शुक्रवार, 20 दिसंबर 2013

प्रेम !!!!!

प्रेम एक प्रार्थना है
जिसके पीछे सब हैं कतार में
कोई शब्‍दों से व्‍यक्‍त करता है
तो कोई मौन रहकर
प्रेम
बंसी के बजने में हो जाता है
धुन मीठी
तो कई बार हो जाता है प्रेम
विष के प्‍याले में अमृत
...
प्रेम एक आहट है
जो बिना किसी पद़चाप के
शामिल हो जाता है जिंदगी में
धड़कनों का अहसास बनकर
प्रेम विश्‍वास है
जब भी साथ होता है
पूरा अस्तित्‍व
प्रेममय हो जाता है
....
प्रेम जागता है जब
नष्‍ट हो जाते हैं सारे विकार
अहंकार दुबक जाता है
किसी कोने में
क्रोध के होठों पर भी
जाने कैसे आ जाती है
एक निश्‍छल मुस्‍कान
प्रेम का जादू देखो
लोभ संवर जाता है
इसकी स्‍मृतियों में
....
ऐसी ही घड़ी में होता है
जन्‍म करूणा का
जहां प्रेम हो जाता है नतमस्‍तक
वहाँ दृष्टि होती है
सदा ही समर्पण की
समर्पण सिर्फ एक ही भाव
भरता है कूट-कूट कर
मन की ओखल में
विश्‍वास की मूसल से
जिनमें मिश्रित होते हैं
संस्‍कार परम्‍पराओं की मुट्ठी से
जो एक ताकत बन जाते हैं
हर हाथ की
तभी विजयी होता है प्रेम
उसके जागने का, होने का,
अहसास सबको होता है
नहीं मिटता फिर वो
किसी के मिटाने से
.... 

18 टिप्‍पणियां:

  1. प्रेम को परिभाषित करती अति उत्तम रचना ....
    :-)

    उत्तर देंहटाएं
  2. प्रेम का नाम लेने से ही सबकुछ प्रेममय हो जाता है .......
    खुबसूरत रचना !

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुंदर रचना.
    टेक्स्ट कलर धुंधले हो गए हैं.सम्पादित कर लें.

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल शनिवार (21-12-2013) "हर टुकड़े में चांद" : चर्चा मंच : चर्चा अंक : 1468 पर होगी.
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है.
    सादर...!

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सुंदर अभिव्यक्ति,भावपूर्ण पंक्तियाँ ...!
    =======================
    RECENT POST -: हम पंछी थे एक डाल के.

    उत्तर देंहटाएं
  6. प्रेम को परिभाषित करना बहुत कठिन काम है परन्तु आपके शब्दों में काफी पकड़ है |बहुत अच्छा लगा !
    नई पोस्ट मेरे सपनों का रामराज्य ( भाग २ )

    उत्तर देंहटाएं
  7. क्रोध के होठों पर भी होती है निश्छल मुस्कान , प्रेम ऐसा ही होता है … सच में !
    भावपूर्ण !

    उत्तर देंहटाएं
  8. प्रेमानुभूति से लबरेज़ रचना

    उत्तर देंहटाएं
  9. प्रेम के अलग अलग बिन्दु पर सभी एक ही बात कहते ... प्रेम की गहराई नापते ...
    लाजवाब रचना ...

    उत्तर देंहटाएं
  10. प्रेम को खूबसूरती से प्रस्तुत किया है .........खूबसूरत रचना

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत खूब !!
    फॉण्ट का रंग बदलें , या बैकग्राउंड रंग बदलिए , पढने में समस्या !!

    उत्तर देंहटाएं

  12. समर्पण सिर्फ एक ही भाव
    भरता है कूट-कूट कर
    मन की ओखल में
    विश्‍वास की मूसल से
    जिनमें मिश्रित होते हैं
    संस्‍कार परम्‍पराओं की मुट्ठी से
    जो एक ताकत बन जाते हैं
    हर हाथ की............. बहुत सुन्दर !!!
    फॉन्ट कलर के लिए मैं भी कहना चाहती थी

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
मन को छू लें वो शब्‍द अच्‍छे लगते हैं, उन शब्‍दों के भाव जोड़ देते हैं अंजान होने के बाद भी एक दूसरे को सदा के लिए .....