गुरुवार, 14 मार्च 2013

उम्‍मीदों के जुगनु !!!!


















जिद् की मुट्ठी में हर बार वो
उम्‍मीदों के जुगनु लिये
अंधेरे को चीरता चला जाता
कभी जब दिल घबराया तो
प्रयास की लाठी टेकी,
लड़खड़ाते कदमों से उसने,
जिम्‍मेदार हो हथेलियाँ तभी
प्रदर्शित करती शक्ति को
इस शक्ति की आस्‍था से
थम जाती कदमों की लड़खडा‍हट
निर्भय हो कदम से कदम
साथ हो लेते जिंदगी के !!!
....
जिंदगी को जीने के लिये
जज्‍बा खुद रास्‍ते तैयार करता,
दिशायें मौन ही निमंत्रण देतीं
तभी तो पगड़डियों से
कच्‍चे रास्‍ते, कच्‍चे रास्‍तों से
जुड़ती सड़कें जिनसे बाते करती हवा
फिर भी परवाह कहाँ होती
किसी के साथ होने या न होने की
एक हौसला साथ जो चल रहा था
परवाह तो बस तपती धूप में
बर्फ बन पिघल रही होती !!!!

44 टिप्‍पणियां:

  1. फिर भी परवाह कहाँ होती
    किसी के साथ होने या न होने की
    एक हौसला साथ जो चल रहा था

    चरैवेति...जीवन के पथ पर आगे ही आगे बढ़नेवाला इसी सूत्र को अपनाता है..प्रेरणादायी रचना..सुंदर भाव !

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत बढ़िया है आदरेया-
    सादर समर्पित-

    धूप-हौसले से सदा, पिघले हिम-परवाह |
    जल-प्रवाह से मनुज यह, पाए जीवन थाह-

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति का लिंक लिंक-लिक्खाड़ पर है ।।

    उत्तर देंहटाएं
  4. हौसले और उम्मीदों से भरे सुन्दर भाव....

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत उम्दा सुंदर प्रस्तुति,,,सदा जी,,,,

    बीबी बैठी मायके , होरी नही सुहाय
    साजन मोरे है नही,रंग न मोको भाय..
    .
    उपरोक्त शीर्षक पर आप सभी लोगो की रचनाए आमंत्रित है,,,,,
    जानकारी हेतु ये लिंक देखे : होरी नही सुहाय,

    उत्तर देंहटाएं
  6. इस शक्ति की आस्‍था से
    थम जाती कदमों की लड़खडा‍हट
    निर्भय हो कदम से कदम
    साथ हो लेते जिंदगी के !!!

    बहुत दृढ विचार ...सुन्दर जज़्बा .....
    बढ़ाते कदम जिंदगी के ...
    प्रभावशाली रचना ...सदा जी ...!!!

    उत्तर देंहटाएं
  7. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति शुक्रवारीय चर्चा मंच पर ।।

    उत्तर देंहटाएं
  8. हौसले को सलाम करती सुन्दर रचना !!
    आभार !!

    उत्तर देंहटाएं
  9. अनुपम भाव संजोए है ..बहुत सुन्दर...

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत ही भावपूर्ण प्रस्तुति,आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  11. गहन और गंभीर भाव लिए रचना का जवाव नहें सदा जी |
    आशा

    उत्तर देंहटाएं
  12. काजी नजरुल इस्लाम के शब्दों में .....
    चल चल चल
    उर्ध्व गगने बाजे मादल
    निम्ने उतला धरनीतल
    अरुणप्रातेर तरुनदल
    चल रे चल रे चल ......

    उत्तर देंहटाएं
  13. हौसले के बग़ैर ज़िंदगी जीना मुश्किल होता है....
    प्रेरणादायक रचना...!
    ~सादर!!!

    उत्तर देंहटाएं
  14. जिंदगी को जीने के लिये
    जज्‍बा खुद रास्‍ते तैयार करता,
    दिशायें मौन ही निमंत्रण देतीं

    सच में जज्बा का होना जरुरी है...
    सादर !

    उत्तर देंहटाएं
  15. आस बँधी है, ज़िद की मुठ्ठी खुलेगी अवश्य

    उत्तर देंहटाएं

  16. हौसला -उमंग-उत्साह -साह्स, यही तो चाहिए उडान के लिए
    latest postउड़ान
    teeno kist eksath"अहम् का गुलाम "

    उत्तर देंहटाएं
  17. खूब .... ये सोच कुछ बेहतर अवश्य करेगी....

    उत्तर देंहटाएं
  18. सुचना ****सूचना **** सुचना

    सभी लेखक-लेखिकाओं के लिए एक महत्वपूर्ण सुचना सदबुद्धी यज्ञ


    (माफ़ी चाहता हूँ समय की किल्लत की वजह से आपकी पोस्ट पर कोई टिप्पणी नहीं दे सकता।)

    उत्तर देंहटाएं
  19. सुचना ****सूचना **** सुचना

    सभी लेखक-लेखिकाओं के लिए एक महत्वपूर्ण सुचना सदबुद्धी यज्ञ


    (माफ़ी चाहता हूँ समय की किल्लत की वजह से आपकी पोस्ट पर कोई टिप्पणी नहीं दे सकता।)

    उत्तर देंहटाएं
  20. हौसला साथ हो प्रयास की लाठियां टिक जाती हैं , सहरा पार हो जाता है !
    प्रेरक !

    उत्तर देंहटाएं
  21. उम्मीदों के जुगनू ,बेहतरीन और अभिनव रूपक

    उत्तर देंहटाएं
  22. जिंदगी को जीने के लिये
    जज्‍बा खुद रास्‍ते तैयार करता,
    दिशायें मौन ही निमंत्रण देतीं
    तभी तो पगड़डियों से
    कच्‍चे रास्‍ते, कच्‍चे रास्‍तों से
    जुड़ती सड़कें जिनसे बाते करती हवा
    फिर भी परवाह कहाँ होती
    किसी के साथ होने या न होने की
    एक हौसला साथ जो चल रहा था
    परवाह तो बस तपती धूप में
    बर्फ बन पिघल रही होती !!!!

    हौसला बढाती लाइन बहुत ही खुबसूरत नहीं यथार्थ परक

    उत्तर देंहटाएं
  23. बहुत सुंदर!बधाई उत्कृष्ट प्रस्तुति के लिए!

    उत्तर देंहटाएं
  24. चलना ही जिंदगी है........बहुत खूब।

    उत्तर देंहटाएं
  25. हौसला बना रहे ...
    मंगल कामनाएं आपके लिए !

    उत्तर देंहटाएं
  26. जिंदगी को जीने के लिये
    जज्‍बा खुद रास्‍ते तैयार करता,
    दिशायें मौन ही निमंत्रण देतीं

    ...वाह! बहुत प्रेरक और सुन्दर रचना...

    उत्तर देंहटाएं
  27. उम्मीदों के जुगनू एक नयी उमंग एक नयी किरण लेकर आयें आशा की.

    सुंदर कबिता.

    उत्तर देंहटाएं
  28. जज्‍बा खुद रास्‍ते तैयार करता,
    दिशायें मौन ही निमंत्रण देतीं

    .... बहुत प्रेरक बेहतरीन !!!!

    उत्तर देंहटाएं
  29. उम्मीद और हौसला ही आगे बढ़ाने की प्रेरणा देता है ...

    उत्तर देंहटाएं
  30. Zindagi ki raah me khud se bada koi humsafar nhi hota...
    Prernadaayi rachna.

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
मन को छू लें वो शब्‍द अच्‍छे लगते हैं, उन शब्‍दों के भाव जोड़ देते हैं अंजान होने के बाद भी एक दूसरे को सदा के लिए .....