बुधवार, 23 अप्रैल 2014

दूर करते हैं उदासियां !!!!


मेरी डायरी में
कुछ पन्‍ने हैं उदासियों के
सच कहूँ
तुम और तुम्‍हारा जि़क्र
ज़हां नहीं होता
वहाँ उदासियां
बिन बुलाये आ जाती हैं
इन उदासियों को
जब भी हटाना होता है
ज़रूरत होती है
मुझे तुम्‍हारे साथ की !
...
तुम जब भी साझा करते हो
एक मुस्‍कान :)
ये उदास पन्‍ने
मुस्‍कराने लगते हैं :) :) :)
तो फिर आओ साझा करते हैं
एक मुस्‍कान
और दूर करते हैं
उदासियां इन पन्‍नों की !!!!
....


24 टिप्‍पणियां:

  1. उनको हमेशा पास रखें उदासियाँ पास ही नहीं आएँगी ...
    लाजवाब ...

    उत्तर देंहटाएं
  2. ये उदासियाँ ना हो तो ....मुस्कुराहट की कीमत कैसे पता चलेगी

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुन्दर आव्हान ...शब्दों से रिश्ता बना रहे

    उत्तर देंहटाएं
  4. शायद यही जीवन है , मंगलकामनाएं आपको !

    उत्तर देंहटाएं
  5. मुस्कराहट से मुस्कुराहटें बढती है और यह कारवां बन जाता है मुस्कुराहटों का .
    शुभकामनाये !

    उत्तर देंहटाएं
  6. हम भी चलो साझा करते हैं एक मुस्कान....
    तुम्हारी उदासियों को एक धक्का हमारा भी :-)

    सस्नेह
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  7. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 24-04-2014 को चर्चा मंच पर दिया गया है
    आभार

    उत्तर देंहटाएं
  8. तो फिर आओ साझा करते हैं
    एक मुस्‍कान....aamin .......sada sath bna rahe ...

    उत्तर देंहटाएं
  9. सुन्दर आव्हान ...विचारों के इतनी गहन अनुभूतियों को सटीक शब्द देना सबके बस की बात नहीं है !

    उत्तर देंहटाएं
  10. कितना प्यारा अंदाज़ है आमंत्रण का ! कोई क्यों न खींचा चला आये ! बहुत ही सुंदर एवं भावपूर्ण ! इस मुस्कराहट के लिये ढेर सारी दुआएं !

    उत्तर देंहटाएं
  11. उसके आने की खबर ही हर लेती है हर दुःख..

    उत्तर देंहटाएं
  12. बस एक नाम कोरे कागज़ पर लिखा और पूरी डायरी की इबारतें जग्मगा उठीं... वो नाम अगर ऐसा हो तो उसके बगैर सूनापन और उसकी मुस्कुराहट से एक सिलसिला!! बहुत दिनों बाद आप लौटीं, लेकिन अन्दाज़ वही है!! सुन्दर!!

    उत्तर देंहटाएं
  13. सही कहा । एक नाम ही पूरी दुनिया बदल देता है । सुन्दर रचना ।

    उत्तर देंहटाएं
  14. एक मुस्कान जीवन जीने का नज़रिया बदल देती है

    उत्तर देंहटाएं
  15. फिर तो उदासी ही शर्मा जाती है..

    उत्तर देंहटाएं
  16. अति सुन्दर...खूबसूरत कथ्य...

    उत्तर देंहटाएं
  17. उदासियाँ भी न रहीं उदासियाँ....उदासी और मुस्कान को अपने ढंग परिभाषित करती बहुत खूबसूरत रचना...

    उत्तर देंहटाएं
  18. मिल जायें अाप , हम और मैं तो ये उदासी ही न रहें

    उत्तर देंहटाएं
  19. प्रेम की कसक ऐसी ही है जहां प्रेमी ही ज़ख्म है और वही मरहम।।

    उत्तर देंहटाएं
  20. कोई मुस्कुराहट कितनी ख़ास बन जाती है
    सुन्दर !

    उत्तर देंहटाएं
  21. मुस्कराहट उदासियों को भागा देती है
    बहुत सुंदर ---

    आग्रह है----
    और एक दिन

    उत्तर देंहटाएं
  22. ज़िंदा रहने के लिए दोनों ही ज़रूरी है...उदास ज़िंदगी के यह उदास पन्ने बस यूं ही 'सदा' मुसकुराते रहें...शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
मन को छू लें वो शब्‍द अच्‍छे लगते हैं, उन शब्‍दों के भाव जोड़ देते हैं अंजान होने के बाद भी एक दूसरे को सदा के लिए .....