मंगलवार, 7 दिसंबर 2010

दर्द की नदी में ....











(१)

हर रिश्‍ता,

गहरा होता गया

साथ तेरे....

उंगली पकड़ के

चली जब मैं

साथ तेरे ...

धड़कन का सच

रूह ने जाने

कब कह दिया

दूर कहां, तुम तो

हर पल हो

पास मेरे ....!!

(२)

मन की घुटन ने,

जब

दर्द की नदी में

गोता लगाया,

जाने कितने

आंसुओं को

वो चुपके से

किनारे में

बहा आया,

तेरे सामने जब भी

आया

सदा मुस्‍कराया ।

30 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत ही प्यारी सी दो क्षणिकाएं...बहुत ही सुन्दर लगीं...
    पहली ने तो प्यार के हलके से थपेड़े महसूस कराये...

    उत्तर देंहटाएं
  2. वाह! दोनो ही कविता बेहतरीन है

    उत्तर देंहटाएं
  3. गज़ब कर दिया ………भावों का बहुत ही खूबसूरत समन्वय्।

    उत्तर देंहटाएं
  4. दोनो ही भावमय रचनायें अच्छी लगी। कम शब्दों मे पूरी बात। बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  5. ओह ..दोनों ही बहुत भावपूर्ण ...दर्द की नदी में गोता लगाया ...बहुत सुन्दर

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत सुंदर कविता. बहुत ही भावपूर्ण...

    उत्तर देंहटाएं
  7. सदा ने सदा इतनी अच्छी लगाई.
    कि दुनिया उसी ब्लॉग पे खिंच के आई.

    अच्छी लगी आपकी कविता

    उत्तर देंहटाएं
  8. sada ji , main kya kahun... aapki dono rachnao ko padhkar man pata nahi kaha thahar gaya hai ... pahli wali kavita ne to bahut hi ruhaani ahsaas ko janm de diya hai .. shayad isi bhaav par main bhi ek kavita likhu...
    aapko dil se badhayi

    vijay
    poemsofvijay.blogspot.com
    09849746500

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत ही सुंदर मन को भाव विभोर कर देने वाली रचनाएँ और सच को छूती हुई.

    उत्तर देंहटाएं
  10. कम शब्दों में पिरोये गहरे भाव .... बेहतरीन कविता ...

    उत्तर देंहटाएं
  11. लाजवाब लेखन, दोनों ही क्षणिकाएं बहुत खास लगीं

    उत्तर देंहटाएं
  12. कम शव्दों में कह दी आपने सारी बात ...भावनात्मक प्रस्तुति ...शुक्रिया

    उत्तर देंहटाएं
  13. sada ji
    aapne to kamaal kar diya ,itni sundar xhnikaye, vo hi adhbhut tareeke se pesh kiya hai .
    Wah! bahut khoob,kya baat hai-----
    poonam

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत ही भावनात्मक प्रस्तुति है ... सच है कई बार जब मन दुखी होता है ... पर दूसरे को एहसास नही होने देता ...

    उत्तर देंहटाएं
  15. मैंने अपना पुराना ब्लॉग खो दिया है..
    कृपया मेरे नए ब्लॉग को फोलो करें... मेरा नया बसेरा.......

    उत्तर देंहटाएं
  16. वाह...कमाल का लिखा है
    दोनों रचनाएं बहुत अच्छी लगी.

    उत्तर देंहटाएं
  17. प्रेम की सुंदर अभिव्यक्ति .....!!

    उत्तर देंहटाएं
  18. jise hum pyaar karte wah door jaa kaise sakta hai, wah to yaadon ke ganw se chalkar hamesha paas khada hota hai ....

    उत्तर देंहटाएं
  19. बहुत खूबसूरत क्षणिकाएं..दर्द की नदी में ...

    उत्तर देंहटाएं
  20. बहुत भावपूर्ण क्षणिकायें हैं दोनों ! दोनों ही एक से बढ़ कर एक ! बहुत सुन्दर !

    उत्तर देंहटाएं
  21. दोनों ही रचनाये बहुत खुबसूरत है....

    उत्तर देंहटाएं
  22. बेहद भावमयी और खूबसूरत अभिव्यक्ति. आभार.
    सादर,
    डोरोथी.

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
मन को छू लें वो शब्‍द अच्‍छे लगते हैं, उन शब्‍दों के भाव जोड़ देते हैं अंजान होने के बाद भी एक दूसरे को सदा के लिए .....