मंगलवार, 6 अक्तूबर 2009

किसी के कदमों तले .....

(1)

टूटा जब

पत्‍ता डाली से,

लिपट के रोया

माली से,

सांस अन्तिम

उसने ली

फिर न लौट पाया

डाली पे ।

सूखा पड़ा रहा

धरा में

कभी रौंदा गया

किसी के कदमों तले

कसक उठता मन

कुछ बचा था अंश

उसे उठा ले गई

एक दिन पवन

(2)

टूटकर गिरी

बिजलियां उस पर,

जो अंधेरे में

छुपकर बैठा था

उन्‍हें कुछ भी

न हुआ

जो तकते थे

गगन !

16 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत खुबसूरत लिखा है आपने

    उत्तर देंहटाएं
  2. टूटकर गिरी बिजलियां उस पर,
    जो अंधेरे में छुपकर बैठा था
    उन्‍हें कुछ भी न हुआ
    जो तकते थे गगन !
    बहुत बढ़िया ...
    सूखे पत्ते की व्यथा कथा भी खूब अभिव्यक्त हो गयी है कविता में ..!!

    उत्तर देंहटाएं
  3. बेहद भावपुर्ण रचना .......अतिसुन्दर!

    उत्तर देंहटाएं
  4. दोनों शब्द-चित्रों को
    आपने अपने शब्दों की माला में
    करीने से पिरोया है।

    बधाई!

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत खूबसूरत और भावपूर्ण शब्दचित्रो ने दिल को छू लिया.

    उत्तर देंहटाएं
  6. डाल से पत्ते का टूटना यह एक बहुत बड़ा दुख है ।

    उत्तर देंहटाएं
  7. क्या खूब कहा आपने दिल को छू लेने वाली कविता

    उत्तर देंहटाएं
  8. यही नियति है.
    फिर भी अंहकार है की कम ही नहीं होता, मानवता है की विलुप्त होती जा रही है.....

    सुन्दर छोटी पर गहन भावों से लबालब.

    हार्दिक बधाई.

    चन्द्र मोहन गुप्त
    जयपुर
    www.cmgupta.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  9. कभी रौंदा गया
    किसी के कदमों तले
    कसक उठता मन
    कुछ बचा था अंश
    उसे उठा ले गई
    एक दिन पवन

    सदा जी सुंदर रचना ....!!

    उत्तर देंहटाएं
  10. sada ji
    namakar .

    aapki ye kavita padhi. aapki abhivyakti bahut sudar ban padhi hai.. patte aur insaan me koi jyda fark nahi hai ...ise hi niyati kahte hai. aapki kavita dil ko choo gayi

    meri badhai sweekar kare..

    dhanywad

    vijay
    www.poemofvijay.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  11. पत्‍ता डाली से,

    लिपट के रोया

    माली से,

    सांस अन्तिम

    उसने ली

    फिर न लौट पाया

    डाली पे ।
    टूटते पत्ते की व्यथा बहुत ही मार्मिकता से निभाया है इसे शब्दों मे दोनो रचनायेम बहुत अच्छी हैं शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  12. टूटा जब

    पत्‍ता डाली से,

    लिपट के रोया

    माली से,


    सांस अन्तिम

    उसने ली

    फिर न लौट पाया

    डाली पे ।

    in panktiyon ne to dil ko chhoo liya..........


    baht sundar kavita.......... apne aap mein sampoorna hai..........

    उत्तर देंहटाएं
  13. एक घरौंदा जो बनाया था, बरसात में बह गया

    isey dekh kar bataiyega.........plz

    उत्तर देंहटाएं
  14. रचना काबिले तारीफ़ है, शुभकामनाएं|

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
मन को छू लें वो शब्‍द अच्‍छे लगते हैं, उन शब्‍दों के भाव जोड़ देते हैं अंजान होने के बाद भी एक दूसरे को सदा के लिए .....