गुरुवार, 30 जनवरी 2014

ख्‍वाहिशें झाँकती हैं बन के ख्‍व़ाब !!!!!

अंज़ाम की परवाह
बिना किये जब
जिंदगी के साथ चलता है कोई 
कदम से कदम मिलाकर तो 
जीने का सलीक़ा आ जाता है
...
जिंदगी चलती है
मुस्‍कराहटों के साथ जब भी
तो वक्‍़त की दौड़ तेज़ हो जाती है
हसरतें मचलती हैं दबे पाँव
ख्‍वाहिशें झाँकती हैं बन के ख्‍व़ाब
बँद पलकों में अक्‍़सर
तो फि़र सोचना कैसा ?
क्‍या होगा, क्‍यूँकर होगा ???
....
खिलखिलाहट को आज
बन के हँसी गूंज जाने दो
खामोशी के हर कोने में
उम्‍मीदों को दौड़ने दो
पूरे मनोयोग से
एक नई आशा के साथ
जहाँ ख्‍वाबों ने सीखा हो
सिर्फ साकार होना
आकार उनका कुछ भी हो
इस बात का हर फ़र्क मिटाकर !!!!!

30 टिप्‍पणियां:

  1. ये हौसला आ गया तो हर आकर का स्वप्न साकार होगा ..... बहुत सुंदर रचना

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल शुक्रवार (31-01-2014) को "कैसे नवअंकुर उपजाऊँ..?" (चर्चा मंच-1508) पर भी होगी!
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  3. काफी उम्दा रचना....बधाई...
    नयी रचना
    "सफर"
    आभार

    उत्तर देंहटाएं
  4. अंज़ाम की परवाह
    बिना किये जब
    जिंदगी के साथ चलता है कोई
    कदम से कदम मिलाकर तो
    जीने का सलीक़ा आ जाता है
    .....वाह...लाज़वाब....सकारात्मक सोच लिए बहुत उत्कृष्ट अभिव्यक्ति...

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत ही सुन्दर.....

    सस्नेह
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  6. आपकी लिखी रचना शनिवार 01/02/2014 को लिंक की जाएगी............... http://nayi-purani-halchal.blogspot.in
    कृपया पधारें ....धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  7. सपने सच होने होने को आते,
    जीने को कहते, अकुलाते।

    उत्तर देंहटाएं
  8. काफी दिनों बाद कोई पोस्ट दिखी है आपकी ..... बहुत सुन्दर |

    उत्तर देंहटाएं
  9. ब्लॉग बुलेटिन की 750 वीं बुलेटिन 750 वीं ब्लॉग बुलेटिन - 1949, 1984 और 2014 मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  10. जिंदगी खिलखिलाहट के साथ
    सुंदरतम !!

    उत्तर देंहटाएं
  11. एक हसीं ख्वाब की तरह खूबसूरत नज़्म।

    उत्तर देंहटाएं
  12. जोश , हौसले और उम्मीदों की कविता !

    उत्तर देंहटाएं
  13. बेहद उम्दा रचना अनुपम भाव संयोजन के साथ ....बहुत खूब सदा जी मज़ा आ गया आज इसे पढ़कर...

    उत्तर देंहटाएं
  14. औसले बुलंद हैं तो रहें आसान .....!!सुंदर रचना ...!!

    उत्तर देंहटाएं
  15. बेहद उम्दा रचना... सकारात्मक प्रेरणा देती सुंदर प्रतुति...
    prathamprayaas.blogspot.in-सफलता के मूल मन्त्र

    उत्तर देंहटाएं
  16. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  17. खिलखिलाहट को आज
    बन के हँसी गूंज जाने दो
    खामोशी के हर कोने में
    उम्‍मीदों को दौड़ने दो
    पूरे मनोयोग से
    एक नई आशा के साथ
    जहाँ ख्‍वाबों ने सीखा हो
    सिर्फ साकार होना

    इन पंक्तियों को आत्मसात करना चाहती हूँ .... शायद कोई ख्वाब जन्म ले ले . बहुत सुन्दर प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  18. ख़्वाब खिल सकें तो चाहे जितने भी बड़े हो ... आशा जरूर पल्वित होनी चाहिए ...

    उत्तर देंहटाएं
  19. ख्वाब अक्सर साकार नहीं होते . . . .

    उत्तर देंहटाएं

  20. वाह !! बहुत सुंदर
    उत्कृष्ट
    बधाई ----

    आग्रह है--
    वाह !! बसंत--------

    उत्तर देंहटाएं
  21. सुंदर प्रस्तुति...ख्वाहिशों की फितरत ही कुछ ऐसी होती है।।।

    उत्तर देंहटाएं
  22. मुस्कुराते रहना हर परिस्थिति में जरुरी है
    यह सपनों के करीब ले ही जाता है चाहे सपना कितना बड़ा क्यूँ न हो
    बहुत सुन्दर !
    साभार !

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
मन को छू लें वो शब्‍द अच्‍छे लगते हैं, उन शब्‍दों के भाव जोड़ देते हैं अंजान होने के बाद भी एक दूसरे को सदा के लिए .....