बुधवार, 22 दिसंबर 2010

वो चलती रही निरन्‍‍तर ...






वो चलती रही

निरन्‍तर

जैसा जिसने चाहा

वह करती रही

अपने लिये

उसने

कभी सोचा नहीं

या वक्‍त

नहीं मिला सोचने का

दूसरों के लिए

वो खुशियां लाती अपनी

मुस्‍कराहटे देकर

खरी बात

कोई कहता तो

अनसुना कर देती उसको

भावनाओं का उसका

बड़ा गहरा

नाता था उसे निभाना

जो आता था

यदि उसने

सीखा न होता निभाना

पर कैसे

छोड़ देती वह यह गुण

जो उसे विरासत में

मां से मिला था

कभी वह मां पर हंसती थी

इन बातों को लेकर

आज उसके बच्‍चे

हंसते हैं उसपर

क्‍या मां

कभी तो अपने बारे में

सोचा करो

तब वह सोचती ...पल भर को

ठिठकती ...

फिर चल पड़ती ...

उसी राह पर

जहां से चली थी ....जैसे चली थी ...।

43 टिप्‍पणियां:

  1. यूँ लगा ... मुझे आईने के पास ले आई तुम , खुद को देख रही हूँ, और बस सोच रही हूँ

    उत्तर देंहटाएं
  2. सटीक बात कही है ..जो बातें करते अपनी माँ को देखते थे आज वही हम कर रहे हैं ..आखिर निबाहना तो है ही न ..बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  3. कौन है यह
    जो आज के कलयुग में
    प्यार के गीत गाता है ... बहुत अच्छी रचना

    उत्तर देंहटाएं
  4. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति भी कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
    कल (23/12/2010) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
    देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
    अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।
    http://charchamanch.uchcharan.com

    उत्तर देंहटाएं
  5. सच है...
    परंपरा प्रवाहित होनी ही है..!!!

    उत्तर देंहटाएं
  6. माँ की यादे और माँ की बाते ना पीछा छोड़ने वाली होती है ना ही भूलने वाली .

    उत्तर देंहटाएं
  7. दिल की बात आ गयी जुबान पर ...शुक्रिया

    उत्तर देंहटाएं
  8. सोचने पर विवश करती कविता.

    उत्तर देंहटाएं
  9. खूबसूरत - भावपूर्ण रचना । शुभकामनाएं ।

    उत्तर देंहटाएं
  10. आज तक समझ नहीं आया कि वो ऐसी क्यूं होती है???
    बहुत प्यारी रचना...

    उत्तर देंहटाएं
  11. आपकी रचना ने निःशब्द कर दिया है...प्रशंसा को शब्द कहाँ से लाऊं समझ नहीं पा रही...

    सटीक चित्रण किया है आपने.....यही तो होता है...

    उत्तर देंहटाएं
  12. खूबसूरत - भावपूर्ण रचना । शुभकामनाएं ।

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहुत सुन्दर भावनात्मक रचना ... माँ की ममता ऐसी ही होती है !

    उत्तर देंहटाएं
  14. aurat teri yahi kahani. ek aurat ke kai roop hote hai. in sub roopo ko nibahte hue use apne bare me sochne ka mauka kaha milta hai. sunder rachna.

    उत्तर देंहटाएं
  15. औरत के जीवन का सच है। अच्छी लगी रचना। बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  16. माँ पर लिखी हर रचना निशब्द कर देती है।
    उम्दा प्रस्तुति।

    उत्तर देंहटाएं
  17. मन की संवेदना को मुखरित कर गयी आपकी कविता !
    -ज्ञानचंद मर्मज्ञ

    उत्तर देंहटाएं
  18. maa ban kar hi maa ke ehsaaso ko samjha ja sakta hai aur maa banne ke baad maa ki har baat sahi lagti hai.

    उत्तर देंहटाएं
  19. सशक्त रचना!बधाई.नव वर्ष की शुभकामनाएँ.

    उत्तर देंहटाएं
  20. चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी रचना कल मंगलवार 28 -12 -2010
    को ली गयी है ..नीचे दिए लिंक पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया ..


    http://charchamanch.uchcharan.com/

    उत्तर देंहटाएं
  21. शायद हर युग की माँऐं इसी तरह की होती हैं ! शायद माँ होने का दूसरा नाम ही अपना सर्वस्व अपने बच्चों के लिये न्यौछावर कर देना होता है ! बहुत ही भावमयी पोस्ट ! आपका आभार एवं शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं
  22. एक शाश्वत परंपरा...हरेक माँ एक माँ होती है और इसके आलावा वह और कोई पहचान चाहती भी नहीं है..बहुत भावपूर्ण प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  23. हम लोग माता पिता को आदर्श मान कर अनुसरण करने लगते हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  24. हर माँ ऐसी ही होती है ...
    रोज सुबह बच्चे पूछते हैं ," आपको ठण्ड नहीं लगती " तो याद आ जाता है हम भी माँ से यही तो कहा करते थे ?

    उत्तर देंहटाएं
  25. गहन संवेदनाओं की बेहद मर्मस्पर्शी अभिव्यक्ति. आभार.
    सादर,
    डोरोथी.

    उत्तर देंहटाएं
  26. आज फिर से पढ़ा आपकी इस रचना को...और यही लग रहा है की यदि यह भाव /स्वभाव स्त्रियों में न रहे तो परिवार का स्वरुप संभवतः वही रहेगा जो पाश्चात्य देशों में है...
    यूँ अपने यहाँ भी इस भाव का अभाव ही पारिवारिक विखंडन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता जा रहा है..

    उत्तर देंहटाएं
  27. ऐसा लगा मानो मेरे लिए लिखी हैं ...!

    उत्तर देंहटाएं
  28. pahli baar iss blog pe pahucha...
    aur aate hi aankhe nam ho gayee
    aisee hi to maa hoti hai...
    haste hue khud ko bachcho ke liye arpit kar deti hai..


    nav-varsh ki subhkamnayen..:)

    उत्तर देंहटाएं
  29. गज़ब का चित्रण किया है आपने..... माँ ऐसी ही तो होती है.

    उत्तर देंहटाएं
  30. बहुत ही गहरे जज्बात है इस कविता .... बहुत ही भावपूर्ण बन पड़ी है ये कविता. बधाई .
    फर्स्ट टेक ऑफ ओवर सुनामी : एक सच्चे हीरो की कहानी


    रमिया काकी

    उत्तर देंहटाएं
  31. sada ji
    kya likhu ,kya kya likhu.
    maa to shabd hi aisa hai jo sabko nihshabd kar jat hai.aapne itne gahre bhavo ke saath maa ke baare jo bhau bhini kavita likhi hai,vo vastav me avarniya hai.maa ka to har roop shrddhey hota hai.
    kabhi bachpanmaa jo hamse kaha karti thi ,uski
    ab ham bhi rubrunvykhaya apne baccho ke sath kiya karte hai.yah to maa banane par hi pata chalta hai.bahut himan ko bhigoti rachna
    kabile tarrif hai.
    avarniy

    उत्तर देंहटाएं
  32. एक एक पंक्ति सच्चाई उगल रही है .
    बेहद खूबसूरत रचना .

    उत्तर देंहटाएं
  33. सुन्दर कविता !

    नव वर्ष(2011) की शुभकामनाएँ !

    उत्तर देंहटाएं
  34. सच है ... बहुत ही मन को छू रहा है आपका लिखा ... वैसे माँ के बारे में जो भी लिखा हो मन को भा जाता है ...

    उत्तर देंहटाएं
  35. आज दुबारा पढी कविता, और फिर जी चाहा कि कमेंट लिखूं। लेकिन क्‍या लिखूं, यह समझ नहीं आ रहा। बस इतना कहूंगा कि मन को छू गये भाव।

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
मन को छू लें वो शब्‍द अच्‍छे लगते हैं, उन शब्‍दों के भाव जोड़ देते हैं अंजान होने के बाद भी एक दूसरे को सदा के लिए .....