शनिवार, 9 मई 2015

सिर्फ माँ ही !!!









माँ ने नहीं पढ़े होते
नियम क़ायदे
ना ही ली होती है डिग्री
कोई कानून की
फिर भी हर लम्‍हा सज़ग रहती है
अपने बच्‍चों के अधिकारों के प्रति
लड़ती है जरूरत पड़ने पर
बिना किसी हथियार के
करती है बचाव सदा
खुद वार सहकर भी !
....
माँ के लिये एक समान होती हैं
उसकी सभी संताने
किसी एक से कम
किसी एक से ज्‍यादा
कभी भी प्‍यार नहीं कर पाती वह
ये न्‍याय वो कोई तुला से नहीं
बल्कि करती है दिल से
ममता की परख
बच्‍चे कई बार करते हैं !!
...
कसौटियों पर रख ये भी कहते हैं
हमें कम तुम्‍हें ज्‍यादा चाहती है माँ
कहकर आपस में जब झगड़ते हैं
तो उन झगड़ों को वो अक्‍़सर
एक सहज सी मुस्‍कान से मिटा देती है
और सब लग जाते हैं गले
ऐसा न्‍याय सिर्फ माँ ही कर सकती है !!!

...

11 टिप्‍पणियां:

  1. माँ तो बस माँ ही होती है...भावपूर्ण कविता...

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल रविवार (10-05-2015) को "सिर्फ माँ ही...." {चर्चा अंक - 1971} पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    मातृदिवस की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक
    ---------------

    उत्तर देंहटाएं
  3. बिलकुल सच कहा है...माँ तो बस माँ होती है ...बहुत सुन्दर और सटीक प्रस्तुति...

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुन्दर

    मातृदिवस की हार्दिक शुभकामना

    उत्तर देंहटाएं
  5. मां बस मां होती है.
    सरलता लिये हुए सुंदर पोस्ट

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत भावपूर्ण रचना

    उत्तर देंहटाएं
  7. माँ तो आखिर माँ है ना.

    सुंदर प्रस्तुति.

    उत्तर देंहटाएं
  8. भावो को खुबसूरत शब्द दिए है अपने.....

    उत्तर देंहटाएं
  9. माँ के असीम वात्सल्य को समेटने के प्रयास में लिखी गई यह कविता आपके भावों का परिचय बखूबी देरही है . बेटी तो वैसे भी अपने अंतिम क्षणों तक माँ से जुडी होती है . हर संतान का यही भाव हो .

    उत्तर देंहटाएं
  10. माँ की सरल मुस्कान ही बच्चों का संबल होती है ... बहुत सुन्दर रचना .

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
मन को छू लें वो शब्‍द अच्‍छे लगते हैं, उन शब्‍दों के भाव जोड़ देते हैं अंजान होने के बाद भी एक दूसरे को सदा के लिए .....