रविवार, 6 जुलाई 2014

फ़रेब की स्‍लेट पर !!!

जब भी मेरी उम्मीद
टूटकर मिलती तो बस
इतना ही कहती तुम जीने के लिये
किसी की उम्मीद बन जाना
कुछ मुश्किल तो होगा
पर तुम्हे जीना आ जाएगा !!!
....
सहानुभूति के शब्‍द
अक्‍़सर फ़रेब की स्‍लेट पर
लिखे जाते हैं
जहाँ सच बात को
बेर्इमानी के छींटे डालकर
मिटा दिया गया होता है
बड़ी ही सफ़ाई से !!!
.....
सच की ताकत
रूहों को पाक़ रखती है
तभी तो 
जब भी ज़मीर जागता है
सच की प़नाह लेता है !!!


19 टिप्‍पणियां:

  1. सहानुभूति के शब्‍द
    अक्‍़सर फ़रेब की स्‍लेट पर
    लिखे जाते हैं

    तभी कहते है न ...सहानुभूति जताने और साथ देने में अंतर होता है.... सुन्दर रचना

    उत्तर देंहटाएं
  2. जीवन स्वयं ही जीना होता है ... सच कहा किसी को बैसाखी बनाने से टूटने का डर रहता है ...

    उत्तर देंहटाएं
  3. जहाँ सच बात को
    बेर्इमानी के छींटे डालकर
    मिटा दिया गया होता है
    बड़ी ही सफ़ाई से !!! .........बहुत ही सटीक और सार्थक पंक्तियाँ.बधाई सदाजी..

    उत्तर देंहटाएं
  4. ज़िन्दगी बहुत निराश करती है कई बार... लेकिन ज़िन्दगी इतनी भी बदसूरत नहीं! आपकी कविता दिल को छूती है हमेशा की तरह!!

    उत्तर देंहटाएं
  5. जमीर जगता है तो सच की पनाह लेता है यही नहीं जमीर जगता ही तभी है जब सच की पनाह ली जाती है

    उत्तर देंहटाएं
  6. अर्थपूर्ण एवं भावपूर्ण रचनाएँ, बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  7. ब्लॉग बुलेटिन आज की बुलेटिन, गुरु गुरु ही होता है... ब्लॉग बुलेटिन , मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  8. एक दम सही कहा....
    सहानुभूति के शब्‍द
    अक्‍़सर फ़रेब की स्‍लेट पर
    लिखे जाते हैं......................

    सस्नेह
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  9. सच कहा सत्य की ताकत बहुत बड़ी है
    सुन्दर रचना के लिए बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  10. जब भी मेरी उम्मीद
    टूटकर मिलती तो बस
    इतना ही कहती तुम जीने के लिये
    किसी की उम्मीद बन जाना
    कुछ मुश्किल तो होगा
    पर तुम्हे जीना आ जाएगा !!!
    ...... just loved it :)

    उत्तर देंहटाएं
  11. सच्चाई का आईना दिखती बहुत ही सुंदर सार्थक भावाभिव्यक्ति।

    उत्तर देंहटाएं
  12. सहानुभूति के शब्‍द
    अक्‍़सर फ़रेब की स्‍लेट पर
    लिखे जाते हैं
    जहाँ सच बात को
    बेर्इमानी के छींटे डालकर
    मिटा दिया गया होता है
    बड़ी ही सफ़ाई से !!!
    .....
    सदा जी गंभीर रचना लाजबाब पोस्ट आभार के साथ बधाई ।

    उत्तर देंहटाएं
  13. वाह! कितना लुभावना झूठा सच .......
    सहानुभूति के शब्‍द
    अक्‍़सर फ़रेब की स्‍लेट पर
    लिखे जाते हैं.......और सब पढ़ कर खुश हो जाते हैं .....???

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत सुन्दर और सारगर्भित रचना...

    उत्तर देंहटाएं
  15. सच की ताकत
    रूहों को पाक़ रखती है
    तभी तो
    जब भी ज़मीर जागता है
    सच की प़नाह लेता है !!!
    effective lines .

    उत्तर देंहटाएं
  16. सहानुभूति के शब्द अक्सर फरेब की स्लेट पे ल्खे जाते हैं...

    बहुत खूब....

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
मन को छू लें वो शब्‍द अच्‍छे लगते हैं, उन शब्‍दों के भाव जोड़ देते हैं अंजान होने के बाद भी एक दूसरे को सदा के लिए .....