मंगलवार, 29 जुलाई 2014

इश्‍क़ की किताबों में!!!!!









किसी सफ़े पे थी
खिलखिलाती याद उसकी
किसी सफ़े पे था
उसकी मुस्‍कराहटों का पहरा
इश्‍क़ की किताबों में
करवटें बदलती रूहों का जागना
उंगलियों के पोरों की छुँअन से
फिर कहना उनका हौले-हौले से
मुहब्‍बत के नर्म एहसासों का होता
पलकें कई बार
झपकना भूल ही जाती थीं
कई बार लगता
निकलकर इनमें से कुछ एहसासों ने
घेरा बना लिया है
मेरे इर्द-गिर्द औ’ कहा था
अपने हिस्‍से का सच तो
जाना था मैने उन्‍हें
कुछ यूँ भी ...
...
सच मुहब्‍बत कभी
मरकर भी मरती नहीं
दूर होकर भी बिछड़ती नहीं
दिलों से दिलों का ये रिश्‍ता
जिंदा रहता है
रूहें जो सफ़र में रहती हैं
ताउम्र अपनी !!!!!
___



27 टिप्‍पणियां:

  1. आपके नज़्म ने खूबसूरत एहसास जगाये। इस पंक्ति में कुछ कमी नज़र आ रही है.. मुहब्‍बत के नर्म एहसासों का होता।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. ये जिक़्र किताबों का जो है .....

      हटाएं
  2. रूहानी सी मुहब्बत . बहुत खूबसूरत नज़्म

    उत्तर देंहटाएं
  3. जाने कैसी कशिश है इस नज़्म में....शब्दों और भावों का बेजोड़ संगम

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...

    उत्तर देंहटाएं
  5. आपकी कविता हमेशा दो हिस्सों में हुआ करती है... पहला भाग जहाँ मन की बात कहता है, दूसरा भाग वहीं उस बात का मतलब समझाता है.. एहसासों को महसूस करना और उनको प्रकट करना दो अलग-अलग बातें हैं, लेकिन आपकी कविता में इन दोनों का शानदार फ्यूज़न दिखाई देता है!!

    उत्तर देंहटाएं
  6. आपकी लिखी रचना बुधवार 30 जुलाई 2014 को लिंक की जाएगी...............
    http://nayi-purani-halchal.blogspot.in आप भी आइएगा ....धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  7. मुहब्बत की यही सच्चाई है
    सुन्दर अहसास लिए रचना !

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत ताज़गी से भरे एहसास और उतनी ही खूबसूरत अभिव्यक्ति !

    उत्तर देंहटाएं
  9. पलकें कई बार
    झपकना भूल ही जाती थीं
    कई बार लगता
    निकलकर इनमें से कुछ एहसासों ने
    घेरा बना लिया है
    बहुत खूबसूरत

    उत्तर देंहटाएं
  10. सच मुहब्‍बत कभी
    मरकर भी मरती नहीं
    दूर होकर भी बिछड़ती नहीं
    दिलों से दिलों का ये रिश्‍ता
    जिंदा रहता है
    रूहें जो सफ़र में रहती हैं
    ताउम्र अपनी
    बहुत खूब

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत सुंदर...दास्ताँ मुहब्बत की...

    उत्तर देंहटाएं
  12. रूहें जो सफ़र में रहती हैं ! अनवरत सफ़र में मुहब्बत भी चलती है साथ उसके!
    खूब !

    उत्तर देंहटाएं
  13. उंगलियों के पोरों की छुँअन से
    फिर कहना उनका हौले-हौले से
    मुहब्‍बत के नर्म एहसासों का होता
    बहुत ही खुबसूरत अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत खूब .... मुहब्बत रहती है श्रृष्टि के रहने तक ...
    ढूंढ लेती है मुहब्बत का घर हमेशा ...

    उत्तर देंहटाएं
  15. Wah bahut khubsoorat rachna...bar bar padhne jo jee chahta hai

    उत्तर देंहटाएं
  16. सच मुहब्‍बत कभी
    मरकर भी मरती नहीं
    दूर होकर भी बिछड़ती नहीं
    दिलों से दिलों का ये रिश्‍ता
    जिंदा रहता है
    रूहें जो सफ़र में रहती हैं
    ताउम्र अपनी !!!!!

    बेहद सकारात्मक सोच की झलक.........

    उत्तर देंहटाएं
  17. sach kaha ki मुहब्‍बत कभी
    मरकर भी मरती नहीं

    उत्तर देंहटाएं
  18. मन को छूती अभिव्यक्ति
    वाह !!! बहुत सुन्दर रचना ----

    सादर ---

    उत्तर देंहटाएं
  19. दिलों से दिलों का ये रिश्‍ता
    जिंदा रहता है
    रूहें जो सफ़र में रहती हैं
    ताउम्र अपनी !!!!!
    ...बिल्कुल सच...दिल को छूते अहसास...बहुत सुन्दर

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
मन को छू लें वो शब्‍द अच्‍छे लगते हैं, उन शब्‍दों के भाव जोड़ देते हैं अंजान होने के बाद भी एक दूसरे को सदा के लिए .....