
टूटा, बिखरा
फिर भी मुस्कराया
खुद हँसा
लम्हों को जीना सिखाया
सोचती हूँ तो
होता है एहसास
बेमक़सद कहाँ रब ने
दिया था ये रूहानी जज्बा
सौग़ात में !!!

...

20 टिप्‍पणियां:

  1. सच इस रूहानी जज़्बे अनगिनत मक़सद हैं, पावन मक़सद

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुंदर प्रस्तुति...
    दिनांक 16/10/2014 की नयी पुरानी हलचल पर आप की रचना भी लिंक की गयी है...
    हलचल में आप भी सादर आमंत्रित है...
    हलचल में शामिल की गयी सभी रचनाओं पर अपनी प्रतिकृयाएं दें...
    सादर...
    कुलदीप ठाकुर

    उत्तर देंहटाएं
  3. jab yachana se pare prem dataa banaa...tutaa bikhara fir bhi muskurayaa..sayd yhi prem h...sundar kavita

    उत्तर देंहटाएं
  4. प्रेम के स्वरूप का सुंदर वर्णन....

    उत्तर देंहटाएं
  5. खुद हँसा
    लम्हों को जीना सिखाया
    वाह....
    आज आपकी रचना दिखी
    मानो ईद का चाँद दिखा
    दीदी
    सादर प्रणाम...

    उत्तर देंहटाएं
  6. प्रेम अपने आस पास ही घुमाता रहता है हर किसी को धुरी बन कर ...
    गहरे एहसास ...

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल बृहस्पतिवार (16-10-2014) को "जब दीप झिलमिलाते हैं" (चर्चा मंच 1768) पर भी होगी।
    --
    चर्चा मंच के सभी पाठकों को
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  8. सुन्दर प्रस्तुतिकरण ..... सच ही प्रेम का आकलन कहां हो सकता है ....

    उत्तर देंहटाएं
  9. प्रेम तो यही है...निश्छल.. गंगा..की तरह...अविरल....

    उत्तर देंहटाएं
  10. अनुपम रचना...... बेहद उम्दा और बेहतरीन प्रस्तुति के लिए आपको बहुत बहुत बधाई...

    नयी पोस्ट@बड़ी मुश्किल है बोलो क्या बताएं

    उत्तर देंहटाएं
  11. Behad khubsurati se bayan kiya aapne prem kaa sunder ahsaas ...umda prastuti !!

    उत्तर देंहटाएं
  12. अनुपम प्रस्तुति....आपको और समस्त ब्लॉगर मित्रों को दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं...
    नयी पोस्ट@बड़ी मुश्किल है बोलो क्या बताएं

    उत्तर देंहटाएं
  13. अहसासों से भरी सुंदर प्रस्तुति।

    उत्तर देंहटाएं
  14. प्रेम का आंकलन हो भी नहीं सकता । खूबसूरती से प्रेम की व्याख्या की है ।

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
मन को छू लें वो शब्‍द अच्‍छे लगते हैं, उन शब्‍दों के भाव जोड़ देते हैं अंजान होने के बाद भी एक दूसरे को सदा के लिए .....