शनिवार, 28 जून 2014

बचाती हैं व्‍यक्तित्‍व को !!!!

कुछ रचनाएँ जन्‍म लेती हैं और
क़ैद होकर रह जाती हैं
डायरी के पन्‍नों में
उनके मर्म उनके अर्थों को
नहीं जान पाता कोई.
...
कितनी पीड़ा कितनी नसीहतों
को उकेरा था उजले पन्‍नों पर
इस काली स्‍याही ने
बड़े-बड़े इरादो को
समेटा था कुछ पंक्तियों में
और पहुँचाया था उन्‍हें बुलंदियों पर
कभी किसी यक़ीन के
टूटने पर उसके टुकड़ों की चुभन से
बचाया था तुम्‍हें
कतरा-कतरा बहने से पहले
दिया था हौसला भी जब
संभाला था खुद को तुमने
बिखरने से पहले.
....
रचनाओं में
जब बिखर जाते हैं शब्‍द
तब कई बार ये बचाती हैं
व्‍यक्तित्‍व को बिखरने से
सहेजती है अक्षरश:
दिखाते हुए उम्‍मीदों का आईना
रू-ब-रू होते हैं एहसास जहाँ
जिंदगी के रंगमंच पर
अपने संकल्‍पों के साथ 
बारी-बारी!!!!



19 टिप्‍पणियां:

  1. शुक्र है कि ब्लॉग हैं...डायरी के शब्द भले कोई न पढ़ पाये...पर यहाँ रचनाओं को सुधि पाठकों की कमी नहीं है...

    उत्तर देंहटाएं
  2. जब बिखर जाते हैं शब्‍द
    तब कई बार ये बचाती हैं
    व्‍यक्तित्‍व को बिखरने से
    100 % सच्ची बात
    हर्दिक शुभकामना कामनाये

    उत्तर देंहटाएं
  3. रचनाओं के बिखरे अव्यवस्थित शब्द मन मस्तिष्क और व्यक्तित्व को व्यवस्थित कर देते हैं . गुबार निकल जाना शब्दों के माध्यम से उचित ही होता है , ये शब्द शिक्षक ही हो गए जैसे !
    बहुत बढ़िया लिखा आपने !

    उत्तर देंहटाएं
  4. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन हुनर की कीमत - ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  5. सुन्दर प्रस्तुति-
    आभार -

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।
    --
    आपकी इस' प्रविष्टि् की चर्चा कल रविवार (29-06-2014) को ''अभिव्यक्ति आप की'' ''बातें मेरे मन की'' (चर्चा मंच 1659) पर भी होगी!
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक

    उत्तर देंहटाएं
  7. जब बिखर जाते हैं शब्‍द
    तब कई बार ये बचाती हैं
    व्‍यक्तित्‍व को बिखरने से
    सहेजती है अक्षरश:
    दिखाते हुए उम्‍मीदों का आईना
    ...बिल्कुल सच..बहुत ख़ूबसूरत रचना...

    उत्तर देंहटाएं
  8. सही कहा है...विचारों से ही जीवन बनते बिगड़ते हैं और विचार शब्दों की ही उपज हैं..

    उत्तर देंहटाएं
  9. ब्लॉग बुलेटिन का आभार जिस कारण यहाँ आना हो पाया... सौ फ़ीसदी सच है कि शब्द हमारे वजूद को बिखरने से बचाते हैं... खूबसूरत रचना

    उत्तर देंहटाएं
  10. रचनाओं में
    जब बिखर जाते हैं शब्‍द
    तब कई बार ये बचाती हैं
    व्‍यक्तित्‍व को बिखरने से

    ऐसा कई बार होते हुए देखा है मैंने
    सुन्दर रचना के लिए बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  11. शब्द रचनाओं में बिखर कर मायने लेने कगते हैं ...
    बहुत ही सुन्दर रचना ...

    उत्तर देंहटाएं
  12. बेहद उम्दा रचना और बेहतरीन प्रस्तुति के लिए आपको बहुत बहुत बधाई...
    नयी पोस्ट@दर्द दिलों के
    नयी पोस्ट@बड़ी दूर से आये हैं

    उत्तर देंहटाएं
  13. सच लिखा ....कितना कुछ समेटते हैं शब्द |

    उत्तर देंहटाएं
  14. रचनाओं में
    जब बिखर जाते हैं शब्‍द
    तब कई बार ये बचाती हैं
    व्‍यक्तित्‍व को बिखरने से
    ...बिल्कुल सच...बहुत सुन्दर और गहन अभिव्यक्ति...

    उत्तर देंहटाएं
  15. सच है, रचना में बिखरे शब्द रचयिता के व्यक्तित्व को बिखरने से बचा लेते है. वरना अनकही पीड़ा से इंसान टूट जाता है... बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति, बधाई.

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
मन को छू लें वो शब्‍द अच्‍छे लगते हैं, उन शब्‍दों के भाव जोड़ देते हैं अंजान होने के बाद भी एक दूसरे को सदा के लिए .....