शनिवार, 17 जुलाई 2010

सारे रिश्‍ते तोड़ आया ....







गुरबत पे मेरी मुझको छोड़ सबको तरस आया,

सब मुझे छोड़ गये मैं न उसको फिर छोड़ पाया ।

कुछ भूल गये मुझको, कुछ अजनबी हुये मुझसे,

मैं लौटा यादें साथ ले जब मुश्किल ये मोड़ आया ।

रिश्‍ता खून का दुहाई मांगे मेरे होने की जब भी,

मैं कहता हंसकर मैं तो सारे रिश्‍ते तोड़ आया

नासमझ को समझाओ तो जरा टूटे हुए धागे को,

बिन गांठ के कौन है जो आजतलक जोड़ पाया ।

खेल तकदीर के खिलौना बन के इंसान निभाता है,

भटका सारा जीवन तब जाकर यह निचोड़ आया ।

31 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुंदर और उत्तम भाव लिए हुए.... खूबसूरत रचना......

    संजय कुमार
    हरियाणा
    http://sanjaybhaskar.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  2. सार्थक और बेहद खूबसूरत,प्रभावी,उम्दा रचना है..शुभकामनाएं।

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपकी पोस्ट आज चर्चा मंच पर भी है...

    http://charchamanch.blogspot.com/2010/07/217_17.html

    उत्तर देंहटाएं
  4. sare rishte tod aaya.....yah kahna aur muskurana , dil se hoker guzarta hai

    उत्तर देंहटाएं
  5. Anupam bhaav liye hai aapki rachna ... bahut prabhaavi hai ... jo rishte gawaahi maange unhe chod dena hi behtar hota hai ...

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत खूबसूरत गज़ल है...रश्मि जी ने सही कहा है...

    उत्तर देंहटाएं
  7. बेह्द सुन्दर और प्रभावशाली रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  8. it is an example of sacrifice for love, the great L O V E. A very nice and impressive article. Thanks.

    उत्तर देंहटाएं
  9. आप सबका बहुत-बहुत आभार, इस प्रोत्‍साहन के लिये ।

    उत्तर देंहटाएं
  10. नासमझ को समझाओ तो जरा टूटे हुए धागे को,
    बिन गांठ के कौन है जो आजतलक जोड़ पाया ।

    वाह! उम्दा!

    उत्तर देंहटाएं
  11. बिल्कुल सही!
    --
    जीवन खतम हुआ तो जीने का ढंग आया!
    जब शम्मा बुझ गई तो महफिल में रंग आया!!

    उत्तर देंहटाएं
  12. नासमझ को समझाओ तो जरा टूटे हुए धागे को,
    बिन गांठ के कौन है जो आजतलक जोड़ पाया ।


    बहुत सुंदर नज़्म ......!!

    उत्तर देंहटाएं
  13. .
    Thanks for sharing this wonderful ghazal/nazm.

    All are couplets are marvelous.

    badhai.

    उत्तर देंहटाएं
  14. खेल तकदीर के खिलौना बन के इंसान निभाता है,

    भटका सारा जीवन तब जाकर यह निचोड़ आया ।
    बहुत सुंदर नज़्म .. शुभकामना

    उत्तर देंहटाएं
  15. किस तरह दर्द को उकेरा है शब्दों से.जो दर्द अभी तक महसूस नहीं होते थे आज हो रहे हैं

    उत्तर देंहटाएं
  16. कुछ भूल गये मुझ को----- मार्मिक अभिव्यक्ति । पूरी रचना बहुत अच्छी लगी बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  17. बहुत सुंदर भाव लिए ....ख़ूबसूरत रचना....

    सॉरी मैं लेट हो गया....

    और आप कैसी हैं?

    I do Hope .........U will be fine...

    regards....

    उत्तर देंहटाएं
  18. वाह! क्या बात है! बहुत सुन्दर भाव और अभिव्यक्ति के साथ उम्दा रचना लिखा है आपने!

    उत्तर देंहटाएं
  19. bahut sunder rachana hai.......
    sara jeevan anubhavo ka nichod hai ise rachana me.........

    उत्तर देंहटाएं
  20. मित्रता दिवस की हार्दिक बधाइयाँ एवं शुभकामनाएँ!

    उत्तर देंहटाएं
  21. bahut bhavuk rachna ajay ji...

    kuch bhul gaye,kuch ajnabi hue mujhse
    main lauta yaaden saath le jab mushkil ye mor aaya.


    bahut badhai ho...

    उत्तर देंहटाएं
  22. *********--,_
    ********['****'*********\*******`''|
    *********|*********,]
    **********`._******].
    ************|***************__/*******-'*********,'**********,'
    *******_/'**********\*********************,....__
    **|--''**************'-;__********|\*****_/******.,'
    ***\**********************`--.__,'_*'----*****,-'
    ***`\*****************************\`-'\__****,|
    ,--;_/*******HAPPY INDEPENDENCE*_/*****.|*,/
    \__************** DAY **********'|****_/**_/*
    **._/**_-,*************************_|***
    **\___/*_/************************,_/
    *******|**********************_/
    *******|********************,/
    *******\********************/
    ********|**************/.-'
    *********\***********_/
    **********|*********/
    ***********|********|
    ******.****|********|
    ******;*****\*******/
    ******'******|*****|
    *************\****_|
    **************\_,/

    स्वतंत्रता दिवस के मौके पर आप एवं आपके परिवार का हार्दिक अभिनन्दन एवं शुभकामनाएँ !

    उत्तर देंहटाएं
  23. सुन्दर और भावपूर्ण रचना! हर एक शब्द दिल को छू गयी! इस बेहतरीन रचना के लिए बधाई!

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
मन को छू लें वो शब्‍द अच्‍छे लगते हैं, उन शब्‍दों के भाव जोड़ देते हैं अंजान होने के बाद भी एक दूसरे को सदा के लिए .....