सोमवार, 23 अप्रैल 2018

मरहम के साये में दर्द !!!!

कड़वे शब्द
कठिन समय में
बस मरहम होते हैं
जख्मो की ज़बान होती
तो वो चीखते शोर मचाते
आक्रमण करते
मरहम के साये में दर्द नम होकर
यूँ पसीज हिचकियाँ ना लेते !!!!
...
छलनी होती रूह पे
घड़ी दो घड़ी की तसल्ली
वाले शब्दों से
कुछ हुआ है ना कभी होगा
गुनाहों की शक्ल
बदलने के वास्ते
रूहों का लिबास बदलना होगा !!!
...

16 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी लिखी रचना आज के "पांच लिंकों का आनन्द में" मंगलवार 24 एप्रिल 2018 को साझा की गई है......... http://halchalwith5links.blogspot.in/ पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  2. दर्द स्वयं ही भोगना होता है, बंटता नहीं है
    बहुत सही

    उत्तर देंहटाएं
  3. कड़वे शब्द
    कठिन समय में
    बस मरहम होते हैं
    एकदम सही कहा आपने मैंने उन लम्हों की सिसकियाँ सुनी हैं दर्द को गहरे भावो को शब्दो मे कैसे पिरो देती है दीदी आप :)

    उत्तर देंहटाएं
  4. आपकी इस पोस्ट को आज की बुलेटिन विश्व पुस्तक एवं कॉपीराइट दिवस और ब्लॉग बुलेटिन में शामिल किया गया है। कृपया एक बार आकर हमारा मान ज़रूर बढ़ाएं,,, सादर .... आभार।।

    उत्तर देंहटाएं
  5. हृदयस्पर्शी रचना...बहुत सुंदर👌

    उत्तर देंहटाएं
  6. वाह!!बहुत सुंदर ,हृदय को छू गई आपकी रचना ।

    उत्तर देंहटाएं
  7. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल बुधवार (25-04-2018) को ) "चलना सीधी चाल।" (चर्चा अंक-2951) पर होगी।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    राधा तिवारी

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत सुन्दर हृदयस्पर्शी प्रस्तुति....
    वाह!!!

    उत्तर देंहटाएं
  9. कड़वे शब्द रिसते जख्मों का मरहम...
    नई सी बात!!

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत सटीक और मर्मस्पर्शी रचना...

    उत्तर देंहटाएं
  11. सही है गुनाहों के चेहरे

    उत्तर देंहटाएं
  12. काश रूह का लिबास बदलना आसान होता ...
    पर दर्द खुद का खुद को झेलना होता है ... सटीक रचना है ...

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
मन को छू लें वो शब्‍द अच्‍छे लगते हैं, उन शब्‍दों के भाव जोड़ देते हैं अंजान होने के बाद भी एक दूसरे को सदा के लिए .....