बुधवार, 16 जनवरी 2013

वो क़ायम रखता मेरे जीने की वज़ह !!!

सब्र के बाँध में
हिचकियों के पहरे थे
हर चेहरे के पीछे जाने कितने चेहरे थे
सब कहते हैं
सब्र का फल मीठा होता है
इसकी मिठास से तो कभी रू-ब-रू  न हुई
फ़कत मजबूत होते गये
हर बार मेरे इरादे
और एक बाँध बन गया सब्र का
जिसके नीचे बहती रही दर्द की नदी
चुपके - चुपके
....
हारना कभी हालातों से सीखा ही नहीं
हौसले की उँगली
उम्‍मीद की किरण फिर वही पग‍डंडियाँ
जिन पर सरपट दौड़ती जिंदगी
कभी संकल्‍पों के धागे
कभी विकल्‍पों के सोपान
चढ़ना और उतरना
पाना और खोना
हर हाल में मुस्‍काना
...
कभी अपने ही मेरे बनाते दीवार
मुझे नजरबंद करने के लिए
किस तरह जिंदा रहेगी देखे तो
उफ्फ !!! कैसे हैं ये मेरे अपने
मेरे गम पर हँसते
मेरी खुशियों पर मुँह बिसूरते
पर वो है न ऊपरवाला
मेहरबान जो इतने गमों के बीच भी
मेरे होठों पर तबस्‍सुम ले ही आता
मैं सज़दे में होती उसके
वो क़ायम रखता मेरे जीने की वज़ह
... सामने वाले का मुँह खुला का खुला रह जाता
ये आखिर बला क्‍या है :)

30 टिप्‍पणियां:

  1. प्रभावी -
    भाव
    प्रवाह-
    शुभकामनायें-सदा ||

    उत्तर देंहटाएं
  2. हर बार मेरे इरादे
    और एक बाँध बन गया सब्र का
    जिसके नीचे बहती रही दर्द की नदी
    चुपके - चुपके
    .....बहुत खूबसूरत गहरी और शांत रचना पढ़कर बहुत अच्छा लगा !!

    उत्तर देंहटाएं
  3. कभी अपने ही मेरे बनाते दीवार
    मुझे नजरबंद करने के लिए ... अपने ही ये कदम उठाते हैं

    उत्तर देंहटाएं
  4. हौसले बने रहे ....और लोगों की हैरानी भी

    उत्तर देंहटाएं
  5. हौसले की उँगली थामें
    सच कह रही हूँ मैं
    चली जा रही हूँ
    आगे ही आगे

    उत्तर देंहटाएं
  6. हौसला बुलंद रहे । बहुत ही सुंदर कविता ।

    उत्तर देंहटाएं
  7. ... सामने वाले का मुँह खुला का खुला रह जाता
    ये आखिर बला क्‍या है :)
    बला नहीं बहादुर हैं आप !!

    उत्तर देंहटाएं
  8. वाह वाह.....बहुत ही सुन्दर......शुरू के दो पैरे तो लाजवाब हैं ।

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत सुंदर .
    जालिम लगी दुनिया हमें हर शक्श बेगाना लगा
    हर पल हमें धोखे मिले अपने ही ऐतबार से

    नफरत से की गयी चोट से हर जखम हमने सह लिया
    घायल हुए उस रोज हम जिस रोज मारा प्यार से

    उत्तर देंहटाएं
  10. कभी संकल्‍पों के धागे
    कभी विकल्‍पों के सोपान
    चढ़ना और उतरना
    पाना और खोना
    हर हाल में मुस्‍काना
    -------------------------
    वाह ..

    उत्तर देंहटाएं
  11. सब्र का फल मीठा होता ही है...जो अनंत धैर्य रख सकता है अनंत का द्वार उसके लिए खुल जाता है..

    उत्तर देंहटाएं
  12. मैं सज़दे में होती उसके
    वो क़ायम रखता मेरे जीने की वज़ह
    ... सामने वाले का मुँह खुला का खुला रह जाता
    ये आखिर बला क्‍या है :)

    बस यही है सत्य ………सुन्दर रचना

    उत्तर देंहटाएं
  13. सुन्दर और भावपूर्ण |
    आशा

    उत्तर देंहटाएं
  14. हारना कभी हालातों से सीखा ही नहीं
    हौसले की उँगली
    उम्‍मीद की किरण फिर वही पग‍डंडियाँ
    जिन पर सरपट दौड़ती जिंदगी
    कभी संकल्‍पों के धागे
    कभी विकल्‍पों के सोपान
    चढ़ना और उतरना
    पाना और खोना
    हर हाल में मुस्‍काना

    सुन्दर और भावपूर्ण, आशा

    उत्तर देंहटाएं
  15. बहुत ही सुन्दर भावपूर्ण प्रस्तुति.

    उत्तर देंहटाएं
  16. बेहद खूबसूरत रचना... जीने की वजह कायम रहे... शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  17. अपने ही रास्ते मेन रोड़े अटकाते हैं ..... लेकिन जब हर बाधा पार कर ली जाये तो मुंह तो खुला होना ही है .... बहुत सुंदर प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  18. इस बल में बड़ी जान है !
    भीतर की मजबूती संघर्ष के दिनों में और निखरती है !

    उत्तर देंहटाएं
  19. यही हौसला चाहिए जो औरों को हैरान भी कर जाये और परेशान भी ! बहुत खूबसूरत एवं बेहतरीन रचना ! शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
मन को छू लें वो शब्‍द अच्‍छे लगते हैं, उन शब्‍दों के भाव जोड़ देते हैं अंजान होने के बाद भी एक दूसरे को सदा के लिए .....