शनिवार, 5 जनवरी 2013

जिसकी जैसी नज़र ... !!!














शब्‍दो का अलाव
मत जलाओ इनकी जलन से
तुम्‍हारे मन की तपिश
शीतलता में नहीं बदलेगी
जो शब्‍द अधजले हैं
उनके धुंए से
दम घुट जाएगा
भावनाओं को आंच पर
जिस किसी ने भी रखा है
उसकी तपिश से  वह भी
सुलग गया है भीतर ही भीतर
इन भावनाओं की
समझ तो है न तुम्‍हें
ये जितना दुलार देती हैं 
जितना समर्पण का भाव रखती हैं
हृदय में उतनी ही निष्‍ठुर भी हो जाती हैं
इनका निष्‍ठुर होना मतलब
पूरी तरह तुमसे मुँह फेर लेना
....
भावनाओं को जानना है तो
जिन्‍दगी से पूछना
बड़ा ही प्‍यारा रिश्‍ता होता है
इनका जिन्‍दगी के साथ
ये जन्‍म से ही आ जाती हैं साथ में
फिर मरते दम तक
हमारी होकर रह जाती हैं
हमारे दुख में दुखी  तो
हमारी खुशी में खुश रहना
इनकी फि़तरत होती है 
...
इनका समर्पण रूह तय करती है
प़ाक लिब़ास में लिपटी
भावनाएं जैसे मां के आंचल में
कोई अबोध शिशु
बस उतनी ही अबोध होती हैं  ये भी
जिसकी जैसी नज़र होती है
बिल्‍कुल वैसे ही दिखती हैं ये ... !!!

39 टिप्‍पणियां:

  1. इन भावनाओं की
    समझ तो है न तुम्‍हें
    ये जितना दुलार देती हैं
    जितना समर्पण का भाव रखती हैं
    हृदय में उतनी ही निष्‍ठुर भी हो जाती हैं
    इनका निष्‍ठुर होना मतलब
    पूरी तरह तुमसे मुँह फेर लेना


    बिलकुल सच कहा है.सुन्दर भाव.

    उत्तर देंहटाएं
  2. भावनाएं हर कोई अपने अपने ढंग से समझता है
    कोई सही पहुँचता है कोई पहुँचता ही नहीं ...

    बहुत उतम रचना। :)

    recent poem : मायने बदल गऐ

    उत्तर देंहटाएं
  3. भावनाएं जैसे मां के आंचल में
    कोई अबोध शिशु
    बस उतनी ही अबोध होती हैं ये भी
    जिसकी जैसी नज़र होती है
    बिल्‍कुल वैसे ही दिखती हैं ये ...

    बहुत उम्दा भाव पूर्ण पंक्तियाँ,,बधाई

    recent post: वह सुनयना थी,

    उत्तर देंहटाएं
  4. अति उत्तम भाव पूर्ण पंक्तियाँ भावनाओं की कसौटी पर एकदम खरी प्रस्तुति. हार्दिक बधाई दीदी

    उत्तर देंहटाएं
  5. इनका समर्पण रूह तय करती है
    प़ाक लिब़ास में लिपटी
    भावनाएं जैसे मां के आंचल में
    कोई अबोध शिशु
    बस उतनी ही अबोध होती हैं ये भी
    जिसकी जैसी नज़र होती है
    बिल्‍कुल वैसे ही दिखती हैं ये ... ! परिपक्व नज़रिया

    उत्तर देंहटाएं
  6. फिर मरते दम तक
    हमारी होकर रह जाती हैं
    हमारे दुख में दुखी तो
    हमारी खुशी में खुश रहना
    इनकी फि़तरत होती है

    ........सुंदर प्रभाव छोडती रचना !!!

    उत्तर देंहटाएं
  7. आपकी स्वतंत्रता वहीँ ख़त्म होती है जहाँ से मेरी नाक शुरू होती है...इस बात का एहसास होना बहुत ज़रूरी है...

    उत्तर देंहटाएं
  8. जिसकी जैसी नज़र ... !!!

    .....सत्य वर्णन करती.....प्रभावशाली रचना सदा दी !

    उत्तर देंहटाएं
  9. भावनाओं को जानना है तो
    जिन्‍दगी से पूछना
    बड़ा ही प्‍यारा रिश्‍ता होता है
    इनका जिन्‍दगी के साथ
    ये जन्‍म से ही आ जाती हैं साथ में
    फिर मरते दम तक
    हमारी होकर रह जाती हैं
    हमारे दुख में दुखी तो
    हमारी खुशी में खुश रहना
    इनकी फि़तरत होती है


    संवेदनाओं से भरी बहुत सुन्दर कविता...

    उत्तर देंहटाएं
  10. भावनाओं को जानना है तो
    जिन्‍दगी से पूछना
    बड़ा ही प्‍यारा रिश्‍ता होता है
    इनका जिन्‍दगी के साथ ..
    बहुत सुन्दर सदा...
    भावनाओं के बिना जीना कैसा??

    सस्नेह
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  11. बड़ा ही प्‍यारा रिश्‍ता होता है
    इनका जिन्‍दगी के साथ
    ये जन्‍म से ही आ जाती हैं साथ में
    फिर मरते दम तक
    हमारी होकर रह जाती हैं ...
    जनम -मरण की साथी... बहुत सुन्दर...

    उत्तर देंहटाएं
  12. Bahut sundar Rachna, Badhai... sada, sis
    जिसकी जैसी नज़र होती है
    बिल्‍कुल वैसे ही दिखती हैं ये .

    उत्तर देंहटाएं
  13. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  14. सदा शुभकामनायें-
    इस प्रभावी प्रस्तुति पर |

    उत्तर देंहटाएं
  15. बहुत गहरे भाव..दिल को छूती हुई रचना !

    उत्तर देंहटाएं
  16. संवेदना हो तो शब्दों की आवश्यकता ही नहीं होती..सब स्वतः संप्रेषित होता है।

    उत्तर देंहटाएं
  17. सच है हमारी अपनी सोच और विचार हर हाल में मायने रखते हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  18. भावनाओं को जानना है तो
    जिन्‍दगी से पूछना.....
    -------------------------
    हाँ सच में

    उत्तर देंहटाएं
  19. जीवन में भावनाएँ अपना स्थान खुद से स्थापित करती है

    उत्तर देंहटाएं
  20. भावनाएं जैसे मां के आंचल में
    कोई अबोध शिशु
    बस उतनी ही अबोध होती हैं ये भी
    जिसकी जैसी नज़र होती है
    बिल्‍कुल वैसे ही दिखती हैं ये ... !!!

    ....बिल्कुल सच ...बहुत सुन्दर और भावपूर्ण रचना...

    उत्तर देंहटाएं
  21. बहुत-बहुत सुंदर ! एक-एक शब्द सीधे दिल में उतर गया......
    भावनाएँ ही तो जीवन की साँसें हैं.....
    ~सादर!!!

    उत्तर देंहटाएं
  22. इनका समर्पण रूह तय करती है
    प़ाक लिब़ास में लिपटी
    भावनाएं जैसे मां के आंचल में
    कोई अबोध शिशु
    बस उतनी ही अबोध होती हैं ये भी
    जिसकी जैसी नज़र होती है
    बिल्‍कुल वैसे ही दिखती हैं ये ... !!!

    निःशब्द करते लाइन

    उत्तर देंहटाएं
  23. शानदार बिल्कुल सच और भावपूर्ण रचनाभावनाओं को जानना है तो
    जिन्‍दगी से पूछना
    बड़ा ही प्‍यारा रिश्‍ता होता है
    इनका जिन्‍दगी के साथ
    ये जन्‍म से ही आ जाती हैं साथ में
    फिर मरते दम तक
    हमारी होकर रह जाती हैं
    हमारे दुख में दुखी तो
    हमारी खुशी में खुश रहना
    इनकी फि़तरत होती है

    उत्तर देंहटाएं
  24. बहुत ही मार्मिक रचना

    सारांश "जाकी रही भावना जैसी। प्रभु मूरत देखी तिन्ह तैसी" ...

    उत्तर देंहटाएं
  25. जीवन में भावनाएँ बहुत महत्त्वपूर्ण हैं. कविता सुंदर तरीके से अपना सन्देश देने में सफल हुई है.

    उत्तर देंहटाएं
  26. भावनाएं जैसे मां के आंचल में
    कोई अबोध शिशु
    बस उतनी ही अबोध होती हैं ये भी
    जिसकी जैसी नज़र होती है
    बिल्‍कुल वैसे ही दिखती हैं ये ...

    सटीक आकलन

    उत्तर देंहटाएं
  27. भावपूर्ण और सच्ची पंक्तियाँ..

    उत्तर देंहटाएं
  28. दिल को छू लेनेवाले भाव...
    भावपूर्ण रचना...

    उत्तर देंहटाएं
  29. जो शब्‍द अधजले हैं
    उनके धुंए से
    दम घुट जाएगा |

    बहुत सुन्दर भाव |

    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  30. शब्‍दो का अलाव
    मत जलाओ इनकी जलन से
    तुम्‍हारे मन की तपिश
    शीतलता में नहीं बदलेगी
    जो शब्‍द अधजले हैं
    उनके धुंए से
    दम घुट जाएगा ...

    इसलिए ही कहता है शब्दों को संभाल के रखना जरूरी है ... समय पे ही नहीं निकालना जरूरी है ...

    उत्तर देंहटाएं
  31. भावनाएं जैसे मां के आंचल में
    कोई अबोध शिशु
    बस उतनी ही अबोध होती हैं ये भी
    जिसकी जैसी नज़र होती है
    बिल्‍कुल वैसे ही दिखती हैं ये ... !!!
    बहुत सुन्दर भाव
    नई पोस्ट :" अहंकार " http://kpk-vichar.blogspot.in

    उत्तर देंहटाएं
  32. ये भावनाएं भी प्यार और स्नेह में ही ज़िंदा रह पाती हैं
    वर्ना भीतर ही दम तोड़ हैं .....!!

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
मन को छू लें वो शब्‍द अच्‍छे लगते हैं, उन शब्‍दों के भाव जोड़ देते हैं अंजान होने के बाद भी एक दूसरे को सदा के लिए .....