रविवार, 1 जून 2014

जिंदगी के रंगमंच पर !!!


जिंदगी के रंगमंच पर लगाकर आईना जिंदगी ने,
हर लम्‍हा इक नया ही रंग दिखाया है जिंदगी ने ।

ख्‍वाब, हो ख्वाहिश हो या फिर हो कोई जुस्‍तजू,
कदमों का साथ हर मोड़ पे निभाया है जिंदगी ने ।

इंतजार हो हसरत हो या फिर हो कोई तमन्‍ना,
बड़ी साजिशों के बाद इनसे मिलाया है जिंदगी ने ।

रूठा हो मचला हो या फिर हुई हो कोई तक़रार,
भूल के सारी बातों को अपना बनाया है जिंदगी ने ।

जानती है जाना होगा रूह को छोड़ के सदा के लिए,
फिर भी बड़ी वफ़ादारी से इसे अपनाया है जिंदगी ने ।


19 टिप्‍पणियां:

  1. जानती है जाना होगा रूह को छोड़ के सदा के लिए,
    फिर भी बड़ी वफ़ादारी से इसे अपनाया है जिंदगी ने ।

    बहुत ही प्यारी ग़ज़ल ......
    सस्नेह
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  2. मृत्यु जीवन का परम सत्य, जिसे अपनाकर भी ज़िन्दगी का साथ निभाना ही होता है … बहुत खूबसूरत रचना

    उत्तर देंहटाएं
  3. ज़िन्दगी ने साथ निभाया संजीदगी से
    हमने ही शायद बेवफाई कर दी ज़िन्दगी से ।

    बहुत खूबसूरत ग़ज़ल

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।
    --
    आपकी इस' प्रविष्टि् की चर्चा कल सोमवार (02-06-2014) को ""स्नेह के ये सारे शब्द" (चर्चा मंच 1631) पर भी होगी!
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक

    उत्तर देंहटाएं



  5. जानती है जाना होगा रूह को छोड़ के सदा के लिए,
    फिर भी बड़ी वफ़ादारी से इसे अपनाया है जिंदगी ने


    वाह वाऽह…वाऽऽह… आदरणीया सदाजी
    पूरी रचना अच्छी है
    साधुवाद !

    मंगलकामनाओं सहित...
    -राजेन्द्र स्वर्णकार

    उत्तर देंहटाएं
  6. इंतजार हो हसरत हो या फिर हो कोई तमन्‍ना,
    बड़ी साजिशों के बाद इनसे मिलाया है जिंदगी ने ..

    इसलिए हो कहते हैं ये ज़िन्दगी है ... बहुत छकाती है ... लाजवाब शेर ...

    उत्तर देंहटाएं
  7. ज़िंदगी ऐसे ही साथ देती रहे ... आमीन !

    उत्तर देंहटाएं
  8. सुभानाल्लाह एक एक शेर कीमती | जिंदगी के फलसफे को बयान करता हुआ....दाद कबूल करें |

    उत्तर देंहटाएं
  9. जिन्दगी तो एक पल के लिए भी रूह को नहीं छोड़ती..हर बार एक नया सफर शुरू हो जाता है..

    उत्तर देंहटाएं
  10. ज़िन्दगी को बहुत ख़ूबसूरती से बयान किया है.. मेरे ख़्याल से इस फ़ॉर्मेट में कभी नहीं लिखते देखा आपको!!

    उत्तर देंहटाएं
  11. वाह बहुत उम्दा गजल, सभी रंगों से मिला हुआ.....

    उत्तर देंहटाएं
  12. सुन्दर अर्थ और भाव प्रेरित रचना। लेमन ग्रास अब हिंदी का ही शब्द है।

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहुत सुन्दर रचना है ज़िंदगी से प्रेरित सकारात्मक भाव लिए है।

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत बढ़िया ग़ज़ल प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  15. रूठा हो मचला हो या फिर हुई हो कोई तक़रार,
    भूल के सारी बातों को अपना बनाया है जिंदगी ने ।

    सुंदर पंक्तियां......

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
मन को छू लें वो शब्‍द अच्‍छे लगते हैं, उन शब्‍दों के भाव जोड़ देते हैं अंजान होने के बाद भी एक दूसरे को सदा के लिए .....