गुरुवार, 30 जुलाई 2015

याद आया तो ज़रूर होगा !!

कभी प्रेम 
कभी रिश्ता कोई 
बन गया हमनवां जब 
तुमने जिंदगी को 
हँस के गले 
लगाया तो ज़रूर होगा !
...
मांगने पर भी
जो मिल न पाया
ऐसा कुछ छूटा हुआ
बिछड़ा हुआ
कभी न कभी
याद आया तो
ज़रूर होगा !!
...
कोई शब्द जब कभी
अपनेपन की स्याही लिए
तेरा नाम लिखता
हथेली पे
तुमने चुराकर नज़रें
वो नाम
पुकारा तो ज़रूर होगा!!!
...

11 टिप्‍पणियां:

  1. प्रेम कभी मिटता नहीं...

    उत्तर देंहटाएं
  2. कोई शब्द जब कभी अपनेपन की स्याही लिए तेरा नाम लिखता

    बहुत ही विचारणीय कविता ...बहुत ही सुंदर एहसास के साथ सुंदर कविता

    उत्तर देंहटाएं
  3. प्रेम में पगी यादें कैसे भुलाई जाएँ. सुंदर भावपूर्ण कविता.

    उत्तर देंहटाएं
  4. सदा की पढ़ -सुन सदा ....कुछ न कुछ याद आया तो जरूर होगा ......शुभकामनायें |

    उत्तर देंहटाएं
  5. कौन भूल पाता है इन बीते हुए लम्हों को...बहुत ख़ूबसूरत अहसास और उनकी सुन्दर अभिव्यक्ति...

    उत्तर देंहटाएं
  6. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" शुक्रवार 07 अगस्त 2015 को लिंक की जाएगी............... http://halchalwith5links.blogspot.in पर आप भी आइएगा ....धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  7. प्रेम के खूबसुरत अहसासों को समेटते हुए शब्द
    http://savanxxx.blogspot.in

    उत्तर देंहटाएं
  8. स्म्रतियां कहाँ मिट पाती हैं
    बहुत सुंदर और प्रेममयी अभिव्यक्ति ---

    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  9. मांगने पर भी जो न मिल पाया।
    किसी दर्द को सहजता से उकेरता मन।
    सुंदर अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
मन को छू लें वो शब्‍द अच्‍छे लगते हैं, उन शब्‍दों के भाव जोड़ देते हैं अंजान होने के बाद भी एक दूसरे को सदा के लिए .....