शनिवार, 16 अगस्त 2014

खामोशी बात करती है!!!!

शोर में दबा सन्‍नाटा
कसमसा कर बोला
अपनी मैं पर जब आऊँगा
तुम सब होगे मेरी प़नाह में
बोलती सबकी बंद होगी
तब मैं और सिर्फ मेरी ख़ामोशी बोलेगी !
...
खामोशी के साये में
मन ने जाने कितने सबक लिए
कितने संकल्‍पों की सीढि़याँ चढ़ी
कितनी उम्‍मीदों के
टूटने का रंज मनाया
बिखरती जिंदगी को
संघर्ष के रास्‍तों का आईना दिखाया !!
...
सवालों के कटघरे में
जिंदगी ने जब भी पक्षपात किया
खून के रिश्‍तों की दुहाई दी
घुटन में भी लबों पे
सजाई मुस्‍कराहट
वो सोचती
मैं विचलित क्‍यूँ हूँ
होती हुई हर बात निश्चित है
मेरा भविष्‍य
मेरी हथेली की लक़ीरों में क़ैद है
मेरे मस्‍तक पर पहले से ही
विधाता ने लिख दिया था लेख
फिर भी मैं भ्रमज़ाल में फंसकर
अपने-पराये के चक्रव्‍यूह में
बढ़ाये जा रही हूँ क़दम
ये सोच के बच के निकल जाऊँगी
पर कहाँ संभव था !!!
....
जीवन को पाकर
मौत के तिलिस्‍सम से बच पाना
किसी भी रास्‍ते से चलो
एक न एक दिन वो तुम्‍हें
वहाँ पहुँचा ही देगा
जीवन का सबसे बड़ा सत्‍य मृत्‍यु
अपनी चौखट पर ले आता है
एक दिन सबको चाहते न चाहते हुए
तब होता है सन्‍नाटा
जहाँ खामोशी बात करती है
जिंदगी सिर्फ विलाप करती है !!!!




21 टिप्‍पणियां:

  1. वाह ....जीवन की जद्दोज़हद का सटीक रेखांकन ....

    उत्तर देंहटाएं
  2. wah ! bandh diya apne kavita kay madhyam say mujhe.......padhti hi reh gayi....bahut khubsoorti say zindagi ki mushkilon ko bayan kiya hai apne

    उत्तर देंहटाएं
  3. जीवन की यथार्थ का बोध कराती सुन्दर रचना

    उत्तर देंहटाएं
  4. सन्नाटा..
    खामोशी...
    क्या लिखूँ
    नहीं है शब्द मेरे पास
    सब चुक गए...
    या फिर...
    नहीं मिल रहे

    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  5. खामोशी के मायने जुदा-जुदा। .
    सार्थक शब्दों का मेल

    उत्तर देंहटाएं
  6. सही कहा है आपने, जीवन का सबसे बड़ा सच है मृत्यु .... सचमुच बड़ा शोर है इन खामोशियों में … लाज़वाब रचना

    उत्तर देंहटाएं
  7. कभी कभी सन्नाटा भी कितना सुकून मय हो सकता है..

    उत्तर देंहटाएं
  8. पर कहा सम्भव था !!!!..............खामोशियाँ भी बोलती है

    उत्तर देंहटाएं
  9. मौन भी बोलता है.
    जब बोलता है--सत्य ही नजर आता है.
    भावपूर्ण रचना

    उत्तर देंहटाएं
  10. जीवन को पाकर
    मौत के तिलिस्‍सम से बच पाना
    किसी भी रास्‍ते से चलो
    एक न एक दिन वो तुम्‍हें
    वहाँ पहुँचा ही देगा--------

    मृत्यु एक शाश्वत सच है पर जीवन को विषम
    परिस्थितियों में भी जीना पड़ता है
    जीवन और मृत्यु की सार्थक पड़ताल करती
    अद्भुत रचना ----
    सादर ---

    उत्तर देंहटाएं
  11. जीवन को पाकर
    मौत के तिलिस्‍सम से बच पाना
    किसी भी रास्‍ते से चलो
    एक न एक दिन वो तुम्‍हें
    वहाँ पहुँचा ही देगा
    जीवन का सबसे बड़ा सत्‍य मृत्‍यु
    अपनी चौखट पर ले आता है
    एक दिन सबको चाहते न चाहते हुए
    तब होता है सन्‍नाटा
    जहाँ खामोशी बात करती है
    जिंदगी सिर्फ विलाप करती है !!!!

    गहरे अर्थों को अभिव्यक्त करती सुंदर रचना।।।

    उत्तर देंहटाएं
  12. गहन भाव लिए सुंदर रचना...

    उत्तर देंहटाएं
  13. सुन्दर भाव और अर्थ लिए अप्रतिम अभिव्यक्ति संवेदनाओं का स्पर्श करती हुई।

    उत्तर देंहटाएं
  14. जीवन का सबसे बड़ा सत्‍य मृत्‍यु
    अपनी चौखट पर ले आता है
    एक दिन सबको चाहते न चाहते हुए
    तब होता है सन्‍नाटा
    जहाँ खामोशी बात करती है
    जिंदगी सिर्फ विलाप करती है !!!!.
    ...गहन भावों की उत्कृष्ट अभिव्यक्ति...दिल को छूते अहसास...लाज़वाब ..

    उत्तर देंहटाएं
  15. ज़िंदगी पर गहन सोच... बहुत उम्दा रचनाएँ, बधाई.

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
मन को छू लें वो शब्‍द अच्‍छे लगते हैं, उन शब्‍दों के भाव जोड़ देते हैं अंजान होने के बाद भी एक दूसरे को सदा के लिए .....