शनिवार, 20 जून 2015

पापा की हथेलियों में ...


पापा की हथेलियों में
होते मेरे दोनो बाजू और मैं
होती हवा में
तो बिल्‍कुल तितली हो जाती
खिलखिलाकर कहती
पापा और ऊपर
हँसते पापा ये कहते हुये
मेरी बहादुर बेटी!
....

पापा की हथेलियों में
जब भी मेरी तर्जनी कैद होती
मुझे जीवन मेले से लगता
मैं खुद को पाती
वही घेरदार फ्रॉक के साथ
उनके लम्‍बे कदमों संग
दौड़ लगाती हुई!
....
पापा की हथेलियां
थपकी स्‍नेह की जब भी
कभी कदम डगमगाये
हौसले से उनके
आने वाला पल मुस्‍कराये!



14 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी इस पोस्ट को शनिवार, २० जून, २०१५ की बुलेटिन - "प्यार, साथ और अपनापन" में स्थान दिया गया है। कृपया बुलेटिन पर पधार कर अपनी टिप्पणी प्रदान करें। सादर....आभार और धन्यवाद। जय हो - मंगलमय हो - हर हर महादेव।

    उत्तर देंहटाएं
  2. बेहद सुन्दर.... मर्म को छूती रचना

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपकी रचना पढ़कर फिर बचपन की प्यारी यादें ताजा हो गयी. और मैं तो अपने पापा की लाड़ली हूँ खूब सताया है पापा को कभी कभी पापा मम्मी बताते है..
    बहुत ही प्यारी और हृदयस्पर्शी रचना..
    :-)

    उत्तर देंहटाएं
  4. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल रविवार (21-06-2015) को "योगसाधना-तन, मन, आत्मा का शोधन" {चर्चा - 2013} पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    अन्तर्राष्ट्रीय योगदिवस की
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक

    उत्तर देंहटाएं
  5. माँ धरा है तो पिता छत की तरह संरक्षण देते हैं। फादर्स डे की पूर्वबेला पर इससे अच्छी प्रस्तुति नहीं हो सकती।

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत सुदर और भाव पूर्ण सृजन, बधाई
    यादो का जीवन मे इक अलग और अमुपम स्थान है

    उत्तर देंहटाएं
  7. सुन्दर भावपूर्ण रचना

    उत्तर देंहटाएं
  8. पढकर बचपन में लौट आई हूँ आभार

    उत्तर देंहटाएं
  9. ...वाह बेहतरीन , बचपन याद आ गया

    उत्तर देंहटाएं
  10. पापा की हथेलियां थपकी स्‍नेह की जब भी कभी कदम डगमगाये हौसले से उनके आने वाला पल मुस्‍कराये!

    ...बहुत ही सुन्दर लिखा है दी बचपन की यादें ताजा सिर्फ आपकी ही पोस्ट कर सकती है

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत ही प्यारी और हृदयस्पर्शी रचना

    मैं सन्नाटा बुनता हूँ -- अज्ञेय जी की रचना
    राज कुमार
    आपका मेरे ब्लॉग पर इंतजार है.
    http://rajkumarchuhan.blogspot.in

    उत्तर देंहटाएं
  12. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" गुरुवार, कल 3 दिसंबर 2015 को में शामिल किया गया है।
    http://halchalwith5links.blogspot.in पर आप सादर आमत्रित है ......धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
मन को छू लें वो शब्‍द अच्‍छे लगते हैं, उन शब्‍दों के भाव जोड़ देते हैं अंजान होने के बाद भी एक दूसरे को सदा के लिए .....