शुक्रवार, 2 अगस्त 2013

किसी याद का फिरकनी की तरह घूमना !!!!













एक दिन में ले आई लम्‍बी डोर
नापने लगी कद यादों का
वो झल्‍लाईं बावली हुई है
हमारा कद नापो मत
हमारी बढ़त रूक जाएगी
मैं मुस्‍कराई
ठहर कर सोचने लगी
यादों की बढ़त के बारे में
लगी जब फिसलने
वे रेत की तरह मेरी हथेली से
जाने क्‍यूँ मैं इन्‍हें थाम कर रख ना पाई
एक जगह बस घूमती रहीं
ये मेरे इर्द-गिर्द या फिर
मैं ही इनसे दूर जा ना पाई !!!
....
हर मन में यादों का एक गोलाम्‍बर होता है,
हर याद करती है जाने कितनी बार
परिक्रमा उसकी
जिसके इर्द-गिर्द हम
कितनी यादों को क्रम से खड़ा कर देते हैं
सब अपनी बारी आने तक
हमारी ओर ही तकती रहती हैं
किसी याद का फिरकनी की तरह घूमना
मन का बेचैन कर देता है !!!!
...

35 टिप्‍पणियां:

  1. करता तो है बेचैन यादों का कारवां, पर यही एकमात्र संबल भी तो है हमारा!

    बेहद सुन्दर लिखा है!

    उत्तर देंहटाएं
  2. कड़ी बनती जीवन की ....!!
    यादें बेचैन करतीं हैं ...और चैन भी देती हैं ....

    उत्तर देंहटाएं
  3. यादों का कद-
    प्रभावी बेहद -
    आभार आदरेया-

    उत्तर देंहटाएं
  4. यादों का सिलसिला रोकने के कोशिश में तो और बढेगी ……रेत की तरह फिसलते चली जाएगी........!!
    चैन और बेचैन दोनों तो इसी से है.....

    उत्तर देंहटाएं
  5. यादों से जितना जंग करो उतना तंग करती हैं.....

    बहुत सुन्दर विचार..
    सस्नेह
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  6. आपने लिखा....हमने पढ़ा....
    और लोग भी पढ़ें; ...इसलिए शनिवार 03/08/2013 को
    http://nayi-purani-halchal.blogspot.in
    पर लिंक की जाएगी.... आप भी देख लीजिएगा एक नज़र ....
    लिंक में आपका स्वागत है ..........धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  7. हर मन में यादों का -------कितनी यादों को खड़ी कर देते हैं |बहुत सुन्दर पंक्ति |
    बढ़िया रचना |
    आशा

    उत्तर देंहटाएं
  8. yaden hoti hi aisi hain ki agar ek baar man ke patal par dastak de gayi to unake gird hi ghoomate rahiye. bahut sundar dhang se bhavon ko prastut kiya hai. ek bahtareen rachana.

    उत्तर देंहटाएं
  9. किसी याद का फिरकनी की तरह घूमना
    मन का बेचैन कर देता है !!!!

    वाह बहुत सुंदर फलसफा है यादों का..

    उत्तर देंहटाएं
  10. यादों की सटीक व्याख्या.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  11. किसीके रोके कहाँ रुका है इन यादों का कारवां … कभी चैन देती हैं तो कभी बैचेनी, लेकिन हैं तो सबसे ज्यादा अपनी ... हर पल साथ निभाती हैं ये यादें। … बहुत खूबसूरती से शब्द दिए हैं अहसासों को

    उत्तर देंहटाएं
  12. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा शनिवार(3-8-2013) के चर्चा मंच पर भी है ।
    सूचनार्थ!

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहुत सुन्दर गहन अभिवयक्ति....

    उत्तर देंहटाएं
  14. सही चित्रण किया है आपने यादों का ...गोलाम्बर !!!

    उत्तर देंहटाएं
  15. बहुत सुन्दर गहन अभिवयक्ति.!!

    उत्तर देंहटाएं
  16. किसी याद का फिरकनी की तरह घूमना
    मन का बेचैन कर देता है !!!!
    यादें जीवन को मायने देती हैं और संचित हैं तो जीवन का उद्देश्य भी बहुत सुन्दर प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  17. किसी याद का फिरकनी की तरह घूमना....बहुत सही है बिंब..सुंदर रचना

    उत्तर देंहटाएं
  18. बहुत सुन्दर प्रस्तुति.

    उत्तर देंहटाएं
  19. वाह बहुत खूब ...कुछ मन की बाते

    उत्तर देंहटाएं
  20. वाह , बहुत सुंदर


    यहाँ भी पधारे

    गजल
    http://shoryamalik.blogspot.in/2013/08/blog-post_4.html

    उत्तर देंहटाएं
  21. यादें ... उम्र से लंबी और सागर से गहरी ...
    इनसे दूर जाना कहां संभव ...

    उत्तर देंहटाएं
  22. यादें और उनका फ्रेम दोनों नए हैं. बहुत खूब.

    उत्तर देंहटाएं
  23. बहुत सुन्दर यादें अक्सर तडपाती हैं

    उत्तर देंहटाएं
  24. यादें कहाँ उम्र भर पीछा छोड़ती हैं...बहुत सुन्दर

    उत्तर देंहटाएं
  25. यादें याद आती है, बहुत सुंदर

    उत्तर देंहटाएं
  26. यादों की बातें कहाँ से शुरू होकर कहाँ तक चली आती हैं!

    उत्तर देंहटाएं
  27. पहले वक्त हमारे हाथों से रेत की तरह फिसलता है..फिर धीरे-धीरे उस वक्त से मिली यादें भी ऐसे ही फिसल जाती हैं..मार्मिक प्रस्तुति।।।

    उत्तर देंहटाएं
  28. यादें घूमती रहती हैं खुद के चारों ओर .... बहुत सुंदर प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  29. आपकी इस प्रस्तुति को शुभारंभ : हिंदी ब्लॉगजगत की सर्वश्रेष्ठ प्रस्तुतियाँ ( 1 अगस्त से 5 अगस्त, 2013 तक) में शामिल किया गया है। सादर …. आभार।।

    कृपया "ब्लॉग - चिठ्ठा" के फेसबुक पेज को भी लाइक करें :- ब्लॉग - चिठ्ठा

    उत्तर देंहटाएं
  30. सदा जी , इस कविता ने बहुत कुछ छु लिया .. शब्दों का अनूठा प्रयोग है ..
    दिल से बधाई स्वीकार करे.

    विजय कुमार
    मेरे कहानी का ब्लॉग है : storiesbyvijay.blogspot.com

    मेरी कविताओ का ब्लॉग है : poemsofvijay.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
मन को छू लें वो शब्‍द अच्‍छे लगते हैं, उन शब्‍दों के भाव जोड़ देते हैं अंजान होने के बाद भी एक दूसरे को सदा के लिए .....