शुक्रवार, 14 मार्च 2014

कुछ रंग उम्‍मीद की हथेलियों पर !!!!!














रंग आतिशी हो गए हैं सारे
गुलाल भंग के नशे में है
तभी तो हवाओं में
उड़ रहा है
चाहता है होली के दिन
ढोलक की थाप पर
हर चेहरा गुलाबी हो जाए !
..... 
सूखे हुये रंग
भीगना चाहते हैं
भीगते-भीगते
वो रंगना चाहते हैं
आत्‍मीयता का लिबास
होली की उमंग में !!
....
उमंग के इन्‍हीं लम्‍हों में
रंगों की जबान बस
स्‍नेह की बोली जानते हुए
कहाँ परहेज़ करती है
अपने और पराये का
तभी तो रंग जाता
तन के साथ मन !!!
...
कुछ रंग
उम्‍मीद की हथेलियों पर
घुल कर छाप छोड़ देते है
इन पलों में ताउम्र के लिए
फिर नहीं चढ़ता
कोई रंग दूजा
मन की दीवारों पर !!!!
.....

33 टिप्‍पणियां:

  1. आप को रंगों की बहार ,खुशीयों का त्यौहार होली की मुबारक हो ,,,शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं
  2. इन पलों में ताउम्र के लिए
    फिर नहीं चढ़ता
    कोई रंग दूजा
    मन की दीवारों पर !!!!

    वाह ! क्या ऐसा ही रंग लगा था मीरा के मन पर...होलो की शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुंदर प्रस्तुति.
    इस पोस्ट की चर्चा, शनिवार, दिनांक :- 15/03/2014 को "हिम-दीप":चर्चा मंच:चर्चा अंक:1552 पर.

    उत्तर देंहटाएं
  4. कुछ रंग पक्के होते हैं, एक बार चढ़ गए तो उतरते नहीं

    उत्तर देंहटाएं
  5. कुछ रंग
    उम्‍मीद की हथेलियों पर
    घुल कर छाप छोड़ देते है...
    बहुत सुन्दर...
    होली मुबारक हो :-)

    सस्नेह
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  6. भीगे भीगे रंग
    भीगा भीगा सा मन
    बन जाता है आत्मीय
    मीठे अलफ़ाज़ से

    बहुत खूबसूरत रचनाएँ । होली की शुभकानाएं

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत खूब.............................होली मुबारक!

    उत्तर देंहटाएं
  8. कुछ रंग
    उम्‍मीद की हथेलियों पर
    घुल कर छाप छोड़ देते है
    इन पलों में ताउम्र के लिए
    फिर नहीं चढ़ता
    कोई रंग दूजा
    मन की दीवारों पर !!!!
    ...वाह...बहुत भावपूर्ण अभिव्यक्ति...लाज़वाब...होली की हार्दिक शुभकामनायें!

    उत्तर देंहटाएं
  9. आपकी इस प्रस्तुति को आज कि अल्बर्ट आइंस्टीन और ब्लॉग बुलेटिन में शामिल किया गया है। कृपया एक बार आकर हमारा मान ज़रूर बढ़ाएं,,, सादर .... आभार।।

    उत्तर देंहटाएं
  10. होली की रंगबिरंगी खुशियाँ जीवन में आयें।

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत उम्दा प्रस्तुति...!
    होली की ढेरों शुभकामनायें।

    RECENT POST - फिर से होली आई.

    उत्तर देंहटाएं
  12. सभी को रंगों से सराबोर होली की शुभकामनायें...

    उत्तर देंहटाएं
  13. प्रेम के रंग तो ऐसे ही होते हैं उतारते नहीं ताउम्र ...
    होली कि बधाई ...

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत सुन्दर...
    होली पर्व कि हार्दिक शुभकामनाएँ .... :-)

    उत्तर देंहटाएं
  15. वाह...सुन्दर और सामयिक पोस्ट...
    आप को होली की बहुत बहुत शुभकामनाएं...
    नयी पोस्ट@हास्यकविता/ जोरू का गुलाम

    उत्तर देंहटाएं
  16. सच में कुछ रंग हमेशा के लिए अपनी छाप छोड़ देते हैं ... होली की शुभकामनाएं....

    उत्तर देंहटाएं
  17. रंगोत्सव पर मंगलकामनाएं स्वीकार करें !! :)

    उत्तर देंहटाएं
  18. एक ही रंग पक्का ऐसा चढ़े कि फिर दूजा रंग न चढ़े !

    उत्तर देंहटाएं
  19. रंग आतिशी हो गए हैं सारे
    गुलाल भंग के नशे में है
    तभी तो हवाओं में
    उड़ रहा है
    चाहता है होली के दिन
    ढोलक की थाप पर
    हर चेहरा गुलाबी हो जाए !
    .....

    खूबसूरत बिम्ब समेटती शानदार रचना। अप्रतिम रूपकत्व लिए।

    उत्तर देंहटाएं
  20. सुन्दर रंगों से सजी प्यारी कविता । आपको होली की रंगभरी बधाई ।

    उत्तर देंहटाएं
  21. जैसे प्यार के रंग में रंग गया हो मन...बहुत अरसे बाद आना हुआ आपको बहुत-बहुत बधाई.....

    उत्तर देंहटाएं
  22. वाह...सुन्दर और सामयिक पोस्ट...
    नयी पोस्ट@चुनाव का मौसम

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
मन को छू लें वो शब्‍द अच्‍छे लगते हैं, उन शब्‍दों के भाव जोड़ देते हैं अंजान होने के बाद भी एक दूसरे को सदा के लिए .....