गुरुवार, 22 अक्तूबर 2009

पलकें झुक गईं ....

धड़कनों से पूछा तेरा नाम लेकर मैने,

किसके लिये यूं इतना धड़कना तेरा है ।

तेरे चलने से मेरी सांसे चलती है बस,

मैं तो समझती थी इतना काम तेरा है ।

पलकें झुक गई शर्मोसार होकर जब,

मैने जाना इसमें समाया अक्‍स तेरा है ।

लब खामोश थे कुछ कहते कंपकंपा के,

समझ गई मैं इनमें भी नाम तेरा है ।

चाहत में तेरी मैं खुद से अंजान हुई यूं,

देखा हथेली पे कब से लिखा नाम तेरा है ।

14 टिप्‍पणियां:

  1. पलकें झुक गई शर्मोसार होकर जब,

    मैने जाना इसमें समाया अक्‍स तेरा है ।

    wah! bahut hi khoobsoorat panktiyan.....

    khoobsoorat ehsaas ke saath ek behtareen kavita.......

    उत्तर देंहटाएं
  2. किसके लिये यूं इतना धड़कना तेरा है ।

    तेरे चलने से मेरी सांसे चलती है बस,

    मैं तो समझती थी इतना काम तेरा है ।

    बहुत सुन्दर!!

    pankaj

    उत्तर देंहटाएं
  3. चाहत में तेरी मैं खुद से अंजान हुई यूं,
    देखा हथेली पे कब से लिखा नाम तेरा है .....

    किसी की चाहत का रंग ऐसा ही चड़ता है ..... खुद की खबर ही नहीं रहती ......... सुन्दर रचना है .......

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुन्दर लिखा है आपने
    चाहत में तेरी मैं खुद से अंजान हुई यूं,
    देखा हथेली पे कब से लिखा नाम तेरा है .....

    उत्तर देंहटाएं
  5. चाहत में तेरी मैं खुद से अंजान हुई यूं,
    चाहत मे तो खुद से अंजान हो जाने की यह प्रथम सोपान ही तो है जब चाहत का संज्ञान हो जाता है.
    बहुत खुबसूरत रचना

    उत्तर देंहटाएं
  6. लब खामोश थे कुछ कहते कंपकंपा के,
    समझ गई मैं इनमें भी नाम तेरा है ।

    नज़्म के अशआर खूबसूरत है।
    मुबारकवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  7. चाहत में तेरी मैं खुद से अंजान हुई यूं,
    देखा हथेली पे कब से लिखा नाम तेरा है ।

    वाह......!!

    बहुत सुंदर......!!

    उत्तर देंहटाएं
  8. प्रेम के विषय के अलावा अन्य विषयो पर भी आपकी लेखनी अच्छी चलती है ।............................ यह हमे पता है

    उत्तर देंहटाएं
  9. धड़कनों से पूछा तेरा नाम लेकर मैने,

    किसके लिये यूं इतना धड़कना तेरा है ।


    तेरे चलने से मेरी सांसे चलती है बस,

    मैं तो समझती थी इतना काम तेरा है ।

    sunder ahsas hai

    उत्तर देंहटाएं
  10. कम शब्दों में बहुत सुन्दर कविता।
    बहुत सुन्दर रचना । आभार

    ढेर सारी शुभकामनायें.

    SANJAY KUMAR
    HARYANA
    http://sanjaybhaskar.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
मन को छू लें वो शब्‍द अच्‍छे लगते हैं, उन शब्‍दों के भाव जोड़ देते हैं अंजान होने के बाद भी एक दूसरे को सदा के लिए .....